What is JacketFlap

  • JacketFlap connects you to the work of more than 200,000 authors, illustrators, publishers and other creators of books for Children and Young Adults. The site is updated daily with information about every book, author, illustrator, and publisher in the children's / young adult book industry. Members include published authors and illustrators, librarians, agents, editors, publicists, booksellers, publishers and fans.
    Join now (it's free).

Sort Blog Posts

Sort Posts by:

  • in
    from   

Suggest a Blog

Enter a Blog's Feed URL below and click Submit:

Most Commented Posts

In the past 7 days

Recent Posts

(tagged with 'blog')

Recent Comments

JacketFlap Sponsors

Spread the word about books.
Put this Widget on your blog!
  • Powered by JacketFlap.com

Are you a book Publisher?
Learn about Widgets now!

Advertise on JacketFlap

MyJacketFlap Blogs

  • Login or Register for free to create your own customized page of blog posts from your favorite blogs. You can also add blogs by clicking the "Add to MyJacketFlap" links next to the blog name in each post.

Blog Posts by Date

Click days in this calendar to see posts by day or month
new posts in all blogs
Viewing: Blog Posts Tagged with: blog, Most Recent at Top [Help]
Results 1 - 25 of 1,489
1. Ancestry Looking Forward: Orphan Black and Real Cosima

Cosima Herter and Graeme Manson

My Longreads profile of Orphan Black’s brilliant science consultant Cosima Herter — known to the show’s actors and creators as “Real Cosima” — ranges from science, chance, and emotion to Darwin, humanized mice, DIY synthetic biology, and much more. Here’s how it starts:

BBC America’s Orphan Black seems so immediate, so plausible, so unfuturistic, that Cosima Herter, the show’s science consultant, is used to being asked whether human reproductive cloning could be happening in a lab somewhere right now. If so, we wouldn’t know, she says. It’s illegal in so many countries, no one would want to talk about it. But one thing is clear, she told me, when we met to talk about her work on the show: in our era of synthetic biology — of Craig Venter’s biological printer and George Church’s standardized biological parts, of three-parent babies and of treatment for cancer that involves reengineered viruses— genetics as we have conceived of it is already dead. We don’t have the language for what is emerging.

It’s one of my favorite things I’ve written, and also one of the strangest. It’s very much keeping with the forward-looking aspects of the book I’m working on. And it has the endorsements of a whole lotta Orphan Blackers, including, Tatiana Maslany, Graeme Manson, and Herter herself, which makes me happy.

Add a Comment
2. Subsidy

cartoon subcidy by monica gupta  Subsidy    बहुत सीधी साधारण सी बात पूछी जा रही है नेता जी से कि आपने कहा कि सक्षम लोग सब्सिडी न लें तो लाखों लोगों ने इसे नही लिया पर जो लोग सक्षम हैं उन्हें आरक्षण न लेने के लिए भी तो बोलना चाहिए … पर नही शायद नेता लोग अपना वोट बैंक बनाए रखने के लिए यह बात कभी नही बोलेंगें …

रही बात खुद की तो वो ढेरों सांसद सब्सिडी का भरपूर लाभ ले रहे हैं

Mutton cutlet for Rs 18 and Dosa for Rs 6: Government faces heat over subsidy on Parliament canteen food

At a time when the Narendra Modi government is taking steps to cut subsidies, there is a shocking response to an RTI query. It has been revealed that many of the food items served in Parliament canteen are sold at just one-tenth of the cost of raw-materials used in preparing them.

For instance, the cost for procuring raw items for a dish like vegetable stew comes to about Rs 41 while the MPs are getting it for just Rs 4, which is a subsidy of about 90%.

The canteens in Parliament got a total subsidy of Rs 60 crore during last five years, revealed the RTI plea.

Talking about the issue, Union Parliamentary Affairs Minister M Venkaiah Naidu said that he would discuss the issue and make attempts to reach a solution.

“I don’t deny it as a Minister. There’s the Lok Sabha and the Rajya Sabha, and everyone should be attentive about this,” he added.

Parrying queries over whether his government would discontinue with the subsidy, he said it has been going on for long and was not something decided by the BJP government.

The RTI activist, whose plea made the revelation, slammed the government over the issue, saying, “They tell others to give up on subsidies, but Parliament canteen gets heavy subsidy. The government should end this.”

In his RTI plea, the petitioner had sought answers to questions like “Has the Union government had taken cognizance of adverse media reports and public relations on providing food-items in canteens of Parliament at highly subsidised prices?”

Meanwhile, Aam Aadmi Party leader Alka Lamba said it was shocking that such subsidy was given in Parliament canteen, pointing that the food was already cheap for the members.

Congress, meanwhile, backed a re-look at the huge subsidy being given to the canteens, saying a “course correction” is needed on the matter. Party spokesperson Tom Vadakkan said, “If you look at the scale of subsidy being provided, I think there needs to be some course correction.” He, however, noted that subsidised canteens function in different ministries. See more…

The post Subsidy appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
3. Toothpaste

cartoon toothpaste by monica gupta

Toothpaste … ये टीवी विज्ञापन वाले भी ना दिमाग खराब कर के रख देते है…कभी टूथपेस्ट में नमक कभी काली मिर्च कभी भुना जीरा … क्या करें इनका !!!

How to use toothpaste to clean trainers reduce bags under eyes and buff your nails

It may be designed to clean teeth but did you know that a simple tube of toothpaste can be used in countless unconventional ways?

It’s long been hailed for its ability to clear up pesky zits but a cheap tube of the paste can be used to clean trainers, reduce bags under tired eyes and even give nails a high shine finish.

It’s long been hailed for its ability to clean teeth and clear up pesky zits but a cheap tube of the paste can be used do so much more than that. FEMAIL rounds up the unconventional ways you can use it See more…

The post Toothpaste appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
4. Story Time

Story Time

W की मिठा E
(अंग्रेजी वर्णमाला से बनी कहानी का आनन्द लो)

W बहुत ही छोटा पर शरारती बच्चा था। मम्मी k कहने पर उस k  डैD  ने  उसे A टू Z Vधालय में भर्ती करवा दिया। उनका Vधालय   jल  K पास होने कारण वहाँ अक्सर c पाही घूमते रहते थे। बच्चों को उन्हें देखना अच्छा लगता था। सड़क K  दूसरी  Oर Bकानेरी नमकीन और Kक की दुकानें थी। बच्चों की पाठशाला में उन्हें पढ़ार्इ के साथ-साथ अच्छी-अच्छी बातें भी C खाते थे।

Aक बार उनकी कक्षा में नोटिस आया कि जो बच्चा सबसे अच्छी Cख अथवा Vचार देगा उसे प्राध्यापिका E नाम में मिठाE देंगी W तो नया-नया ही Vधालय गया था, पर मिठाE का नाम सुनते ही उसके मुँह में पानी आ गया।

उनकी नैंC   Tचर कक्षा में आर्इ और एक-एक बच्चें को अपने पास बुलाकर उनK Vचार और  Cख सुनने लगी।

सबसे पहले  Aकता ने बताया कि kला खाकर छिलका कूड़ेदान में ही फैंकना चाहिए। Tटू बोला दूध Pकर ताकतवर बनना चाहिए।

मUर बोला जब दो लोग बातें कर रहें हों तो Bच में नहीं बोलना चाहिए। कPश ने बताया कि सभी से Sसी वैसी बातें ना करके Cधे मुँह बात करनी चाहिए। कभी भी Pठ  Pच्छे नहीं बोलना चाहिए। Bना ने कहा के Eश्वर में Vश्वास रखना चाहिए। उनकी पूजा करके Rती उतारनी चाहिए।

Dम्पी चुप बैठा था। Tचर के पूछने पर उसने बताया कि वो Bमार है। अब बारी आर्इ की। खाने के शौकीन ने बताया कि ज्यादा  Kक और Iस्क्रीम नही खानी चाहिए Qकि कर्इ बार चटपT चीजों से भी पेट दर्द हो जाता है, इसीलिए हल्का खाना ही खाना चाहिए। यह सुनकर सभी बच्चे हँस पड़े।

Gतेन्द्र आज कक्षा में नही आया था क्योंकि वो Cकर (राजस्थान) गया था।

सिY   Oमी,  Uवी, Eना और Eशा के इलावा सभी ने अपने Aचार  Vर को बताए। उधर Tना चुपचाप बैठी रही Qकि वो घर से लड़कर I थी।

T चर सभी बच्चों के Vचार लेकर प्राध्यापिका के पास गर्इ।

उन्हें सभी बच्चों के Vचार इतने पसन्द आए कि खुश होकर उन्होने सभी बच्चों को मिठाE  Eनाम में दी। बच्चों ने Aक साथ मिलकर मिठाE  खार्इ और इतने में छुटटी की घंT भी बज गर्इ।

Publised in 98 in  Rajisthan Patrika Jaipur  articel in rajasthan patrika

कहानी कैसी लगी … जरुर बताईएगा :)

 

 

The post Story Time appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
5. Doctors Strike

Doctors Strike11201876_10207331155696473_4658896105802763754_n

 

Doctors Strike  कोई शक नही कि डाक्टर्स की हडताल आम आदमी के लिए बेहद परेशानी का सबब बन जाती है … जैसाकि आजकल दिल्ली मे देखने को मिल रहा है

The post Doctors Strike appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
6. Short nap

Short nap

कल हाई वे जाते हुए एक कार हमारे आगे निकली और कुछ ही देर में हमारे देखते ही देखते सीधा सडक से नीचे उतरती चली गई. अचानक उसके ब्रेक की आवाज से हमारा ध्यान गया. ना कार का टायर फटा न सामने से कोई पशु आया और न ही चालक ने शराब पी रखी थी… शुक्र है कि बहुत बचाव हो गया पर हुआ क्या ??? पूछने पर उसने झेपते हुए बताया कि दो चार दिन से आफिस में बहुत काम था और दिल्ली जाना भी जरुरी था.

थकावट बहुत थी और नींद भी पूरी नही हुई थी शायद अचानक कार चलाते झपकी आ गई थी.अरे बाप रे..बेशक वाहन चलाते हुए मोबाईल पर बात करना खतरनाक है पर बिना नींद पूरी हुए वाहन चलाना भी कम खतरनाक नही …

वैसे बस पर भी लिखा होता है कि यात्री का 1 , 2 और 3 सीट पर सोना मना है वो इसलिए लिखा होता है कि  अक्सर यात्री को सोता देख कर वाहन चालक को भी नींद आ जाती है…

पलक झपकते ही कोई बहुत बडी दुर्धटना न हो जाए. इसलिए घर से तरोताजा होकर ही निकलिए …वैसे आप तो ऐसा नही करते होंगें और अगर करते हैं तो जरा नही बहुत सोचने की दरकार है.. आपकी जिंदगी की यात्रा शुभ रहे

short nap बेशक फायदे बहुत है पर अगर आप किसीकार्यक्रम में मंच पर ही झपकी लेने लग जाएगें तो हंसी का पात्र बन जाएगें और ड्राईव करते झपकी लेंगें तो  जान लेवा हो जाएगी … क्योकि भी चीज जिंदगी से बढी नही इसलिए अगर जिंदगी से सच्चा प्यार है तो टेंशन, झपकी थकावट सब घर पर  छोड कर ही निकलना बेहतर है….

 

Hints From Heloise: Power up with a nap! – The Washington Post

Dear Readers: Are you fully awake? Are you TIRED? Are you functioning, but sort of on 3/4 power? You could be one of the millions and millions of folks who are sleep-deprived! We work many hours, do errands on the way home, fight traffic and worry about late buses and trains. Then we come home and there is more to do. If you can find 20-30 minutes for a power nap, it could help tremendously.

Try to find a quiet spot (or wear earplugs), keep light to a minimum (or cover your eyes with something) and find the coolest (temperature) place you can.

If you can’t nap (especially at work), try for a short break — walk around the office or outside. Even go into a bathroom stall and close your eyes, block out noise and quiet your mind — yes, I’ve done this! — Heloise See more…

The post Short nap appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
7. Not a good idea

 

Not a good idea कुछ देर पहले कुछ स्कूली बच्चे घर के सामने से बाते करते हुए जा रहे थे. एक बोला अरे यार तूने मोदी को देखा. सफेद कुर्ता पजामा पहना हुआ था. दूसरा हंसता हुआ बोला ओ बेटे तू यकीन नही करेगा मेरे पापा, भाईयों बहनों इतना अच्छा बोलतें हैं कि मोदी भी शरमा जाए..

फिर एक अरविंद केजरीवाल का मजाक बनाते हुए कहना लगा कि हमारी तो औकात ही क्या है जी आम आदमी हैं ही हम तो … और फिर अपनी क्लास टीचर का मजाक उडाते वो तो आगे बढ गए पर मैं सोच रही थी कि हम किस तरह से मजाक बनाने लगें हैं. आदर मान देकर बोलना तो लगभग समाप्त ही हो चुका है.

Not a good ideaअब तो आखों की शर्म भी नही रही. ऐसे में, अगर घर के बडे ही बच्चों को आदर मान सीखाने की बजाय दूसरो का मजाक कैसे बनाना है यह सीखाएगें तो क्या होगा आप सोच भी नही सकते … बेशक इसमे टीवी चैनल की भी बहुत महत्वपूर्ण भूमिका बन जाती है. हमारे घर के बच्चे आदर दे मान सम्मान से बात करेंगें तो निसन्देह बहुत अच्छा लगेगा.  अन्यथा कोई बडी बात नही कल को आप और हम भी  इसका शिकार बन गए तो तो..तो … तो …!!! :roll:

 

Not a good idea

The post Not a good idea appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
8. World’s Largest Lego© Brick Model Ship Comes to the Queen Mary

LONG BEACH, CA (June 18, 2015) — When Britain’s most famous ocean liner was still a dream, the Cunard Lines recruited the John Brown shipyard in Scotland to build what would become the world’s most famous ocean liner. When Britain’s certified LEGO builders, Bright Bricks Inc. decided to commemorate the ship in LEGO Bricks – they never dreamed the huge model would someday come to Long Beach and be displayed on the actual Queen Mary. “The agreement to display our model on the ship is the perfect end to a wonderful LEGO adventure,” said Bright Bricks co-founder, Ed Diment.

LegoModelShip1

The LEGO company certifies only a few official model makers; Bright Bricks is located in England and is a well-established creative resource. “Companies from around the world hire us to interpret their products or brand using LEGO bricks. But, in this case, we decided to build the Queen Mary for our own satisfaction. It required four professional builders and over 250,000 individual LEGO bricks. It took almost four months to complete the project,” Diment added.

To better connect children and others with the historical persona of the Queen Mary, the decision was made to display the model in an exclusive space – The Shipyard – and to surround it with Bright Brick building stations where children and LEGO-enthusiasts can make their own version of the ship or anything else that comes to mind. The model room will feature 4 building tables and will be supervised by Queen Mary staff.

Over the past two years the Queen Mary has attracted close to 4 million visitors. With the world’s largest LEGO brick ship model’s arrival a new visitor category will become part of the Queen Mary’s ongoing success by adding a family and child-friendly element to an already robust historical narrative. Adults and children are likely to be overwhelmed by the sheer size and accuracy of the brick model.

The Bright Bricks (www.brightbricks.com) model of the Queen Mary begins its exhibition July 4, 2015. The Shipyard features historical photography of children at play while sailing as passengers; archival photos of the Queen Mary’s construction, antique tools and other items that capture the idea of building the world’s greatest passenger ship complete the decor.

“I can’t wait to see the look on the faces of the children who come to the exhibit and are confronted by this magnificent LEGO brick model. And for those tall enough; some children might notice a tiny top-hatted mini-figure of Sir Winston walking the upper deck,” said Queen Mary General Manager John Jenkins.

MODEL DETAILS:
Length: 25’ 11”
Weight: 604 lbs.
Width: 3’ 1”
Height: 4’ 7”
LEGO Parts Used: Approximately 250,000
Number of Builder Hours: 600

About Bright Bricks
Bright Bricks is a professional LEGO building company based in Hampshire in the UK. It is home to Duncan Titmarsh, the UK’s only LEGO Certified Professional, and one of only 16 in the World, and his business partner Ed Diment who built the LEGO Queen Mary Model. Bright Bricks builds large commission models for clients all over the World as well as making custom LEGO sets, attending corporate events, making gifts and running children’s parties with LEGO bricks. Basically if it involves LEGO we do it!

About the Queen Mary
Located in the Port of Long Beach, the Queen Mary (www.queenmary.com) features a rich maritime history, authentic Art Deco decor, and stunning views of the Pacific Ocean and Long Beach city skyline. At the time of her maiden voyage in May of 1936, she was considered the grandest ocean liner ever built. The Queen Mary features award-winning restaurants, historical attractions, numerous special event salons and 346 staterooms.

Media Contact:
Johanna Felix
Freeman McCue Public Relations for The Queen Mary
j.felix@freemanmccue.com | 860-655-4221

Find the Queen Mary here:
Facebook: https://www.facebook.com/thequeen.mary
Twitter: https://twitter.com/TheQueenMary
YouTube: https://www.youtube.com/user/TheQueenMaryinLB

0 Comments on World’s Largest Lego© Brick Model Ship Comes to the Queen Mary as of 6/21/2015 7:30:00 AM
Add a Comment
9. Dreaming

Dreaming
सैर सपनों की दुनिया की …. आईए !! आज आपको सपनो की दुनिया की सैर करवाते हैं. सपनों की दुनिया का यह शहर किसी अजूबे से कम नही है. यहाँ आकर कभी हम बच्चे बन जाते हैं तो कभी बूढे. कभी नेता बन जाते हैं तो कभी हीरो बन कर जनता को ओटोग्राफ दे रहे होते है. कुल मिलाकर इस दुनिया मे आने पर हम कोई भी रुप धारण कर सकते हैं या कुछ भी अनहोनी होते देख सकते हैं.
सपनो की इस लाजवाब दुनिया के सफर मे सबसे पहले हमे अनु मिली. 40 साल की अनु सर्विस करती हैं और दिन भर बहुत व्यस्त रहती है. जाहिर है कि घर पहुंच कर बिस्तर पर जाते ही नींद की आगोश मे चली जाती होगी. अनु ने भी मुस्कुराते हुए बताया कि यकीनन उन्हें लेटते ही नींद आ जाती है और फिर Dreaming…

वैसे तो ज्यादातर सपने उठने के साथ ही भूल जाते हैं पर एक सपना है जो उसे अभी भी अक्सर दिखाई देता है. सपना है कि वो स्कूल की परीक्षा देने जा रही है और देर हो गई है. पेपर शुरु हो चुका है और वो घबराहट के मारे रोने लगती है तो उन्हे परीक्षा मे बैठने की इजाजत मिल जाती है पर समय कम होने की वजह से घबराहट मे उनकी स्याही की दवात गिर जाती है और सारी उत्तर पुस्तिका खराब हो जाती है. जब उनकी नींद खुलती है तो पसीने पसीने होती है. खुद को संयत करने मे उन्हे थोडा समय लग जाता है पर फिर खुद पर हंसी आती आती है कि इस उम्र मे ऐसे सपने कैसे आ जाते है.
सपनो की ही दुनिया मे एक और पति पत्नी कुसुम और विनोद का जोडा मिला. जोकि दस साल से विवाहित हैं. सपने की बात सुन कर दोनो मुस्कुराने लगे. कुसुम ने बताया कि पिछ्ले दो चार बार से उनकी आखं खुलती है रात को पति के चिल्लाने की वजह से. वो सोते सोते हाय, हाय बचाओ, बोल रहे होते हैं. कई बार तो उन्होने ध्यान ही नही दिया क्योकि वो खुद भी नींद मे होती थी सुबह उठ कर जब इस बारे मे बात करते तब विनोद को याद भी नही रहता कि वो किस वजह से चिल्लाए थे. खैर, एक रात विनोद के चिल्लाते समय कुसुम की आखं खुल गई. उन्होने तुरंत अपने पति को उठाया पहले तो वो गहरी नींद मे थे पर कुछ पल बाद उन्होने नींद मे ही बताया कि वो एक सूनसान रास्ते मे जा रहे थे और अचानक कोई बुढिया आकर उनका बैग खिंचने लगी. इसलिए वो डर के मारे चिल्ला रहे हैं. बताते बताते वो फिर से सो गए. बात बता कर कुसुम हंसने लगी तो पति महोदय ने कहा कि अपनी बात भी तो बताओ जब एक बार तुम भी चीखी थी. इस पर कुसुम ने तुनक के कहा कि शायद वही बुढिया उनके सपने मे भी आ गई थी.
इससे पहले की उनकी नोक झोंक और आगे बढती. हमने ही आगे बढने मे अपनी भलाई समझी. सपनो की दुनिया मे आगे हमे मिली 10 साल की मणि. मणि ने बताया कि बहुत सपने आते है. सपने मे कभी वो स्टेज पर गाना गा रही होती है तो कभी क्लास मे फर्स्ट आती है तो कभी दोस्तो के साथ जंगल मे खेल रही होती है. पर एक सपना भुलाए नही भूलता वो है कि एक रात वो सो रही है. कमरे मे घना अंधेरा है. अचानक दो तीन चोर आ गए. उसकी आंख खुल गई और वो डर के मारे पलंग के नीचे छिप गई. चोर वही घूम रहे हैं. वो चिल्लाना चाह रही है पर उसकी आवाज ही नही निकल रही. वो पूरे जोर के साथ मम्मी, पापा…!! चोर आए हैं चिल्लाए जा रही है पर मानो वो गूंगी हो चुकी है. उफ!! और जब आखं खुली तो इतनी राहत मिली कि बस!! बहुत डरावना सपना था वो. यह सपना शायद जिंदगी भर नही भूलेगा.
सपनो की दुनिया मे और आगे बढे तो 20 वर्ष की नाव्या मिली. उनसे पूछा तो एकदम से खुश होकर बोली कि सपने मे वो मिस इंडिया चुनी गई और अमिताभ बच्चन जी ने उन्हे क्राउन पहनाया. इतना ही नही रणबीर कपूर के साथ उन्होने फिल्म भी साईन की. शूटिंग भी शुरु हो गई थी. सब कुछ इतना अच्छा चल रहा था सब लोग उसके काम की उसकी खूबसूरती की इतनी तारीफ कर रहे थे कि उसी समय अलार्म बजा और वो गहरी नींद से जाग गई. बताते बताते वो उदास हो गई.
उनको शुभकामनाए देते हुए हम आगे बढे तो सामने से 30 वर्ष की दर्शना चली आ रही थी. उन्होने बताया कि बचपन मे एक सपना बहुत आता था. उनके घर के ड्राईंग रुम मे शो केस मे बहुत बडी गुडिया थी. कई बार उन्हे रात को सपना आता अब पता नही कि वो सपना था या सच्चाई थी कि वो गुडिया शो केस से बाहर निकलती और पूरे घर का चक्कर लगाकर वापिस शो केस मे चली जाती. सुबह उठ कर जब वो उस शो केस वाली गुडिया को देखती तो उन्हे लगता कि वो उन्हे देखकर मुस्कुरा रही है. यह सब देख कर उन्हे बहुत डर लगता पर उन्होने अपनी मम्मी को यह बात कभी नही बताई कि कभी उनका मजाक की ना बन जाए. अरे बाप रे! उनका सपना या हकीकत जो भी थी सुनकर तो हम भी डर गए और वहां से खिसकने मे ही भलाई समझी.
Dreaming ….  45 वर्ष की सुनीता मिली. सुनीता ने जो बताया वो भी काफी हैरान कर देने वाला था. उन्होने बताया कि करीब 4-5 साल पहले की बाता है. रात को जब वो सो रही थे तो सपने मे उनके स्वर्गवासी पिता नजर आए. वो गेट के बाहर हाथ मे कोई तोहफा लिए खडे थे.सुनीता ने बताया कि उन्हे देख कर वो बाहर आई उनसे वो तोफहा लिया और गले मिल कर बहुत रोई. फिर अचानक आखं खुल गई. अगले दिन उन्हे खबर मिली कि जो जायदाद का जो काम इतने सालो से अटक रहा था. वो फैसला उनके हक मे रहा और वो जीत गए. बताते बताते सुनीता भावुक हो गई.

Dreaming
सपने की दुनिया मे ऐसे और भी बहुत लोगो से मिले और उन्होने बहुत बाते शेयर की.कोई कहता सुबह का सपना सच होता है तो कोई कहता कि किसी मरे हुए इंसान को देख लो तो उसकी उम्र बढती है.किसी ने बताया कि सपने मे मोटी गाय को देखो तो फायदा और पतली गाय को देखो तो नुकसान होता है. सपने मे कोई बडी इमारत देख लो तो भाग्य उदय होता है इत्यादि इत्यादि!!सच, सपनो की दुनिया ही निराली है.
वैसे इस बात मे भी कोई दो राय नही कि सपने में सपने जैसा कुछ लगता ही नही. बिलकुल ऐसा महसूस होता है जैसे यह सचमुच में घटित हो रहा है. कोई हमेशा हमेशा के लिए इसी दुनिया मे रहना चाह्ता है तो कोई इससे तुरंत बाहर निकलना चाह्ता है. दुनिया भर के अनेकों मनोवैज्ञानिको ने भी सपने की इस दुनिया में झाँकने की कोशिश की, लेकिन इस रहस्यमयी दुनिया को जितना भी समझने की कोशिश की उतनी ही यह उलझाती रही.
इसी बारे मे जब हमने जाने माने मनोचिकित्सक से बात की तो उन्होने बताया कि सपने आना एक सहज प्रक्रिया है. अब सपने किस तरह के आते हैं ये हमारे मन पर निर्भर करता है. असल मे, कोई ना कोई बात हमारे दिलो दिमाग मे कही दब कर बैठी होती है जिसका हमे पता भी नही चलता और देर सवेर कभी ना कभी हमे सपने के रुप मे दिखाई दे जाती है.
जाने माने मनोविश्लेषक सिग्मंड फ्रायड के अनुसार हम अपनी अतृप्त एवं अधूरी इच्छाओं की पूर्ति सपनो के माध्यम से करते है. कोई जो भी कहे पर सपनों का संसार वाकई मे अनूठा, अदभुत और आश्चर्यजनक है … :)

Dreaming

dreaming photo 5 Astro tips to overcome bad, horrible dreams-5

अक्सर हमें नींद में सपने आते हैं। कई बार ये सपने इतने डरावने होते हैं कि आंखें खुल जाती हैं और हम डर से पसीने-पसीने हो जाते हैं। इन सपनों में कई बार हम परेशान बच्चे, भटकती आत्माएं, जंगली जानवर, अंधेरे रास्ते या किसी खतरनाक संकट को देखते हैं जिससे हमें भयंकर डर लगने लगता है। ज्योतिष के कुछ साधारण से उपाय करके आप इन डरावने सपनों से बच सकते हैं।

प्रतिदिन रात को सोते समय हनुमान चालीसा का एक बार पाठ करके सोएं, आपको बुरे सपने आना बंद हो जाएंगे।

यदि रात में किसी भी तरह का डर लगता हो तो अपने सिरहाने के नीचे एक पीपल की जड़ तथा उसकी टहनी का छोटा सा टुकड़ा रखें। ये दोनों ही सूर्यास्त से पहले तोड़े, सूर्यास्त होने की स्थिति में अगले दिन ही पेड़ की जड़ और टहनी तोड़े।

कभी भी उत्तर तथा पश्चिम दिशा में सिर करके नहीं सोना चाहिए। ऎसा करने से शरीर के मैग्नेटिक करंट में बाधा पहुंचती है और दिमाग बैचेन हो जाता है। अक्सर इन दिशाओं में सिर करके सोने वाले चौंक कर उठ जाते हैं। पूर्व को सोने के लिए सबसे अच्छी दिशा माना जाता है। इस दिशा में सिर तथा पश्चिम में पैर करके सोने से अच्छी नींद आती है और बुरे सपनों से भी निजात मिलती है।

सपने में यदि बार-बार नदी, झरना या पानी दिखाई दे तो यह पितृ दोष की वजह से हो सकता है। इसके लिए अमावस्या के दिन सफेद चावल, शक्कर और घी मिला कर पीपल के पेड़ पर सूर्यास्त के बाद चढ़ाने से आराम मिलता है। See more…

Dreaming

The post Dreaming appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
10. नाजुक हैं आदमी

नाजुक हैं आदमी …

सुन कर आप सोच रहे होगे कि भला आदमी और नाजुक … हो ही नही सकते … लेकिन यह बात काफी हद तक सही है हालांकि अपवाद तो हर जगह होते हैं.

 

man emotional  photo

 

असल में, आदमी खुद दिखाते नही हैं .. जैसाकि हम महिलाएं  करती हैं  कि तुरंत रोना शुरु कर देती हैं लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि ज्यादातर आदमियो का दिल एक दम मोम की तरह होता है पर वो मजबूत हैं बस यह दिखाने की कला उन्हें आती है.

अभी कुछ दिन पहले मेरी सहेली अपने बच्चे को स्टेशन छोडने आई तो उसने बताया कि इसके पापा इसे छोडने कभी नही आते वो तो इसे बाय भी नही बोल सकते. इसके एक दिन जाने से पहले ही वो उदास हो जाते हैं. पापा को देख कर बेटा भी उदास हो जाता है इसलिए उसे ही हमेशा मन पक्का करके छोडने आना पडता है.

एक हमारे पडोसी हैं जब से उनकी बेटी की शादी हुई है तब से वो चुप से हो गए हैं.  बेटी जब भी मिलने घर आती है वो उससे गले लग कर खूब रोते हैं. अब जब उसके भी बेटी हो गई है उनके वापिस जाने के बाद वो अकेले बैठ कर खूब रोते हैं फ़िर  हार कर उनकी पत्नी को मन मजबूत करके उन्हे चुप करवाना पडता है.
एक मित्र तो और भी कमाल है. उनकी लडकी 25 साल की हो गई है. जब भी उसके लिए कोई रिश्ता आता है तो वो किसी छोटे बच्चे की तरह रोने लग जाते हैं.  दीपक जब से पेपर मे प्रथम आया और उनके घर जब भी बधाई का फोन आता उसके पापा भावुक हो उठते.
मोहन जी की पत्नी जब तक अस्पताल  मे थी वो उनसे मिलने नही गए क्योकि वो उन्हे बीमार नही देख सकते थे.  वो अपना ही दिल पकड कर बैठ गए कि उन्हें ही कही कुछ ना हो जाए ..
ऐसे ना जाने कितने उदाहरण है इस बारे मे … जिससे बस एक ही बात सामने आती है कि आदमी भी नरम दिल के इंसान होते हैं बस वो दिखाते नही है अपने दिल मे ही रखते हैं यह बात आपको भी पता होगी … है ना … तो अगर आप किसी को पत्थर दिल आदमी बोले तो बोलने से पहले सोच लें क्योकि नाजुक हैं आदमी… !!!

The post नाजुक हैं आदमी appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
11. जवाब लाजवाब

जवाब लाजवाब

उफ़………….. इनकी हाजि़र जवाबी

हाजिरजवाबी अनूठी कला है, जब इसमें हास्य व्यंग्य का मिश्रण हो जाए तो मजा दुगुना हो जाता है और अगर यह हास्य व्यंग्य विश्व प्रसिद्ध हस्तियों का हो तो कहना ही क्या……..।
इस लेख में हम कुछ विश्व प्रसिद्ध हस्तियों के चुटीले अंदाजो से आपको रूबरू करवा रहे हैं।

सरोजनी नायडू
भारत कोकिला सरोजनी नायडू को कौन नही जानता। एक प्रखर राजनैतिक कार्यकर्ता, संवेदनशील कवयित्री और देश की स्वतंत्रता ही जिनका उददेश्य था। वो समय-समय पर हल्की-फुल्की टिप्पणियाँ करने से बाज नही आती थी। एक बार वो किसी सम्मेलन में गर्इ। वहाँ फोटो खीचने के लिए फोटोग्राफरों की लार्इन लग गर्इ। तब उन्होनें उनसे कहा, चलो भर्इ, जल्दी करो। मैं सब ओर से एक जैसी ही हूँ, मोटी और गोल-मटोल।

मार्च 1947 में जब वो प्रथम एशिआर्इ संबंध सम्मेलन के प्रतिनिधियों की बैठक को संबोधित करने के लिए आमंत्रित की गर्इ तो हाल खचाखच भरा हुआ था। वो उठी। भीड़ का जायजा लिया और बोली कि इस अपार भीड़ को देखकर मैं इतनी भावुक हो उठी हूँ कि मेरे मुहँ से आवाज ही नही निकल पा रही है। किसी महिला के मुहँ से आवाज ना निकलना कोर्इ मामूली बात नही है।

एक बार एक राजनैतिक कार्य के सिलसिले में गोपाल कृष्ण खोखले श्यामवर्णी नायडू से मिले और सोचा कि उनके रंग पर उन्हें खिजाया जाए। अत: उन्होने मुस्कुराते हुए चुटकी ली,  क्या आप मृत्यु के इतनी निकट पहुँच गर्इ हैं कि उसकी परछार्इयों ने आपकी ऐसी रंगत बना दी है। सरोजनी उनका मतलब समझ गर्इ। मगर वह बिल्कुल नही झिझकी और हँस कर बोली,  नहीं मैं जीवन के इतने निकट आ गर्इ हूँ कि उसकी तपिश ने मुझे झुलसा दिया है।

विनोबा भावे
विनोबा भावे ने स्वयं को निर्धनों और शोषितो से जोड़े रखा। उन्होनें भूदान आंदोलन के जरिए सामाजिक सुधारो को नर्इ दिशा दी। सौम्य और मृदुभाषी विनोबा अपनी नपी तुली टिप्पणियों की बदौलत स्वयं को विवादो से दूर ही रखते थे। एक बार कुछ पत्रकार विनोबा जी का साक्षात्कार लेने उनके आश्रम गए। विनोबा जी ने उनका सत्कार किया और पत्रकारों के प्रश्न का जवाब  देने के लिए तैयार हो गए। लेकिन उन्होंने माँग रखी कि पहला प्रश्न वो पूछेंंगें। पत्रकार सोचने लगे कि आखिर विनोबा जी के मन में क्या है। तब विनोबा ने उनसे पूछा कि वो किस भाषा में अपने दिए गए प्रश्नों के उत्तर की अपेक्षा करतें हैं। पत्रकार जानते थे कि आचार्य भाषाविद हैं। उन्होनें निश्चय किया कि भाषा के चयन का निर्णय वे खुद ही लें। पर सभी पत्रकार जड़वत रह गये जब आचार्य ने उत्तर दिया कि उनकी नजर में सर्वोतम भाषा मौन भाषा है। और शांत भाव से आश्रम में टहलने लगे।

सर सी.वी. रमन

नोबेल पुरस्कार से सम्मानित सर सी.वी. रमन को कौन नही जानता। उन्होनें प्रकाश के संगठन और व्यवहार पर नया सिद्धांत खोज निकाला, जिसे रमण प्रभाव के नाम से जाना गया। इस विशिष्ट खोज की 25वीं जयंती के अवसर पर वो पैरिस गए हुए थे। वहाँ कुछ फ्रांसीसी वैज्ञानिको ने इस मौके पर भव्य समारोह का आयोजन किया। वर्दी में सजे-धजे बैरे अतिथियों को मनपसंद पेय पेश कर रहे थे। एक बैरा रमण के पास आया और उसने शैम्पेन भरे गिलासो की ट्रे उन की ओर बढ़ा दी लेकिन रमण ने उसे नही लिया। बार-बार उन्होनें विनम्रता से इंकार किया कि वह पीते नही है लेकिन फिर सोचने लगे कि उन्हें इस इंकार का कोर्इ कारण अवश्य बताना होगा। इसी उधेड़बुन में लगे थे कि जल्दी ही उन्हें अपनी समस्या का समाधान मिल गया। उनके पास खड़ी एक महिला ने अपने साथी को बताया कि यह प्रसिद्ध वैज्ञानिक सर सी.वी. रमण हैं। यह रमण प्रभाव के लिए जाने जाते हैं। बस, यह बात सुनकर जो दोस्त उन्हें पीने के लिए बार-बार आग्रह कर रहे थे, वह उनकी ओर मुडे़ और बहुत सौम्यता से बोले,  मित्रों, आपने अल्कोहल पर रमण प्रभाव अवश्य देखा होगा पर मैं आपको रमण पर अल्कोहल प्रभाव देखने का अवसर कभी नही दूँगा। उनके इस विनोदपूर्ण जवाब  से लोगों में हँसी के फव्वारे फूट गये।

अल्बर्ट आइंस्टीन

 

अल्बर्ट आइंस्टीन भौतिकी के क्षेत्र में हुए सभी आधुनिक विकासों के श्रेय के हकदार हैं। अपने बारे में उन्होंनें कुछ पत्रकारों और फोटोग्राफरों के बारे में कहा कि वो अजायब घर में रखने लायक वस्तु हैं। वह मुख्यधारा से छिटक कर बाहर गिर गए हैं। फोटोग्राफरों द्वारा विभिन्न मुद्राओं में तस्वीरें खींचने के बाद उनसे उनके व्यवसाय के बारे में पूछा गया तो उन्होंनें तपाक से जवाब दिया कि वो तो माड़ल का काम ही कर रहें हैं, तरह-तरह के पोज़ में फोटो खिचवा कर। उनसे जब उनकी खोज के बारे में जनप्रतिक्रिया की राय पूछी गयी तो उन्होंनें कहा कि अगर मेरा सिद्धांत सफल रहा तो जर्मन दावा करेंगें कि मैं एक जर्मन हूँ। और सिवस कहेंगें कि मैं एक सिवस हूँ। किन्तु यदि असफल रहा तो सिवस कहेंगें कि मैं जर्मन हूँ और जर्मन कहेंगें कि मैं एक यहूदी हूँ।
एक बार आइंस्टीन के बेटे ने उनसे पूछा कि वो इतने प्रसिद्ध कैसे हैं। इस पर उन्होंनें कहा कि  बेटे, एक बार एक अंधा कीड़ा फुटबाल पर चलने कि कोशिश कर रहा था उसे यह नही मालूम था कि वो गोल है। मगर इस मामले में मैं भाग्यशाली निकला, यह बात मेरे ध्यान में आ गर्इ।
एक बार आइंस्टीन ने फोटोग्राफर ए.डब्लयू रिचडऱ्स से मजाक में कहा  मुझे अपने चित्रों से नफरत है। यदि इनकी वजह न होती…….. फिर अपनी मूँछों पर हाथ फेरते हुए बोले कि इनकी वजह न होती तो वो………. एक औरत नज़र आते।

जवाब लाजवाब

अलैक्जैंड़र फ्लेमिंग
पेनिसलिन की खोज के लिए प्रसिद्ध अलैक्जैंड़र फ्लेमिंग मितभाषी व्यकित थे। एक बार वो बंदरगाह के निकट होटल में ठहरे जहाज को पानी में तैरते देख रहे थे। उन्हें वो दृश्य बहुत अच्छा लग रहा था लेकिन भूख तेज़ लगने के कारण वो भोजनकक्ष की ओर चल पड़े। तभी सामने से दो पत्रकार आ रहे थे। उन्होंनें अदब से नमस्ते करके यह पूछना चाहा कि जब एक महान वैज्ञानिक नाश्ते के लिए जा रहा हो तो उसके मन में क्या विचार उमड़ते हैं। फ्लेमिंग ने भी अपनी मुद्रा गम्भीर कर ली और बोले कि विचार तो बहुत उमड़ते हैं। पत्रकार भी अपने पैन लेकर तैयार हो गए कि शायद कोर्इ ऐसी बात सुनने को मिले जो कल की सुर्खियाँ बन सकें। फ्लेमिंग ने कहा कि वो वाकर्इ में इस समय विशेष बात ही सोच रहा हूँ। यह खबर आपके लिए किसी वरदान से कम नही होगी……..। लेकिन जल्दी ही उनकी उम्मीदों पर पानी फिर गया। उत्तर मिला, मैं एक विशेष बात सोच रहा हूँ कि मैं नाश्ते में कितने अंडे़ खाँऊ……… एक या …… दो………

जवाब लाजवाब

The post जवाब लाजवाब appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
12. झंडा उंचा रहे हमारा

झंडा उंचा रहे हमारा

 

 

हमारा तिरंगा
बच्चों, मैं भारत की शान हूँ। तीन रंग लिए मैं सभी को निराला और मन भावन लगता हूँ। पता है, मैं हूँ कौन? जी हाँ, मैं हूँ भारत देश का ध्वज, यानि झण्ड़ा।
जब भी आप मुझे लहराते-फहराते देखते होंगे तो आपके मन में विचार जरूर उठता होगा कि आखिर मेरा जन्म कब कहाँ और कैसे हुआ। आज मैं आपको अपने सफर की कहानी सुनाता हूँ। मेरा रूप जैसा आप आज देखते हैं ऐसा नहीं था। मुझमें समय-समय पर बहुत बदलाव आए पर अब मेरी पहचान बन चुकी है। विदेशों में अनेक झण्ड़ों के बीच में मैं शान से इठलाता हूँ। पता है, 29 मर्इ, 1953 को मैं एवरेस्ट पर लहरा रहा था। मेरी कहानी कोर्इ एक दिन या एक समय की छोटी सी कहानी नहीं है। मेरा मस्तक ऊँचा रखने के लिए हजारों वीर सैनिकों ने बलिदान दे दिया। अपना खून पानी की तरह बहा दिया पर मेरी शान कम ना होने दी।
आपने रामायण या महाभारत तो जरूर पढ़ी होगी। उस समय की पताका या झण्ड़ा यानि मैं लम्बे त्रिभुज आकार में था। मेरे ऊपर भगवान सूर्य का चित्र अंकित रहता था। लंका में भी अलग प्रकार का झण्ड़ा फहराया जाता था। संस्कृत में भगवान विष्णु की पूजा में लिखे एक श्लोक को गरूड़ ध्वज कहा गया जबकि गीता में अर्जुन के ध्वज को कपि ध्वज के नाम से जाना गया। समय-समय मेरे रूप में परिवर्तन आता रहा। अंग्रेज़ी राज्य द्वारा स्थापित सरकारी भवन व मुख्य स्थानों पर यूनियन जैक फहराने लगा। बीसवीं सदी के शुरू में जब देशवासियों की कुछ आँखें खुली। अंग्रेज़ी अत्याचारों से जनता तंग आ चुकी थी। पता है, भारत का पहला झण्ड़ा 7 अगस्त, 1906 को कोलकाता के पारसी बागान चौराहे पर फहराया गया। तब मुझमें तीन रंग लाल, पीला और हरा थे। लाल रंग वाले भाग में आठ सफेद कमल थे। बीच वाले पीले रंग पर नीले रंग में वन्देमातरम लिखा था। नीचे हरे भाग पर बायीं तरफ सफेद सूर्य और दायीं ओर आधे चन्द्रमा के बीच एक तारा बना हुआ था।
मैड़म कामा के दिमाग  में देश के लिए झण्ड़ा तैयार करने का विचार आया। जो झण्ड़ा उन्होंने बताया उसमें केसरिया, सफेद तथा हरा रंग रखा गया। पता है, केसरिया भाग में कमल तथा सात नक्षत्र थे। वन्देमातरम को विशेष लोकप्रियता मिली हुर्इ थी। बंकिम चन्द्र चटर्जी जोकि बगला के प्रसिद्ध उपन्यासकार थे उन्होंने वन्देमातरम की रचना 1882 र्इ0 में की थी। समय धीरे-धीरे चल रहा था कि अचानक जलियाँवाला बाग के घटनाक्रम ने मेरा रूप ही बदल दिया। सन 1923 में झण्ड़े रंग-रूप, आकार का ध्यान रखा गया। मेरी लम्बार्इ और चौड़ार्इ में तीन और दो का अनुपात रखा गया। तीन रंग लाल, हरा, तथा सफेद रखा गया। सफेद रंग पर चरखे को अंकित किया गया। मुझ पर चरखा इस कारण लगाया गया क्योंकि गाँधीजी स्वदेशी प्रचार कर रहे थे। खददर को उस समय विशेष मान्यता दी गर्इ थी। सिर्फ चरखा ही लोगों की जरूरतों को पूरा कर सकता था। इसलिए चरखे को मुझ पर अंकित करवाने की विशेष मान्यता मिली। अभी बात कुछ बननी शुरू ही हुर्इ थी कि सन 1923 में मर्इ महीने में नागपुर के वासी ने रोक दिया। बस तब काफी कहा-सुनी हुर्इ और झण्ड़ा सत्याग्रह का आरम्भ हो गया। 18 जुलार्इ 1923 को झण्ड़ा सत्याग्रह दिवस मनाने की घोषणा हो गर्इ थी और पता है इस आन्दोलन के कर्णधार कौन थे- लौह पुरूष सरदार वल्लभ भार्इ पटेल।
मेरे बारे में अनेको गीत लिखे गए जो उन लोगों के लिए प्रेरणा बने जो चाहते थे कि भारत आजाद हो, स्वतंत्र हो। समूचे राष्ट्र का एक ही लक्ष्य बन गया था कि यूनियन जैक के स्थान पर जब मैं फहरूंगा वही दिन हमारा सर्वश्रेष्ठ दिवस होगा। वीरों की मेहनत रंग लार्इ। 26 जनवरी का दिन स्वाधीनता दिवस के रूप में मनाने की परम्परा पणिड़त जवाहर लाल नेहरू द्वारा आरम्भ की गर्इ। फिर मुझमें काफी बदलाव आए। चरखे का रूप छोटा कर दिया गया। हर रंग विशेष सूचक बना दिया गया। सन 1933 र्इ0 में मुम्बर्इ में एक बैठक में यह प्रस्ताव रखा गया कि मेरा रंग तिरंगा ही होगा और 3 गुणा 2 का आयताकार होगा और मेरे तीन रंग भगवा, श्वेत तथा हरा होगा। 30 अगस्त,1933 र्इ0 का दिन ध्वज दिवस के रूप में मनाया गया। नेताजी सुभाष चन्द्र बोस ने भी यह साबित कर दिया कि राष्ट्रीय ध्वज ही किसी देश के गौरव का चिन्ह है और मेरा सम्मान ही देश का सम्मान है।
22 जुलार्इ 1947 र्इ0 को मुझे नया रूप प्रदान किया गया। अनुपात भी पहले वाला था, रंग भी तीन थे किन्तु सफेद रंग पर बने चरखे के स्थान पर चक्र अंकित कर दिया गया। यह चक्र सारनाथ के स्तम्भ से लिया गया जोकि लगभग ढ़ार्इ हजार से भी पहले अशोक ने बनवाया था। इसी स्तम्भ के ऊपर बनी शेरों की त्रिमूर्ति राज्य चिन्ह के रूप में स्वीकार की गर्इ।
चक्र में चौबीस रेखाएं हैं। इनका अभिप्राय चौबीस घण्टों से बताया गया है। दिन-रात, चौबीस घण्टे हम अपने कार्यों  में लगे रहे यही प्रेरणा हमें चक्र देता है। दूसरी ओर चक्र का अर्थ हम गतिशीलता से भी लगा सकते हैं। जहाँ एक ओर सफेद रंग को विद्वानों ने सादा जीवन उच्च विचार का प्रतीक माना है वहीं हरा रंग विश्वास का प्रतीक है जोकि मनुष्य की अनिवार्य अच्छार्इ है। हरियाली को भी हरे रंग में माना गया है। मुझ में हरे रंग को इसलिए भी स्थान मिला है क्योंकि भारत कृषि प्रधान देश है। केसरिया रंग की प्रेरणा से ही वीरों में, नौजवानों में त्याग और बलिदान की ललक बढ़ी थी।
सच, मैं किसी राज्य या वर्ग का ना होकर सम्पूर्ण भारत वर्ष का हूँ। मैं जहाँ भी लहराऊंगा उन सभी को स्वतंत्रता, प्रेम और भार्इचारे का सन्देश देता ही रहूंगा।
झण्ड़ा ऊंचा रहे हमारा
विजयी विश्व तिरंगा प्यारा

जय हो                         जय हो                                            जय हो

The post झंडा उंचा रहे हमारा appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
13. हम और हमारी नकारात्मक सोच

हम और हमारी नकारात्मक सोच

कल ही हमारे मित्र विदेश से लौटे. उनको रिसीव करने हम भी एयर पोर्ट गए.वहाँ कार मे बैठ्ने से पहले उन्हे मिठाई खिलाई तो उन्होने उसका रैपर कोई कूडा दान ना दिखाई देने की वजह से सड्क पर ना डाल कर अपनी जेब मे ही डाल लिया. जबकि हमारे ही भारतीय मित्रो ने खुद तो मिठाई के रैपर को जमीन पर ही फेंक दिया और हसँते हुए अपने मित्र को सलाह देने लगे कि भई, यह तो भारत है यहाँ सब कुछ होता है यहाँ क्या सोचना … पूरी सडक अपनी है कही भी फेंक दो … बे वजह जेब क्यो खराब करनी है …उस समय तो मैं चुप रही पर वापिस लौट्ते वक्त यही सोचने लगी कि सारे आरोप सरकार पर लगा कर हम निशचिंत होकर बैठ जाते है कि सरकार ये नही कर रही वो नही कर रही बिना यह जाने कि हम क्या कर रहे है यह हमारी नकारात्मक सोच नही तो क्या है. अगर हम सभी अपना अपना फर्ज़ समझ ले तो क्या नही हो सकता.
हम विदेशो की बात करते हैं कि वहा कठोर कायदे कानून है वहाँ सफाई रखनी जरुरी होती है नही तो फाईन लग जाता है वगहैरा वगहैरा . पर उसके मुकाबले हम यहा क्या कर रहे हैं सिवाय कोसने के कि हम कितने गंद मे रह रहे हैं …
और तो और बार बार मना किया जाता है कि गाडी चलाते समय सीट बेल्ट बाँध ले. हम मे से कितने बाधँते है. हाँ , अगर सामने चैकिंग़ हो रही होगी तो फाईन के चक्कर मे फटाफ़ट लगा लेग़ें … गाडी चलाते समय मोबाईल का इस्तेमाल भी नही करने की सलाह दी जाती है. पर हम तो महान है ना सबसे व्यस्त आदमी है अगर बात नही की तो लाखो का नुकसान जो हो जाएगा. हाँ, अगर कोई ट्क्कर वक्कर हो गई तो दोष अपना नही मानेग़ें …
अगर हम अपनी नकारात्मक सोच हटा कर सकारत्मक सोचेगे और समाज मे रहते हुए नियमो का पालन करेगें तो हमारा देश भी आदर्श देश बन सकता है.
यही बात काफी हद तक मीडिया पर भी लागू होती है वो समाज को सच्ची दिशा दिखा सकता है पर उसकी सोच भी कम नही है मार पिटाई, खून खराबा, अन्धविश्वास, फालतू की फिल्मी खबरो आदि से भरी रहती है खबरे पर जब बात आती है कुछ ऐसी खबरो की जिनसे समाज मे चेतना आए … वो तो गायब ही रहती है अब ताजा उदाहरण ही है कि एक स्कूली बच्चे ने एवरेस्ट पर जीत हासिल की और सबसे कम उम्र का विजेता बन गया कोई बच्चो का खेल नही था कि वो ऐसे ही चढ गया पर वो खबर भी ना के बराबर रही. जब मैं कुछ बच्चो का इंटरवयू लेने पहुची कि उन्हे यह जान कर कैसा लगा कि उनकी ही उम्र का अर्जन ऐवरेस्ट को जीत कर लौटा है. उन्हे तो हैरानी हुई क्योकि इस बात की जानकारी ही नही थी उन बच्चो को कि ऐसा भी हुआ है अब भला बताओ कि समाज के सामने अगर उदाहरण ही नही रखे जाएगे तो समाज तरक्की कैसे करेगा सिर्फ क्राईम से तो गाडी नही चलेगी ना.

हम और हमारी नकारात्मक सोच
हम सभी को एक दूसरो पर दोष डालने की बजाय खुद को अच्छा बनाना होगा अपनी सोच सकारात्मक रखनी होगी अच्छे उदाहरण समाज के सामने रखने होग़ॆं ताकि उनका अनुकरण किया जा सके. इसमे आपसे अच्छी भूमिका तो कोई निभा ही नही सकता …

हम और हमारी नकारात्मक सोच

The post हम और हमारी नकारात्मक सोच appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
14. The Virus that Ate my Brain

Virus ate my brainEvery writer should be so lucky as to have an idea virus eat their brain.

Here’s how it happens:

  1. First you catch it.
  2. Then you get it.
  3. Once you’ve got it, you can kiss your old self goodbye.

This is the story of how existence conspired to throw the book at me—literally—and infect me with an ideavirus that set me free.

A book called Positive Disintegration

I caught it with two hands. Yes, there really was a book. I was living in Africa at the time. After all these years I still remember my roommate tossing it to me. He didn’t hand it to me, nor is tossing accurate, no, he chucked it at me. He’d run out of sympathy for me and my “Dear John” letter.

“She’s engaged to someone else already,” I said. “I’ve only been gone two months.”

“Go, girl,” he said

“Yeah, go to hell.”

Anyway, it was a book called Positive Disintegration. Written by someone whose name I couldn’t pronounce. Kazimierz Dabrowski.

The English was stiff and the syntax was Polish but I quickly got the gist of it—something about our mental development from infancy to full maturity (whatever that might look like) occurring through five hierarchical stages. Between each level lies an existential hellhole.

Hellhole—hello!

“Hey, Gary, thanks for this.” My roommate was an industrial psychologist.

Nothing is broken, we don’t need fixing

According to the book, each pothole on the road of life serves as an alchemical crucible. Our negative emotions start the process. So, please, we don’t need drugs. My suffering would propel me to the next level of integration.

The author prescribed creative expression—music, art, writing, whatever. The most imaginative thing I was doing in Zambia at that time was learning to fly, but my instructor had grounded me until further notice.

I started writing poetry. Who was I kidding? Next up, painting. Gary was not amused with my floor-to-ceiling murals in the living room. Movie making was next. I acquired film stock from the president of the local Cine Club, cheap black & white 8 mm film from Russia.

My friends dropped everything to help out. They heard I was shooting a movie called The End. The protagonist smokes himself to death. My script called for atmosphere, so we lit a fire in the living room. I could barely see the actors through the viewfinder. Now we all had tears in our eyes. It was great.

That night, sleepless, I processed the footage in the kitchen sink. To my horror, my developer kit was short the fixer. The silver halide would continue to expose. The film would turn black. I needed fixer!

It was gone midnight but I jumped on my motorcycle and raced across town through the dangerously dark and muggy streets of Lusaka, Zambia, risking potholes, speed bumps, bicycle thieves and black dogs.

I was speeding faster than I dared—for my film—for art! I was beginning to forget myself.

I dipped into a pocket of deliciously cool air and for a second I felt so alive that I even forgot my film. I had almost forgotten her! Dabrowski was right, I was growing out of myself.

I must have forgotten about gravity because I lifted off the face of the earth. From up there, here’s what I saw:

My despair wasn’t bogus, and yet it was lost in the greater scheme of things. There was this project known as Me, all about self-improvement, which is okay, I guess, except it looked so puny.

I was making myself my life’s work—my happiness—and, well, it’s just too small a work.

I never came back to earth

When I became a writer, Dabrowski’s hypothesis helped me to understand:

  • The human condition
  • Why we are so compelled by stories
  • And how fiction really works

Without catching Dabrowski’s positive virus, I could never have written Story Structure to Die For, or Story Structure Expedition: Journey to the Heart of a Story.

You won’t believe this, but upon my return to Canada I discovered that Dabrowski lived for six months of the year in my home town of Edmonton. Six blocks from where I lived! We became good friends. He would serve me strong coffee and dark chocolate while I told him the stories of my serial disintegrations. I can still see his eyes sparkle.

Dabrowski medalI made a film of Dabrowski

I made a documentary film of Dr. Dabrowski’s clinical practice.

To my great surprise I was honoured with a medal for my support of the Polish Mental Health Movement.

But getting back to the film in the kitchen sink. I made it home with the fixer, all right. When projected, the scenes appeared all woozy and wavy, as if viewed through a fishbowl.

As if some virus had infected the developer.

It took the film to a whole new level.

 

Add a Comment
15. How to Write from the Heart and Win Readers

Write from HeartA good story is often inspired by a powerful experience.

One that changed the author’s mind, their very way of looking at the world.

A great story may change the reader’s life as well.

I’m stealing that opening—and the title—from Dr. John Yeoman over at Writers’ Village. John is re-running one of my recent blog posts and reframing it as a lesson for writers.

I wish I was better at addressing writers’ issues. I might have more subscribers.

Most likely, though, I’ll continue to issue my inscrutable Reece’s pieces and defer to Writers’ Village as the forum for writers looking for mentorship and encouragement.

John has recently launched Story PenPal, which is proving to be a spirited venue for writers to post their  fiction and receive feedback from peers and story experts.

I’ll get back on track in a few days with a post titled:

“How to Catch an Idea Virus.”

Or, “The Virus that Ate my Brain.”

Or, I’ll ask Dr. John what he would call it.

Add a Comment
16. Blood Donors

Blood Donors

किसी परिचित का फोन आया कि मथुरा या अलीगढ मे एक महिला को ओ नैगेटिव रक्त की जरुरत है उस महिला की सर्जरी होनी है. मैने तुरंत नम्बर खोजे.राजस्थान के भीलवाडा से राजेद्र माहेश्वरी जी की मदद से मथुरा में रक्तदाता से सम्पर्क तो हुआ पर बात नही बनी और महिला को आनन फानन अलीगढ ले कर जाना पडा. वहां ओ नैगेटिव का कोई ऐसा रक्तदाता जानकारी मे नही था इसलिए चाह कर भी सहायता नही हो पाई.

कुछ समय पहले  एक पोस्ट में मैने अलग अलग राज्यों के कुछ ऐसे ही लोगो के नम्बर मांगें थे जो रक्तदान के क्षेत्र मे बहुत काम कर रहे हैं ताकि रक्तदाताओ का एक ऐसा नेट वर्क बनें कि कम से कम हमारा समाज मे इतना तो योगदान हो कि रक्त की कमी से कोई जिंदगी का साथ न छोडे.

 

imagesgh

Blood Donors

मुझे इस बात की बहुत खुशी भी है जब मैने यह अभियान शुरु किया तब मात्र चार नाम थे और उसके बाद राजस्थान के भीलवाडा, सूरत गढ, भरतपुर, हनुमान गढ व छ्तीस गढ के कोरबा , महाराष्ट्र के चालीस गांव, Rishikesh, मुम्बई,  पंजाब में पटियाला, दिल्ली व इंदौर से ऐसे लगभग 50 रक्तदाताओं से सम्पर्क हुआ कि उन्होनें विश्वास दिलाया कि जहां तक सम्भव होगा वो किसी को रक्त की कमी से जान से हाथ नही धोने देंगें.

मेरे लिए इतना सुनना ही बहुत था. पर अभी भी बहुत रास्ता बाकि है… अगर आप अपने शहर मे किसी ऐसी शख्सियत को जानते हैं या आप खुद ही हैं तो जरुर बताए !!!

Blood Donors

The post Blood Donors appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
17. Gifts

Gifts

पायल कत्थक नृत्य मे प्रथम आई. उसे नटराज की मूर्ति उपहार स्वरुप मिली. एक मित्र आगरा होकर आए और वो ताजमहल का खूबसूरत पोस्टर ले कर आए.

वही नन्ही नैना को उसकी दादी ने प्यारा सा शेर वाला टेडी बीयर दिया. मणि की दोस्त उसके लिए बेहद खूबसूरत फव्वारा और महाभारत का पोस्टर ले कर आई. ऐसे बहुत से उपहार होते है जिनका हम अक्सर आदान प्रदान करते हैं.

 

 

 

उपहार एक नई सी खुशी दे जाते  हैं कुछ बच्चे तो अपना बर्थ डे मनाते ही इसलिए है कि ढेर सारे Gifts मिलेंगें.

पर आज अचानक एक लेख पढा कि घर में क्या नही रखना चाहिए. उसमे लिखा था कि महाभारत भारत के इतिहास का सबसे भीषण युद्ध माना जाता है इसलिए इस युद्ध के प्रतीक, तस्वीर या रथ आदि को घर में रखने से झगडा बढ़ता है.

ताजमहल मुमताज की कब्रगाह है इसलिए उसकी तस्वीर या उसका प्रतीक घर में रखना नकारात्मकता फैलाता है. फव्वारा सुख, पैसे को बहा कर ले जाता है. नटराज की मूर्ति में भगवान शिव ‘तांडव’ नृत्य की मुद्रा में हैं जो कि विनाश का परिचायक है। उसे घर मे कभी नही रखना चाहिए और जानवरो का कोई भी प्रतीक स्वरुप लाने से स्वभाव उग्र होने लगता है.

अरेरे !! कितनी सच्चाई है इस बात में यह तो पता नही पर ऐसे लेख पढ कर मेरे मन मे तनाव जरुर हो गया है. Gifts क्या ऐसे भी हो सकते हैं … अगर आप भी कुछ इस बारे मे जानते हों तो जरुर बताईएगा..

6 things that should not be kept at home according to vastu – Navbharat Times

भारतीय वास्तु विज्ञान चाइनीज़ फेंगशुई से काफी मिलता जुलता है। यह प्राकृतिक शक्तियों को मनुष्य के लिए उपयोगी बनाने की एक कलात्मक परंपरा है। हम अक्सर सुनते आए हैं कि घर में क्या रखना अच्छा होता है और क्या रखना बुरा। आइए, आज आपको बताते हैं कि घर में कौन-सी 6 चीजें कभी नहीं रखनी चाहिए-

नटराज की मूर्ति: नटराज नृत्य कला के देवता हैं। लगभग हर क्लासिकल डांसर के घर में आपको नटराज की मूर्ति रखी मिल जाती है। लेकिन नटराज की इस मूर्ति में भगवान शिव ‘तांडव’ नृत्य की मुद्रा में हैं जो कि विनाश का परिचायक है। इसलिए इसे घर में रखना भी अशुभ फलकारक होता है। 4. Read more…

अब जो घर में Gifts आ गए हैं उनका क्या किया जाए … अगर खुद रखे तो वहम और अगर किसी दूसरे को दें तो बहुत गलत बात होगी !!!

The post Gifts appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
18. नई मां

आज मेरी सहेली मणि ने एक ऐसी कहानी सुनाई कि जिसे सुनकर मैं निशब्द रह गई.
उसने नई मां कहानी कही पढी थी. कहानी कुछ ऐसे है

एक आदमी ने अपनी पत्नी के मरने के बाद दूसरी शादी की और अपने 5 साल के बेटे से पूछा कि उसे अपनी नई मां कैसी लगी. इस पर बेटा मासूमियत से बोला कि मेरी मां झूठी थी पर नई मां सच्ची है इस पर पिता हैरान हो गए और पूछा कि वो ऐसे कैसे कह सकता है इस पर बेटा बोला जब मैं शरारत करता था तो मां नाराज होकर कहती थी कि ठहर जा… तुझे तो मैं खाना ही नही दूंगी पर थोडी ही देर मे लाड प्यार करके पुचकार के गोद मे बैठा कर खाना खिलाती थी.

नई मां भी यही कहती है कई बार नाराज होकर कहती है कि तुझे खाना नही दूगी पर वो सच्ची है वो वाकई मे खाना नही देती “आज दो दिन हो गए मुझे खाना खाए” !!!!

( वैसे कहानियों का भी अलग ही संसार होता है कुछ कहानियां हसांती हैं गुदगुदाती है वही कुछ कहानियां ऐसी होती हैं जो कुछ सोचने पर मजबूर ही कर देती हैं. नई मां कहानी कुछ ऐसी की कहानी है …)

The post नई मां appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
19. Twitter

cartoon bird

Twitter … Twitter … हर कोई सोशल नेट वर्किंग साईट पर लगा टवीट किए जा रहे है पर रियल लाईफ में  tweet सुनना ही भूल गए. अब अगर आपको भी ये टवीट सुनना है तो घर की छत पर या आंगन में पानी से भरा बर्तन रखना पडेगा … सच मानिए भरी झुलसती गरमी मे जब पक्षी टवीट टवीट  करते आएगें तो दिल को सुकून मिलेगा … भई मुझे तो उस टवीट से अच्छा ये टवीट लगता है :)

 

PM Narendra Modis one year Twitter record: 8.5 million followers

Prime Minister Narendra Modi has garnered close to 8.5 million followers on Twitter in the span of one year, statistics from the popular micro-blogging network showed. The figures are an indicator of the Prime Minister’s efficacy on social media websites where he is very active. PM Modi remains the third-most followed world leader on Twitter after US President Barack Obama and Pope Francis. See more…

Twitter हो या सोशल मीडिया की कोई भी साईट … अच्छा है जुडे रहना चाहिए पर पक्षियों को भी पानी और दाना देते रहेंग़ें तो बहुत बेहतर होगा…

The post Twitter appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
20. No smoking please

 

 

cartoon smoking by monica gupta

No smoking please

एक जानकार बहुत  स्मोक करते हैं वो हर बार अपना टारगेट रख लेते है कि बस होली के बाद कभी लूंगा… फिर राखी पर बात आती है फिर दीपावली पर और फिर नए साल पर … साल दर साल गुजरते जा रहे हैं पर छोड नही पा रहे. मुझे  एक बात याद आई कि एक आदमी ने पेड पकडा हुआ और जोर जोर से चिल्ला रहा कि बचाओ पेड ने मुझे पकड रखा है .. जो देखता हंसता कि भई पेड क्या पकडेगा. तूने ही पेड को पकडा हुआ है. हमारे जानकार भी हालत भी ऐसी ही है. सिग्रेट को पकडा उन्होनें हुआ है और चिल्ला रहे हैं कि बचाओ सिग्रेट ने उन्हें पकडा हुआ है … ह हा हा !!! वैसे हंसना नही चाहिए क्योकि बात बहुत गम्भीर है.

31 मई को वर्ल्ड नो स्मोकिंग डे है सोचा आज इसी पर अपने विचार लिख डालू  smoking  पर सर्वे करने के बाद हैरानी ये पढ कर हुई कि नशे की लत में महिलाएं भी पीछे नहीं हैं और तो और महिला स्मोकर्स की तादाद में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। एम्स के डॉक्टरों का दावा है कि पिछले पांच सालों में महिलाओं में स्मोकिंग 11 पर्सेंट से बढ़कर 20 पर्सेंट तक पहुंच गया है। डॉक्टरों का यह भी कहना है कि महिलाओं में स्मोकिंग की यह लत साल दर साल बढ़ती ही जा रही है.

ग्लोबल एडल्ट टोबैको सर्वे (गैट्स) के अनुसार भारत में कुल जनसंख्या के लगभग 35 पर्सेंट लोग नशा करते हैं। इसमें युवाओं की संख्या सबसे ज्यादा है। मौजूदा समय में 20 पर्सेंट महिलाएं नशे की गिरफ्त में हैं। 31 मई को वर्ल्ड नो स्मोकिंग डे है। स्मोकिंग को लेकर एम्स के डॉक्टरों का कहना है कि आजकल अगर कोई नशा करता है, चाहे वह महिला हो या पुरुष, अब वे स्मोकिंग को अपना स्टेटस मानते हैं और मजबूरी नहीं, बल्कि शौक से पीते हैं। यही शौक उनकी लत बन जाती है और फिर यह लत एक दिन उन्हें बीमार करती है। अब पुरुषों की तरह महिलाएं भी कम उम्र में सिगरेट पीना शुरू कर रही हैं। कहीं-कहीं तो यह भी देखा गया है कि महिलाएं पुरुषों के मुकाबले ज्यादा सिगरेट पीती हैं। उनकी यही आदत स्वास्थ्य को बहुत ही ज्यादा नुकसान पहुंचा रहा है। इसकी वजह से उनमें फेफड़ों के कैंसर का रिस्क और भी ज्यादा बढ़ जाता है।

इस बारे में राष्ट्रीय दवा निर्भरता उपचार केंद्र (एनडीडीटीसी) के हेड डॉक्टर एस. खंडेलवाल का कहना है कि तंबाकू का यूज चाहे किसी रूप में किया जाए, उसका नुकसान तो होना ही है।

एनडीडीटीसी में अडिशनल प्रोफेसर डॉक्टर सोनाली ने कहा कि आजकल बच्चे भी नशे के आदी होते जा रहे हैं। बच्चों में नशे की लत इतनी तेजी से बढ़ रही है कि अगर उसको रोकने के लिए जल्द ही कुछ कड़े कदम नहीं उठाए गए, तो उसके नतीजे काफी खतरनाक हो सकते हैं। क्योंकि अगर बच्चे दस साल की उम्र में कोई नशा करते हैं तो वह लंबे समय तक इसका यूज करेंगे और उसे खतरनाक बीमारी होने की आशंका ज्यादा होती है। डॉक्टर ने कहा कि अब स्मोकिंग छोड़ने के कई उपाय हैं जिनमें मेडिकेशन, काउंसलिंग और जरूरी दवा के जरिए अपनी इस लत से छुटकारा पाया जा सकता है

No smoking please….

6 Ways Quitting Smoking Is Good for Your Heart| Everyday Health

One of the most important things you can do to keep your heart healthy — and to keep it beating for as long as possible — is to avoid or quit smoking. If you’re a smoker, kicking the habit can heal the damage nicotine inflicts on your heart and on your longevity in several striking ways. See more…

सस्मोकिंग की चाह जगे तो पुस्तक पढें, कसरत करें और ध्यान में मन लगाएं। सकारात्मक सोच और दृढ़ इच्छाशक्ति से ही इस बुरी आदत से मुक्त हो सकेंगे। आयुर्वेद विशेषज्ञों के अनुसार शतावरी, ब्राह्मी, अश्वगंधा जैसी जड़ी-बूटियां और त्रिफला व सुदर्शन चूर्ण शरीर से दूषित पदार्थों को बाहर निकालने का काम करते हैं। लिंग और जरूरी दवा के जरिए अपनी इस लत से छुटकारा पाया जा सकता है

best way to quit smoking

See more…

कुल मिला कर यही कहना है कि जो अखबार मे लिखा रहता है कि सिगेट पीना स्वास्थय के लिए हानिकारक है वो ऐसे ही नही लिखा हुआ … वाकई में बहुत भाव छिपा है इसके पीछे … अगर आप वाकई में … गौर कीजिएगा, वाकई में छोडना चाह्तें हैं तो आप इसे छोड सकते हैं क्योकि सिग्रेट  ने आपको नही बल्कि आपने सिग्रेट  यानि मौत को पकड रखा है…  और शुभ काम के लिए हर समय शुभ है और सिग्रेट छोडने से ज्यादा शुभ विचार कोई और हो ही नही सकता

No smoking please….

The post No smoking please appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
21. The Joy of Sadness

Joy of SorrowA friend just died and so of course I’m very sad.

A little girl cries over her scoop of pistachio ice cream melting on the sidewalk.

How sad is that empty cone? And look at those tears. She hasn’t learned that gravity works against us till our dying day.

A gull with straw in its beak perches on the peak of my roof. Two hours ago I watched it mount its mate to fertilize the egg that would hatch in the nest that no longer sits on my roof because there’s no way a gull family is going to turn my roof into a guano factory this summer as it did last. No way!

Still, it’s sad.

Life never seems to work out, however well we arrange the pieces or play the game. According to most wisdom traditions, that’s good news.

My friend’s passing is sad and yet his absence leaves me with memories of his participation in our writing group over many years. In the empty space he leaves behind I find myself more determined than ever to write well and fast and publish again without delay.

That little girl, is she not the picture of sadness? But aren’t our saddest moments those that loom largest in memory? We look back at them as stepping stones toward our growing up. This ice cream failure can serve her in this way. I hope I’m right.

And a gull with no nest, how sad is that?

PJ circa 1972 2I don’t mind being sad. I don’t disparage sadness as a state of being.

I’ve often been told I look sad, and yet I often fall asleep at night feeling showered by gifts.

Sadness!—if I were a poet I would write an ode to sadness.

Such as the time I received the “Dear John” letter in the mail.

I don’t expect you to believe this but as I laid eyes on the envelope thunder mumbled overhead. As I opened the letter the room fell dark and as I read the deadly words the door slammed shut with a gust of wind that delivered such a deluge of tropical rain hammering on the tin roof that sadness seemed to bury me alive.

How long was I a ghost? You’ll have to ask my then-roommate because it wasn’t long before he couldn’t take it anymore and he tossed me a book, saying, “Read this.” Just tossed it and turned away without bothering to see if I caught it, as if I were a beggar in the gutter.

The scene is vivid in my mind, the trajectory of that book flying towards me, a second in time that became the hinge around which my life turned forever.

To this day, the radical attitude I encountered in that rare little book underpins my understanding of the human condition. It laid the groundwork for my existential experiments in India. It underpins my theory of Story as I present it in my two eBooks, Story Structure to Die For, and Story Structure Expedition—Journey to the Heart of a Story.

And all because sadness turned me into an empty begging bowl, I guess. And because gifts would seem to seek the empty place. Is that true?

If so, is that a paradox? Or does that make eminent sense?

I don’t quite know how to end this. I want to return to my writer friend, Rick (may he rest in peace), and to the girl and the gull and to all lovers who fly the coop. It seems I’m surrounded by events that make me sad, but what I want to say is that I’m sorrow’s willing victim.

I could even say that sorrow likes me. It pounds on my roof. It keeps trying to build a nest up there, for goodness sake.

The mystics say that’s good news.

And that little book that changed my life explains why that might be so. It’s called Positive Disintegration, by Kazimierz Dabrowski. He was no mystic, but he had all the reason in the world to be sad.

Perhaps that’s why he and I became such good friends.

I’m going to write about that next.

 

Add a Comment
22. National Geographic’s Newsmaker Challenge – Step Up to the Plate to Fight Food Waste

NewsmakerLogo

 

On May 12th, National Geographic launched its first annual Almanac Newsmakers Challenge in conjunction with the release of their 2016 edition of the New York Times bestselling National Geographic Kids Almanac (($14.99; ISBN: 978-1426319228; Ages 8-12). The first challenge is inspired by National Geographic Emerging Explorer and food waste warrior Tristram Stuart, author of Waste: Uncovering the Global Food Scandal (W.W. Norton & Co., 2009). Step Up to the Plate to Fight Food Waste asks kids to take the pledge to “waste less food” and draws attention to the vast amount of food wasted worldwide.

Stuart estimates that each year, the United States alone wastes about 40 million tons of food – enough to feed the 1 billion malnourished people on the planet. The Newsmaker Challenge website provides kids with food waste facts and tips to motivate them to make a difference at the grass-roots, consumer level. Step Up to the Plate ideas include paying attention to how much food gets thrown away at your next meal and then planning carefully to avoid wasting any food for a day or even a whole week, having a potluck party where everyone brings something creative and delicious made out of leftovers, or asking your school cafeteria to step up to host a “Waste Less Food” week.

Kids will be able to read about how their actions made a difference in next year’s 2017 Almanac, from the ages of the participants who stepped up, to the number of family members who multiplied their efforts, to the amount of food saved as a result. They can also look for a new Newsmaker Challenge every year to encourage them to continue being a positive force in the world around them.

Visit http://kids.nationalgeographic.com/explore/almanac-2016/ to take the pledge and download all the tools necessary to step up to the plate in this year’s 2016 Almanac Newsmaker Challenge!

 

tristram-stuart-web_79458_200x150About Tristram Stuart

Stuart became interested in the subject of food waste when he was a student and living on a small farm in England. He observed what was going on in his neighborhood and came up with some great ideas on how he could feed his farm animals and waste less food. The more he learned, the more he wanted to do more to feed not just his animals, but people around the world. He is an author of the award-winning book, Waste: Uncovering the Global Food Scandal, the founder of a global charity (www.feedbackglobal.org), and winner of the international environmental award, The Sophie Prize 2011, for his fight against food waste.

0 Comments on National Geographic’s Newsmaker Challenge – Step Up to the Plate to Fight Food Waste as of 6/4/2015 10:44:00 AM
Add a Comment
23. सकारात्मक सोच

नेट एक बहुत अच्छा माध्यम है बहुत सारी बातें खोजने का. मुझे सकारात्मक सोच के  विचार पढने बेहद पसंद हैं. एक दिन एक बहुत अच्छे से विचार की तलाश में मैने बहुत साईटस देखी . देखते देखते एक विचार बहुत पसंद आया.मैं उसने नोट करने ही वाली थी कि सोचा चलू और आगे देख लूं शायद उससे भी अच्छा मिल जाए .

और बेहतर के चक्कर में मैं आगे सकारात्मक सोच देखने लगी पर कोई पसंद ही नही आया फिर सोचा चलो पहले वाला ही विचार अच्छा था वही नोट कर लेती हूं  पर ओह नही … वो भी गायब हो गया. यानि बहुत सारी साईटस सर्च कर रही  थी ना वो उसी में कही गुम हो गया.  खोजा… खोजा उसे बहुत खोजा पर !!!  पर मिला नही :( और याद भी नही था कि क्या लिखा था. मात्र एक लाईन तो नही डाल सकती थी ना …

तभी मेरे मन में विचार आया कि जिंदगी मे भी अक्सर ऐसा होता है जो हमारे पास होता है उसकी परवाह नही करते और बेहतर और अच्छा खोजने के चक्कर मे हम अपनो को भी खो देते हैं इसलिए जो है उसी की वेल्यू करनी चाहिए और खुश रहना सीखना चाहिए नही तो मेरी तरह परेशान होना पडेगा!! सकारात्मक सोच

 

The post सकारात्मक सोच appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
24. शुभ लाभ

शुभ लाभ

बेशक, घर लेते या बनवाते समय नक्शे ,वास्तु और ऐसी चीजे जो सुख समृदि लाए आदि रखने का बहुत क्रेज हो गया है. हम लोग घर बनवाने के बाद उसकी सजावट में कोई कसर नही छोडते और महंगी से महंगी चीजे लगवाते हैं ताकि दूसरे लोग देखें. कोई दिक्कत नही जिनके पास पैसा है वो तो  दिखाएगें ही.

 

 photo

बात ये नही है बल्कि बात ये है कि  इसके साथ साथ घर को पूरी तरह से व्यवस्थित रखना भी उतना ही जरुरी है जैसाकि , रंग-रोगन पुराना न पड़े. टपकने वाले नलों की मरम्मत होनी चाहिए. फ्यूज बल्बों को बदलवाने जरुरी हैं,शीशे साफ और खिड़कियों के टूटे कांचो को बदलना भी चाहिए. यकीनन इससे शुभ लाभ की प्राप्ति होगी घर मे बरकत आएगी…

शुभ लाभ  के लिए सबसे ज्यादा जरुरी है  शौचालय की स्वच्छता. कई लोग घर के बाहर की तरफ शौचालय बनवा लेते हैं पर  उसका रख रखाव सही नही कर पाते और जो भी घर के भीतर दाखिल होता है उसको बदबू से दो चार होना पडता है उसे साफ रखना जरुरी है क्योंकि, घर के स्वास्थ्य का सीधा संबंध हमारे  स्वास्थ्य से है. वैसे त्योहारो में घर की सफाई हो ही जाती है पर ये वाली सफाई हमेशा रहनी बेहद जरुरी है …( शुभ लाभ)

The post शुभ लाभ appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
25. One Star for Two Mice!

Kirkus says:

The deceptively simple counting story of two mice, their adventure, and friendship. One morning in Ruzzier’s imaginative and colorful world, two mice wake to explore. The tiny window above the bed beckons: water, mountains, and sky are waiting for these two. Starting before the title and ending on the copyright page, minimal text says all that is needed: “One house / Two mice / Three cookies. / Three boats / Two oars / One rower. / One nest / Two eggs / Three ducklings.” New readers will soon notice the number pattern and slow down to see how the droll illustrations extend the story. For instance, the mouse with one cookie has an angry expression and a rather tightly curled tail, while the loose-tailed mouse looks gleeful as it chows down on two cookies. The sunny rowboat scene is not so sunny for the mouse who has to manage the two oars. By the time the two buddies return to their home, all is forgiven when the delicious soup is served. (And, in a visual nod to Sendak, it is clearly “still hot.”) The small trim size and careful attention to details give this book enormous appeal; the decorative floor tiles, ornamental feet on the kitchen table, and mismatched stools fit right in with the red hills and ever changing sky. The simplicity of the text means that the earliest readers will soon be able to pick it up and will return to it over and over. One story. Two mice. Three cheers. Lots to love.

Screen Shot 2015-03-13 at 11.51.59 AM

 

0 Comments on One Star for Two Mice! as of 1/1/1900
Add a Comment

View Next 25 Posts