What is JacketFlap

  • JacketFlap connects you to the work of more than 200,000 authors, illustrators, publishers and other creators of books for Children and Young Adults. The site is updated daily with information about every book, author, illustrator, and publisher in the children's / young adult book industry. Members include published authors and illustrators, librarians, agents, editors, publicists, booksellers, publishers and fans.
    Join now (it's free).

Sort Blog Posts

Sort Posts by:

  • in
    from   

Suggest a Blog

Enter a Blog's Feed URL below and click Submit:

Most Commented Posts

In the past 7 days

Recent Comments

JacketFlap Sponsors

Spread the word about books.
Put this Widget on your blog!
  • Powered by JacketFlap.com

Are you a book Publisher?
Learn about Widgets now!

Advertise on JacketFlap

MyJacketFlap Blogs

  • Login or Register for free to create your own customized page of blog posts from your favorite blogs. You can also add blogs by clicking the "Add to MyJacketFlap" links next to the blog name in each post.

Blog Posts by Date

Click days in this calendar to see posts by day or month
<<August 2015>>
SuMoTuWeThFrSa
      01
02030405060708
09101112131415
16171819202122
23242526272829
3031     
new posts in all blogs
Viewing: Blog Posts Tagged with: blog, Most Recent at Top [Help]
Results 1 - 25 of 1,538
1. What a week!!!

Honestly, I’m not even sure how to recap this week.

See, I had to fly to New York for a conference, but since SWAN  was pubbing on Tuesday, I decided to stay for a few extra days, to hang out with my best friend (since second grade, to whom the book is dedicated), and  celebrate/lunch with my truly fantastic agent (who also happens to be one of my best friends at this point too).  I’ve never been able to do anything like that before.

And oh, it was wonderful!

We popped by Books of Wonder, to see the book in the wild.  A total thrill!  I’ve never done an event there, and always wanted to visit.

After that, I signed copies…

Then we had a ridiculous lunch and sipped a little bubbly, because WHY NOT?  Ooh la la!

We scooted a few subway stops, to catch up with my friend Kate Milford, at McNally Jackson, where she works (though you may know her better  for her amazing award-winning books or her adorable son, Griffin).

I signed MORE copies, but mostly I played “Rabbits” with Griffin, because I HAVE MY PRIORITIES STRAIGHT!

 

But I also bought a stack of books, of COURSE, because it was THAT kind of store, and I couldn’t resist the graphic novels shelf.

After a bit, I noticed that  my feet hurt (I don’t often dress up in heels), so we headed home to eat pizza, read comics, and watch TV in pajama pants, AS ONE DOES ON PUB DAY.  Oh, the glamour!

Now I’m home again, in Atlanta, cuddling with my kids, but I have to say, this has been an amazing week. I’m so grateful to everyone who has made it possible. Everyone at Chronicle, most of all. They’ve been truly incredible in their support and creativity and excitement for this book.  But I’m also so grateful to all the friends, librarians, booksellers, teachers, neighbors, bloggers, everyone everyone everyone who has written to say MAZEL TOV.

THANK YOU TO YOU. Seriously.  Nothing has ever felt quite like this before.  It’s been pretty special.  Like having an extra birthday.
I’m a lucky girl.

0 Comments on What a week!!! as of 8/20/2015 12:04:00 AM
Add a Comment
2. Max’s “Render” Anticipated by NY Times

Maximus Clarke's Render in Development

Friday was a super-sad day. But one really nice thing: at the airport on the way to our friend’s memorial, we got to pick up a copy of The New York Times with a mention of Max’s latest.

“The Brooklyn artist Maximus Clarke addresses a surveillance society in ‘Render,’ three panels with human figures that have to be viewed through 3-D glasses — and, in keeping with the theme, park rangers will be milling around.”

See it at the the old fort on Governor’s Island, as part of the Governor’s Island Art Fair, in September!

Add a Comment
3. Travel in peace, old friend

 

Nelson
Nelson Almeyda, one of my best friends, died today after living with cancer for more than a year. He was one of the most big-hearted people I’ve known, one of the funniest, sharpest, most expressive and most beloved, and also one of the most private. He was in fact so private about his troubles, so invested in being the one who helped other people and not needing help himself, that even now it almost feels like a violation to be posting this here.
My thoughts are with his wife and young daughter, and the rest of his family, and also with all his many friends, particularly those who were with him at the end. If you’re Googling around, bereft, because you knew him and cared about him, please rest assured he cared about you too, no matter how long it’s been since you were in touch.
In surface ways Nelson and I didn’t have much in common. We had extremely different temperaments and few shared interests or friends, and only one of us was an irredeemable nerd, and it wasn’t him. But there was always an intuitive understanding between us, a sort of emotional affinity that I’ve had with very few people.

 

As Max says, there aren’t enough people like Nelson in the world. I will love and miss him always.

Add a Comment
4. Grieving on the internet

 

There’s something beautiful about grieving on the internet, all of us offering up our losses to each other, hoping to be touched and understood by each other when we’re at our lowest and most vulnerable, and there’s also something strange about expressing grief here. No matter how true and deep our sadness, when we offer it up online, it can get confusing. It can feel less real, but also more final.

My heart is heavy with sadness and love, for an old friend and his family, and for all of us.

Add a Comment
5. Jacket Art

I’m happy to announce that The Story I’ll Tell is well on its way to becoming a real, physical book this autumn. I can now share the cover with you (design by Stephanie Bart-Horvath.) And without further ado:

SIT_jacketTa-da! What do you think?

I’ve decided to kick off the countdown to publication with a series of posts about my process and the different steps along the way, from ideas and thumbnails all the way up to final art. There will be some giveaways and freebies as well, so stay tuned for more.

In other news,my  friend and fellow illustrator Alice Ratterree is celebrating the release of a middle-grade book, Lilliput. The cover art is just gorgeous. Congratulations, Alice!

Nancy Tupper Ling (the author of the Story I’ll Tell) has another book to celebrate: Double Happiness was just released and I can’t wait to get my hands on a copy.

Does anyone else have any exciting news to share? I’d love to hear about it in the comments!

Add a Comment
6. Traffic

Traffic

आज गूगल सर्च के दौरान जब गूगल का साईन देखा तो समझ नही आया कि ये क्या है … उसमे ट्रैफिक लाईट बनी हुई थी और ट्रैफिक भी था. पर भला हो नेट का बहुत जल्दी पता चल गया कि आज ट्रैफिक लाईट का 100वा जन्मदिन है …

CLn_rSkUYAI4v9g (1)

सडक के ट्रैफिक के साथ साथ सोशल साईटस पर हमारा भी ट्रैफिक बनाए रखिए … शुभकामनाएं !!! Best wishes !!!

The post Traffic appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
7. Up in the air I go flying again

 

 

Screenshot 2015-08-04 16.51.57

Writing so much about my early life recently has brought back a slew of memories, and with them some of the first poems I memorized at school. I taught this one, by Jessica Nelson North, to Autumn when she was a girl, and she loved it.

 

Three Guests

 

I had a little tea party
This afternoon at three.
‘Twas very small—
Three guests in all—
Just I, myself and me.

 

Myself ate all the sandwiches,
While I drank up the tea;
‘Twas also I who ate the pie
And passed the cake to me.

I haven’t thought much about the other that’s been knocking around in my head — Robert Louis Stevenson’s “The Swing” — since I learned it way back when. Now I can’t wait to teach them to my niece (three) and nephews (both four) the next time I visit.

Also, to try to describe a swing with a view of “Rivers and trees and cattle and all / Over the countryside” — an exotic thing to imagine even when I was young.

 

Add a Comment
8. Cartoon – Justice

cartoon justice by monica gupta

Cartoon – Justice

जिस तरह से संसद नही चलने दी जा रही और हर रोज लाखों रुपयों का नुकसान हो रहा है ऐसे मे न्याय इन लोगो को नही न्याय मुझे चाहिए !!! I WANT JUSTICE !!!!

 

The post Cartoon – Justice appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
9. My mom’s letters

My mom's letters about me

My mom was something like a mommy-blogger, in 1973. From the time I was two to two-and-a-half, she wrote these astoundingly detailed letters about our lives and me and Miami, typed them up in quintuplicate, and mailed them to the whole family. I have multiple copies of some of them.

They’re an amazing resource for my book, and they prove, as she’s always claimed and I’ve doubted, that I was talking in complete sentences when I turned two. Apparently I was also always concerned with remembering everything that happened.

On the one hand the letters make me happy, because I can verrrry hazily remember some of what she describes, and because they’re so full of pride and love, but they also make me sad, because I can see how lonely she was.

Add a Comment
10. छोटी बातें

ऐसा भी होता है …!!!!

friends photo

छोटी बातें

शीना और गीता बहुत अच्छी सहेलियां थी. पर अचानक एक दिन ना जाने क्या हुआ क्या नही पर दोनो की आपसी बोल चाल बंद हो गई. यह बात लगभग 2 महीने तक चली और जब उनका आमना सामना हुआ तो हकीकत जान कर दोनो बहुत झेंपी. असल मे ,हुआ यू कि एक शाम शीना बाजार जा रही थी और गीता अपने घर की बालकनी मे खडी थी. मुस्कुराते हुए शीना ने उसे हाथ हिलाया पर उसने ना तो कोई जवाब दिया और ना स्माईल.

शीना को बहुत गुस्सा आया और मन ही मन उसने उससे कुट्टा कर ली कि बहुत अकड आ गई है उसमे. एक दो बार गीता के फोन भी आए पर उसने जवाब नही दिया. वही एक दिन गीता को बाहर जाना था और उसने देखा कि शीना पौधो को पानी दे रही है उसने प्यार से हाथ हिलाया पर शीना यथावत पानी ही देती रही.बस दोनो मे दूरियां बढती गई.

एक दिन दोनो का अनयास ही आखों के डाक्टर के यहा आमना सामना हुआ.बातो बातो मे जब बात खुली तो झेंप इसलिए आई कि बात कुछ भी नही थी.असल में, दोनो की नजर कमजोर हो गई थी. हल्के अंधेरे मे दोनो को ही दिखाई नही दिया और एवई ही बात का बतंगड बन गया.
ऐसे ना जाने कितने उदाहरण है जिसमे बात कुछ भी नही होती और दिलो मे खटास बेवजह ही पैदा हो जाती है.चाहे माता पिता मे हो, बच्चो मे हो या दोस्तो मे हो या अपने दफ्तर मे हो.अगर ऐसे मे कभी भी थोडा भी संदेह हो तो बजाय बोलचाल बंद करने के खुल कर बात कर लेना बेहतर है. दूसरे लोग ऐसे मे ना सिर्फ मजाक उडाते है बल्कि आनंद भी लेते हैं तो किसी को क्यो मौका देना … वैसे आप तो ऐसा कुछ नही कर रहे होंगे अगर कर रहे हैं तो बिना समय गवाए बात कर लीजिए प्लीज … !!!

 

 

 

The post छोटी बातें appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
11. समय बहुत बलवान

समय बहुत बलवान

बहुत समय से एक जानकार अपनी बिटिया की शादी का सोच रहे थे . बहुत लडके देखे, अखबारो के विज्ञापन और नेट पर भी सर्च किया पर एक साल होने को आया पर बात नही बनती दिख रही थी. आज फिर उनकी बिटिया को  देखने लडके वाले आ रहे थे. घर पर जबरदस्त इंतजाम किया गया था. परदे, मंहगे सोफे, भव्य शो पीस,क्राकरी और भी ना जाने क्या क्या.  दस तरह की मिठाई , बीस तरह की नमकीन और फल और ड्राई फ्रूट का तो पूछो ही मत.. यानि  शादी मे रुपया पैसा जैसी कोई रुकावट नही थी. करोडों की शादी होनी थी. लडके वाले आए. खूब खातिर दारी भी हुई  पर   पर पर बात नही बनी.

ना लडकी में कोई कमी थी और न ही उस परिवार का कोई क्रिमिनल रिकार्ड … तो फिर आखिर क्या हुआ कि बात नही बनी…

इसका बस  यही कारण था कि कमरे मे लगी महंगी दीवार घडी रुकी हुई थी और कैलेंडर भी फरवरी  महीने का ही लटका हुआ फडफडा रहा था. ये बात एक कमरे की नही थी सभी कमरों में महंगी से महंगी घडी थी पर सही समय कोई नही दिखा रही थी . जिस कमरे में लंच था उस कमरे में तो सन 2014 का कैलेडर टंग़ा हुआ था.

शायद  लडकी वालो के लिए रुपया पैसा ही सब कुछ था और लडके वालो की सोच  उनसे हट कर  थी.

वैसे बात शादी ब्याह की न भी हो तो हमें अपने घर का समय यानि दीवार घडी का समय और कैलेंडर सदा अपडेट रखने चाहिए … समय की कीमत समझनी बेहद जरुरी है … वैसे आप तो ऐसे नही होंगें … अरे आप कहां चले .. ?? ओह .. आज पहली अगस्त है और आपने महीना बदला नही था अभी तक :)

The post समय बहुत बलवान appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
12. बहुत बदल गया है वो

 

wall clock photo

बहुत बदल गया है वो !! हालांकि पिछ्ले कुछ दिनो
से उसमे बदलाव तो महसूस हो रहा था.सिर्फ मै ही नही मेरे आस पास के लोगो ने
भी इस बदलाव को महसूस किया पर खुल कर नही कहा. बस दबी दबी आवाज मे उन लोगो
की फुसफुसाहट सुनती रही.

पर देखते ही देखते अचानक इतना बदलाव आ जाएगा
विश्वास सा नही हो रहा.वही दूसरी तरफ बार बार मन एक ही बात कह रहा था कि परिवर्तन ही
नियम है और मुझे  सहज ही स्वीकार कर लेना चाहिए.

बहुत सोच विचार के मैने अपना मन पक्का किया कि अगर यही सही है तो ठीक है मैं भी तैयार हूं
और “मौसम” के इस बदलाव का स्वागत करती हूं. सुबह शाम की हल्की हल्की ठंडक
और शाम का जल्दी ढल जाना और सुबह का देरी से आना… सर्दी के “मौसम” के बदलाव की
मीठी सी दस्तक है. .. है ना !!

आक्छी !!! आक्छी !!!

अरे क्या हुआ? जी हां, मै तो मौसम के बदलाव की ही बात कर रही थी और आप कुछ और समझ बैठे !!!

The post बहुत बदल गया है वो appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
13. Three chances to win a signed copy of Green Valentine!

IMG_9738

To celebrate the release of #GreenValentine I am giving away three SIGNED copies – one each on Instagram, Tumblr and Twitter!

Official publication page.

In Melbourne? Come to the launch and get a signed book and free organic vegetable seedlings!

0 Comments on Three chances to win a signed copy of Green Valentine! as of 1/1/1900
Add a Comment
14. Facebook Friend

facebook photo

Facebook Friend

एक अच्छी पुस्तक हजार दोस्तों के बराबर होती है और एक अच्छा दोस्त पूरी की पूरी लाईब्रेरी होता है. हम खोजते रहते हैं ऐसे दोस्त को जो हमारे दुख, दर्द समझे  और हमारी बाते सुने और हमारा साथ दे…

फेसबुक मित्र अलग किस्म के होते है पहली बात तो लडकी मे छिपे लडके या लडके मे छिपी लडकी.. वो नही होते जो दिखाई देते हैं यानि असल फोटो से शायद बहुत अलग… वैसे एक बात मैं पहले ही साफ कर दूं कि अपवाद हर क्षेत्र में होते हैं अगर आपके फेसबुक पर अच्छे अनुभव रहे हैं तो जानकर बहुत खुशी हुई …

 

facebook photo

 

हां तो मैं बात कर रही हू फेसबुक मित्र की… एक फेसबुक सहेली ने मुझसे किसी के बारे मे पूछा तो मैने अनभिज्ञता जाहिर की क्योकि शायद वो मेरी मित्र लिस्ट मे नही था. फेसबुक सहेली ने बताया कि वो पिछ्ले एक साल से फेसबुक मित्र सबसे अच्छा था वो इसलिए कि जब भी वो कुछ पोस्ट करती है वो सबसे पहले लाईक करता था और कमेंट तो करता ही करता था. जन्मदिन आने से महीना पहले विश करना शुरु कर देता था. वाल पर कम ही लिखता था जो करता था मैसेज मे ही करता था. अपने बारे मे कभी नही बताया और न ही अपनी कभी फोटू दिखाई ये भी नही पता की वो देश के किस कोने मे रहता था पर था वो सबसे अलग और सबसे अच्छा हमेशा गुड मार्निग और गुड नाईट करके ही जाता था.

मेरी सहेली अभी तक परेशान है क्योकि अब उसका प्रोफाईल भी नही दिख रहा शायद डिएक्टिवेट कर दिया है … पर उसे अभी भी इंतजार है पहली लाईक और पहला कमेंट का … फिलहाल उसका मन रखने के लिए अब ये काम मैं कर रही हूं … क्योकि आखिर वो भी तो मेरी फेसबुक मित्र है :)

 

The post Facebook Friend appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
15. New Bench

cartoon new banch by monica gupta

New Bench …

Three-judge SC bench to hear Yakub Memons plea today – Livemint

The curative writ petition filed by the 1993 Bombay blasts convict Yakub Memon will now be considered by a three-judge bench of the Supreme Court on Wednesday.

The decision was taken by the chief justice of India (CJI) H.L.

Dattu after a two-judge bench of justices Anil R. Dave and Kurian Joseph gave a split verdict on Tuesday.

Senior counsel Raju Ramachandran, appearing on Memon’s behalf, mentioned the matter before a five-judge bench headed by Dattu.

“I will constitute a bench,” Dattu said when the matter was presented before him but he refused to stay the execution.

Dave said the matter should be heard immediately, preferably on Wednesday, given the urgency of the issue. Read more…

The post New Bench appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
16. Art Done Right

Art Done RightWherein I visit an artist who marches to a different dromenon.

Dromenon, an old word that might change the way we make art.

Dromenon: art done right.

Art done so right that it not only provokes the gods but leaves them with no choice but to show up at your launch.

Meet artist Ramon Kubicek.

Ramon Kubicek believes in all this dromenon business. Or so I discover when I bust into his studio as he’s buzzing around in preparation for an upcoming exhibition.

I’m met with bees.

“Bees of the Invisible,” says Kubicek. “It’s my theme, borrowed from the poet Rainer Maria Rilke.”

Sure enough, bees are depicted in many of the images. Bees and humanoids and cityscapes and maps and collage and black holes and deep seas and all of a colour palette that’s deceptively happy.

“Bees make us think of the sweetness of life,” says Kubicek, “so I’m hoping we’ll ask ourselves what we’re doing with our own lives. What is our contribution? What do we produce?”

One honey-coloured canvas Kubicek calls “Melissae,” who in Greek mythology were bee-priestesses, nymphs that nursed the infant Zeus not on milk but honey. Melissa means Queen Bee.

Kubicek explains that Rilke saw artists as bees gathering experience from the material world and then returning with it to “the great golden hive of the Invisible.”

Feelings, imagination, and spirit—that’s the hive—the inner life of the artist.

The invisible inner life of the artist

“Working with materiality until it becomes a part of our inner lives, and then offering it up to the world as “honey” or “art,” is not about making money or a big social splash. It is about receiving, and then giving to others, to the gods, a gift.”

Since our creativity is a gift, we artists are obliged to gift our works back to the gods.

Art returned to the source—that’s art done right.

That’s dromenon.

The best art is transformative

The ancient Greeks believed that dromenon compelled the gods to come down from the mountain and mingle with the hoi polloi. Think about it—wherever people gather to appreciate good art—at exhibitions, live performances, book launches—the sacred is present.

“What a wonderful basis for the making of art!” says Kubicek.

Kubicek is sincere. I have long known him as a writer and artist who believes in the transformative power of art.

“People went to the Greek drama festivals to see their favorite plays,” Kubicek says. “And in the process they might experience catharsis and healing.”

And why not? Rubbing shoulders with the gods, something might actually rub off. A little godliness, perhaps. Whatever godliness means to you.

What does godliness mean to you?

To me it means taking myself less seriously. Not taking things personally. And seeing the big picture. All in aid of transcending human pettiness. Or as I like to say, to unselve myself.

I show up at the opening reception at the Gibsons Public Art Gallery to see if Kubicek has provoked the gods with his art.

I ask a white-haired gentleman if he’s a god. “Farthest thing from it,” he says. So I hang out near my favourite canvases hoping for a god-spotting.

kubicek-ship-of-foolsI like “Ship of Fools.”

I see people in boats, things floating on water—or is it air?

“It speaks of a voyage,” Kubicek explains. “We sense a journey, physical or spiritual.”

Kubicek points out people left behind. “The most beautiful moments are about loss,” he says. “The best moments are fleeting, such as a child growing up, or a sun setting.”

Meaning what?—that loss and transience are blessings?

Bees of Invisible“Bees of the Invisible” features an ominous vortex.

“It’s the dark centre of something where we might vanish and be transformed,” says Kubicek.

I see strange letters in the composition. “The Aramaic alphabet,” he says, “the language of Jesus.”

All very mysterious, leaving me scratching my head, as if life itself had a secret centre we are not meant to easily comprehend.

This is Kubicek’s “honey”—a vivid and mysterious yet playful take on our transient existence.

Says Kubicek:

“I like Rilke’s articulation—art and honey. It might be easy to see each as non-essential, until one imagines [bees] gone from the world. Today, we live in a time of ecological stress and our heedless treatment and killing of bees threatens both the natural world and our own survival. This mistreatment exists in parallel with our loss of inner life and our confusion about the role of art.

DSCN6140I’m still looking for any sign of the gods.

Am I missing something?

Let me know if you see one.

And whoever this creature is — does anyone have her phone number?

 

DSCN6119But I leave the art gallery buzzing with a certain sweet contentment.

Gods or no gods, Kubicek has done something right.

DSCN6147

Add a Comment
17. India Vision 2020

ApJ by Monica gupta

 

India Vision 2020

अचानक कलाम साहब की खबर सुनकर ….. !!!! कलाम साहब से मैं बहुत बातो से प्रभावित थी. जिनमे से एक है उनकी अनमोल बाते… बहुत समय पहले मैने कही पढा था कि एक अच्छी पुस्तक हजार दोस्तों के बराबर होती है और एक अच्छा दोस्त पूरी की पूरी लाईब्रेरी होता है… बाद में मुझे पता चला कि ये तो कलाम साहब ने कहा है … तब से मैं उनके और भी विचार पढने लगी… कुछ विचार जो हमेशा जहन मे रहते हैं वो हैं …सपने वो नही जो नींद मे देखे जाए सपने वो हैं जो आपको सोने ही न दे… किसी को हराना बहुत आसान है पर किसी को जीतना बहुत मुश्किल … एक उन्होनें कहा था कि मां अपने बच्चे को किसी से भी नौ महीने ज्यादा जानती है क्योकि नौ महीने वो गर्भ में रहता है ऐसे न जाने कितनी अच्छी बातें हैं जो हम सभी के जहन मे सदियों तक रहेगी … आपको नम आखों से सादर नमन… (अगर आपको भी उनका कोई विचार बहुत अच्छा लगा हो तो जरुर शेयर कीजिए हम सभी के साथ .

 

Even In Death, Kalam Relied His Last Hopes on Students for Vision 2020 -The New Indian Express

The missile man might not be there anymore, but it is our duty to make his dreams live on. As a writer, his books be it ‘Wings of Fire’, ‘Ignited Minds’, or ‘India 2020’, all of them were dedicated to motivate India’s young minds. Everyone might feel that Mr Kalam has left a huge void that cannot be filled, but hypothetically Mr Kalam would want most of the young generation to fill that void. Across the nation and world, people are pouring their respects and tributes. Every young person should feel today that only hard work towards the ideal change Mr Kalam sought for 2020 would be the satisfying tribute of all.

Lesser Known Facts About Dr APJ Abdul Kalam

10 Golden Quotes by APJ Abdul Kalam That Sought to Motivate Students

‘People’s President’ Abdul Kalam No More   Read more…

आप हमेशा हमेशा हमारे जहन में रहेंगें ….

सादर नमन्

The post India Vision 2020 appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
18. New Winter Book

We have just completed the final edits on our new winter story told in verse.  We are now beginning the illustration process.  We are so excited about this next story and can’t wait to hear your feedback.  Here’s a few hints about what our next story will be about.  Aren’t they just beautiful?  What other animal reminds you of winter?

Red Fox 3

 

 

Red Fox (Vulpes vulpes) on snow at sunset, Kamchatka, Russia

Red Fox (Vulpes vulpes) on snow at sunset, Kamchatka, Russia


Add a Comment
19. One Year Drop

student reading photo

One Year Drop

हमारे एक जानकार मित्र के बेटे ने आईआईटी क्लीयर न कर पाने के कारण आज एलान कर दिया है कि वो एक साल  ड्राप करेगा और कोचिंग ले कर अच्छा नतीजा लाएगा. अभी तक घर मे बहुत तनाव था. दो ग्रुप बन गए थे एक चाहता था कि ड्राप करे और दूसरा बिल्कुल नही चाह्ता था.

पर आज बेटे की इच्छा के आगे अब सब झुक गए हैं और मान गए हैं. अब बस उसे सलाह दी जा रही है कि एक साल बहुत मायने रखता है अब डट कर मेहनत करनी है और बहुत अच्छे कोचिंग मे दाखिला लेना है. इसी बीच मैने भी कुछ छानबीन की और पता लगाया कि ड्राप करने पर भी  अगर गम्भीरता से पढाई की जाए तो आईआईटी में अच्छी रैंक आ सकती है. एक जानकार के बेटॆ ने ड्राप करके पूरे साल कोचिंग ली और वो बहुत अच्छी रैंक से पास हो गया.

अब क्योकि निणर्य ले ही लिया है तो बार बार टोकने का क्या फायदा. अब बस ऐसा करना होगा कि वो बहुत आत्मविश्वास के साथ पढाई करे और अच्छा नतीजा ला कर दिखाए. बार बार यह भी कहने का कोई फायदा नही कि मोबाईल, टीवी सब बंद करके रख दो .. एक साल के लिए सब भूल जाओ.. आज के बच्चे समझदार है एक साक समय की क्या कीमत होती है शायद वो हमसे भी बेहतर समझते हैं …उन्हें बस अपने लक्ष्य पर केंद्रित होने दे.   उन्हें सही या गलता का हम से ज्यादा ज्ञान है.

टेंशन खत्म करने के लिए बच्चे की इच्छा का खुशी खुशी स्वागत करें और उस पर विश्वास बनाए रखें…

The post One Year Drop appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
20. आप का परिवारवाद

ak pariwarwaad by Monica gupta

 

आप का परिवारवाद… AAP भी आ ही गए परिवारवाद के लपेटॆ में अरविंद जी

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि केजरीवाल भी कांग्रेस के नक्शेकदम पर चलकर ‘जय हिंद जीजाजी’ कहने की परंपरा को आगे बढ़ा रहे हैं और कांग्रेस की‘‘जीजा जी’’ परंपरा को आगे ले जा रहे हैं। हालांकि केजरीवाल जी ने इस मुद्दे पर ट्विटर पर सफाई देते हुए कहा, ‘‘वो मेरे चाचा की साली के जीजा की भतीजी के ससुर की भांजी के भतीजे की साली के भाई की बेटी है।’’ उन्होंने कहा कि विपक्ष ये अफवाह फैला रहा है कि स्वाती मेरी बहन जोकि पूरी तरह से बकवास है।

 

Kejriwal on DCW row: Swati Maliwal not even remotely connected to me | The Indian Express

The Aam Aadmi Party on Wednesday refuted charges of nepotism in appointing Swati Maliwal, wife of party leader Naveen Jaihind, as the head of the Delhi Commission for Women (DCW), saying she had a long record of “activism” in different spheres.

Chief Minister Arvind Kejriwal was also quick to deny that Maliwal was related to him.

“Some media houses and opposition leaders alleging that Swati is my cousin. Complete nonsense. She is not even remotely connected,” Kejriwal tweeted.

“Some media houses and opposition leaders alleging that Swati is my cousin. Complete nonsense. She is not even remotely connected,” Kejriwal tweeted.

Some media houses n opp leaders alleging that swati is my cousin. Complete nonsense. She is not even remotely connected(1/2)

— Arvind Kejriwal (@ArvindKejriwal) July 15, 2015

The party said Maliwal has a long record of “activism” in different spheres and the appointment was done on “merit”. Kejriwal on DCW row: Swati Maliwal not even remotely connected to me | The Indian Express

The post आप का परिवारवाद appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
21. Digital India‎

cartoon no net by monica gupta

Digital India

हे ईश्वर !! डिजीटल इंडिया का सपना क्या सपना ही रह जाएगा… हमारा नेट से और नेट का हमसे ई मेल (मिलन) क्या कभी नही हो सकेगा ????

 

The post Digital India‎ appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
22. Margot Finke is Interviewed on Book Bites for Kids

Children’s author Margot Finke will talk about her new books on Book Bites for Kids. The show will air LIVE on blogtalkradio on Tuesday, July 21, 2015, at 2:30 p.m. central time.

To listen to the show, at airtime on July 21st, go to www.bookbitesforkids.com.

FINAL-COVER-PREVIEW-mic

0 Comments on Margot Finke is Interviewed on Book Bites for Kids as of 7/21/2015 11:35:00 AM
Add a Comment
23. ब्रांड एम्बेस्डर

ब्रांड एम्बेस्डर

पिछ्ले दिनों अमिताभ बच्चन जी सुर्खियों में थे कि उन्होने किसान चैनल के लिए 6.31 करोड रुपए लिए हैं जिसका बाद में खंंडन हुआ और फिर ये सुनने मे आया कि वो रुपए लौटा रहे हैं. मामला अभी गर्म ही था कि हरियाणा में बेटी बचाओ बेटी पढाओ अभियान की बैंड एम्बेसडर बनी परिणिती चोपडा का पता नही कितने पैसे लिए है?

कुछ समय पहले हमने भी एक छोटी सी संस्था बनाने की सोची थी और सोचा था कि जानी मानी हस्ती से बात करके उन्हे अपने साथ जोडेग़ें तो यकीनन बहुत लोग साथ जुड जाएगें. किसी के माध्यम से एक जानी मानी हस्ती से  बात भी पर मामला तब खटाई में पड गया जब वहां से पूछा गया कि आपका बजट कितना है. हम हैरान ?? हमने कहा जी, समाज सेवा का काम है ये और  आप तो वैसे भी समाज सेवा के काम करते दिखाई देते रहते हैं और साथ ही साथ आपके पास तो वैसे ही इतना नेम ऎंड फेम है…  अगर एक छोटा सा संदेश दे देंगें तो आपको क्या फर्क पडने वाला है ??? तब बिचोलिए ने बताया कि ये सैलीब्रेटी यकीनन समाज सेवा करती हैं पर बिना पैसे के एक कदम भी नही चलती. पहले पैसा बाद में कोई और बात… अब हमारा बजट तो था नही इसलिए हमें उनको वही नमस्कार करना पडा पर मन जरुर खटटा हो गया कि नाम बडा और दर्शन छोटे ….

आज अगर सैलिब्रेटी को लेकर पैसे का मुद्दा उठ रहा है तो यकीनन अच्छी बात है, किसी चीज का ब्रांड एम्बेसडर बनने में खुद की भी तो ब्रांडिंग होती है ऐसे में सरकारी पैसा किसलिए लुटाया जाए …ह हा हा !! हंसी इसलिए आ रही है कि ऐसा होगा नही क्योकि ये  बिना पैसे के कोई काम नही करेंगें इस बात में कोई किंतु परंतु या दो राय नही. हां वो अलग बात है कि पैसा किस तरह से लिया जाएगा कि समाज सेवा भी हो जाए और नाम भी खराब नही होगा…

 

BBC

डीडी किसान चैनल से पैसे लेने की बात से हालांकि अमिताभ बच्चन ने इंकार किया है लेकिन उनके प्रचार का कामकाज देख रही कंपनी – लिंटास, और किसान चैनल का कहना है कि बिग बी को मेहनताना दिया गया.

हालांकि अब कंपनी पैसा लौटाने की प्रक्रिया में है.

एक अंग्रेजी अख़बार में ख़बर छपी थी कि अमिताभ बच्चन ने किसानों के लिए शुरू किए गए सरकारी चैनल से साढ़े छह करोड़ रुपये से ज़्यादा का मेहनताना लिया है.

इसके बाद सोशल मीडिया और दूसरी जगहों पर ये सवाल पूछे जाने लगे कि क्या अमिताभ बच्चन को चैनल से पैसे लेने चाहिए थे, ऐसा करना जायज़ था?

बच्चन ने ट्वीट करके कहा कि उन्होंने डीडी किसान से किसी क़िस्म का मेहनताना नहीं लिया है.

फ़िल्मों में अभिनय के अलावा बच्चन ढेर सारी कंपनियों और उत्पादों के लिए विज्ञापन भी करते हैं. इनमें सरकारी विज्ञापन भी शामिल हैं.

ज़ाहिर है इन विज्ञापनों के लिए उन्हें मोटी रकम मिलती है.

किसान चैनल से पैसे लेने के विवाद पर किसान चैनल के प्रमुख नरेश सिरोही ने बीबीसी से बातचीत में कहा, “हमने लिंटास कंपनी को अमिताभ बच्चन से विज्ञापन कराने के लिए पैसे दिए थे.”

सिरोही का यह भी कहना था कि अब अचानक कंपनी ने यह कहकर पैसे लौटाने का फ़ैसला किया है कि अमिताभ ने पैसे लेने से मना कर दिया है.

लिंटास कंपनी ने भी इस संबंध में स्पष्टीकरण दिया और अपने बयान में पहले पैसे लेने और फिर लौटाने की बात कही है.

“डीडी किसान ने 31 मार्च, 2015 को औपचारिक रूप से हमें अमिताभ बच्चन के कार्यालय से बातचीत के लिए अधिकृत किया था. 12 मई को अमिताभ बच्चन के कार्यालय से हमें इसकी स्वीकृति मिल गई. उसके बाद हमने डीडी किसान चैनल के साथ काग़ज़ी कार्रवाई शुरू की और फिर डीडी किसान ने पैसे जारी किए.”

“श्री बच्चन ने सैद्धांतिक रूप से ये फ़ैसला लिया है कि राष्ट्र हित में इस विज्ञापन के लिए वह किसी तरह का शुल्क नहीं लेंगे इसलिए अब हमारी कंपनी डीडी किसान को पैसे वापस करने की प्रक्रिया शुरू कर रही है.” See more…

television  photo

The post ब्रांड एम्बेस्डर appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
24. Oh My God

 

Oh My God

आज मुझे शायद पहली बार किसी को गिरता देख कर दुख नही हुआ …. अरे !!! हैरान होने की जरुरत नही… मैं निष्ठुर या निर्दयी हूं ये आप पूरी पोस्ट पढने के बाद फैसला लें…

कुछ देर पहले मैं मार्किट से पैदल आ रही थी. मेरे सामने एक लडकी जोकि करीबन बीस बाईस साल की होगी, आ रही थी. हाव भाव से लग रहा था कि मोबाईल पर शायद कोई मैसेज टाईप करे जा रही है और अचानक सडक पर कोई पडा पत्थर शायद वो देख नही पाई और बुरी तरह लडखडा कर गिरी.

वैसे तो वो गिरते ही उठ गई और मोबाईल पर लगी मिट्टी को पोछने लगी पर मुझे उससे कोई हमदर्दी नही हुई. बल्कि मैं मन ही मन कह रही थी और देख मोबाईल और खा ठोकर … शायद अक्ल ठिकाने आ जाए और मैसेज एक जगह खडी होकर करना सीख जाए ना कि चलते चलते…!!! पता नही लोग कब सुधरेंगें

Oh My God !!! पता नही हम ठोकर खाकर भी सुधरेंगें या नही

The post Oh My God appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
25. “It’s an exciting time to be an editor”: Dan Parker on the OUPblog

It’s an exciting time to be an editor of the OUPblog. Over the course of the last ten years, the blog has gone from strength to strength. In order to help the blog continue to develop, the focus has been on reaching the right communities with the right content.

The post “It’s an exciting time to be an editor”: Dan Parker on the OUPblog appeared first on OUPblog.

0 Comments on “It’s an exciting time to be an editor”: Dan Parker on the OUPblog as of 1/1/1900
Add a Comment

View Next 25 Posts