What is JacketFlap

  • JacketFlap connects you to the work of more than 200,000 authors, illustrators, publishers and other creators of books for Children and Young Adults. The site is updated daily with information about every book, author, illustrator, and publisher in the children's / young adult book industry. Members include published authors and illustrators, librarians, agents, editors, publicists, booksellers, publishers and fans.
    Join now (it's free).

Sort Blog Posts

Sort Posts by:

  • in
    from   

Suggest a Blog

Enter a Blog's Feed URL below and click Submit:

Most Commented Posts

In the past 7 days

Recent Posts

(from all 1553 Blogs)

Recent Comments

JacketFlap Sponsors

Spread the word about books.
Put this Widget on your blog!
  • Powered by JacketFlap.com

Are you a book Publisher?
Learn about Widgets now!

Advertise on JacketFlap

MyJacketFlap Blogs

  • Login or Register for free to create your own customized page of blog posts from your favorite blogs. You can also add blogs by clicking the "Add to MyJacketFlap" links next to the blog name in each post.

Blog Posts by Date

Click days in this calendar to see posts by day or month
new posts in all blogs
Viewing: Blog Posts from All 1553 Blogs, Most Recent at Top [Help]
Results 26 - 50 of 628,429
26. स्वच्छता का अहसास

Grabbed Frame 3

 

स्वच्छता का अहसास- एक अनुभव

बात 2007 -2008 की है तब स्वच्छता अभियान हरियाणा के जिला सिरसा  में जोर  शोर से चला हुआ था. हम इस अभियान की  डाक्यूमैंट्री बना रहे थे तो स्वाभाविक है गांव गांव जा कर लोगो से इस अभियान के बारे मे साक्षात्कार ले रहे थे.

गांव में जा जा कर लोगों को समझाना कि खुले में शौच न जाओ ये अच्छा नही है …. आसान नही था. क्योकि बरसों से बाहर जाकर शौच करने का रिवाज रहा है तो कहां मानेगें ये लोग ….  फिर भी चलो सोच में उनकी थोडा बदलाव आया. कुछ गांव के लोग बहुत  समझदार थे  तो कुछ गांव के लोग बिल्कुल न समझ  और कुछ तो लडने को ही उतारु हो जाते कि हम तो बाहर शौच जाएगे कर ले  जो करना है …  ऐसे मे उनकी सोच बदलने मॆ कुछ समय लगा.

अभियान के दौरान एक गांव की महिलाए  सामने आने से कतरा रही थी.  बहुत समझाया  और कुछ देर बाद थोडी सी महिलाए सामने आई. आते ही महिलाओं ने मुझे घेर लिया और बोली कि हम न जाने इस अभियान को … हम को ये बता दो कि पैसा कितना मिलेगा… पैसा ??? किस बात का पैसा ??? इस पर वो बोली कि हम निगरानी करेगी. सुबह शाम गांव वालों को बाहर  जाने से रोकेगी तो समय भी तो लगेगा उसी लिए पूछ रहे हैं कि पैसा कितना लगेगा… उन दिनों मैं “जी न्यूज चैनल” की संवाददाता भी हुआ करती थी और  प्रशासन की ओर से डोक्य़ूमैंटी भी  बना रहे थे. मुझे ज्यादा बोलने का अनुभव तो नही था पर चूकि इस अभियान को बहुत नजदीक  से देख रही थी  और जिले के ऎडीसी डाक्टर युद्दबीर सिह ख्यालिया जोकि इस अभियान को आगे बढा रहे थे उनकी बाते सुन सुन कर मन में जोश भरा हुआ था. मन में  ढेरों विचार उमड रहे थे.

उन्हे  पेड के नीचे बैठा दिया और बोला कि बताओ कितना पैसा चाहिए. कोई बोली पाचं सौ तो कोई बोली सात सौ रुपया महीना तो होना ही चाहिए. क्या ??? मैने कहा बस ?? 500 – 700 रुपए महीना. उन्होनें सोचा कि बहुत कम बोल दिया शायद तो एक खडी होकर बोली हजार मैडम जी हजार चाहिए.  क्या ??? सिर्फ हजार !!! सफाई की कीमत सिर्फ हजार रुपए. इस पर वो फिर सोचने लगी और बोली पद्रंह सौ रुपए … फिर महिलाओं मे कानाफूसी होने लगी.

मैने उन्हें शांत करवाया और बोला कि ये स्वच्छता अभियान है स्वच्छता अभियान … इस अभियान के अगर आप हजार क्या लाख भी मांगोगे तो भी कम है क्योकि ये जो काम आप लोग करने जा रहे हो यह अमूल्य है बहुमूल्य है इसकी कीमत का तो कोई अंदाजा ही नही लगाया जा सकता.

कोई सिर पर पल्लू डाले तो कोई नाक पर पल्लू रखे मेरी बात गम्भीरता से सुन रही थीं. मैने कहा अच्छा चलो एक बात बताओ … आपको ये पता है कि पहले हमारा देश आजाद नही था. बहुत लोगों ने कुर्बानी दी … कुछ की आवाज आई कि म्हारा दादा ससुर , ताऊ, ने भी हिस्सा लिया था … मैने कहा कि अरे वाह !! ये तो बहुत अच्छी बात है कि आप उस परिवार से हो … अच्छा ये तो बताओ कि क्या आपने कभी सुना कि जो लोग देश के लिए लडे. स्वतंत्रता आंदोलन में भाग लिया उन्होने ये कहा हो कि हम इस लडाई मे तभी हिस्सा लेंगें जब आप हमें पैसे दोगे .. सब हंसने लगी और बोली ऐसे थोडे ही न होता है बल्कि जिन जिन ने इस आंदोलन में  हिस्सा  लिया उन्होनें अपने गहने, जेवर तक भी दान मे दे दिए थे. बिल्कुल … मैने कहा  बस दिल में एक ही लग्न थी, जज्बा था और  निस्वार्थ सेवा भाव था कि हर हालत में देश को आजाद करवाना ही है कितने लोग तो बेनाम ही रह कर देश के लिए लडे और जान कुर्बान कर दी  कि देश को आजाद करवाना है और देखो सच्चे मन से देश के लिए लडे और आज हम आजाद है.

आज भी एक लडाई हमे लडनी हैं और वो लडाई है गंदगी के साथ … उसका जड से  सफाया करना है  और आपका साथ चाहिए आपकी निस्वार्थ सेवा भाव चाहिए और आप है कि पैसे मांग रहे हो ..

इन बातों ने उनको सोचने पर मजबूर कर दिया . मैने कहा कि इतिहास बदलने जा रहे हो  इतिहास आप लोग .. क्या कभी सोचा है आपने … सफाई के मामले मॆं पूरी दुनिया में देश एक  देश नम्बर एक पर होगा  हमारा देश वो भी आप लोगो की वजह से …

इतने में कुछ महिलाए बोल पडी … न जी हम कुछ नही लेंगें … सफाई रखेंगें और अपने गांव का देश मॆं नाम करेंगें …

इनकी बात सुनकर मन खुशी से नाच उठा कि मैनें भी  स्वच्छता की अलख जगाई.  कुछ लोगों को तो प्रेरित किया स्वच्छता  के लिए  कम से कम … :) जिस जोश मे ये अभियान सिरसा में आगे बढा वो वाकई मे देखने लायक था.  जिसका मुख्य श्रेय डाक्टर ख्यालिया और उनकी पूरी टीम को जाता है. निसंदेह अगर गांव वाले आगे न आते जागरुक  न होते तो स्वच्छता कभी नही आ सकती थी इसलिए गांव वाले, गांव के सभी स्कूल के  टीचर, पंच सरपंच की बेहद मह्त्वपूर्ण भूमिका रही. छोटे बच्चे से लेकर बुजुर्ग ने इस अभियान मे योगदान दिया.

तब सिरसा के 333 गांवो मे से 260 गांवों को निर्मल ग्राम पुरस्कार मिला . जिसे महामहिम प्रतिभा पाटिल जी ने हिसार में सम्मानित किया. सिरसा के हर गांव मॆ जय स्वच्छता के नारे गूंजने लगे और लोग खुशी से नाच उठे.

स्वच्छता का अहसास

 

 

The post स्वच्छता का अहसास appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
27. Passive Picture Book Programs

As a first year librarian, I was constantly looking for new passive programming ideas.  We had a passive “mystery box” program, that the children could participate in once a week. I was getting burnt out on trying to find 5 new items every Monday to fill the box, and the kids were getting frustrated that they had to wait a week to play again.  At other libraries, the mystery box works well when most children come just once a week, but our children come to the library every day after school and in the summer.  I felt like this type of passive programming was not as enriching as it could be.

Early this January, a new book came by my desk called, “28 Days: Moments in Black History that Changed the World” by Charles R. Smith.   I flipped through this and immediately wanted to turn this into a daily passive program.  Each page of this book has an illustration of a famous black person, the date of the important event, a poem describing the person and event, and a paragraph at the bottom giving more detail.  I planned to put the book out on the reference desk, turning the page every day to reveal a new person and event during the month of February to celebrate Black History Month.  First, I created a handout to give children with general questions that could be applied to any page of the book; who, what, when?  The kids had to read the page, write the name of the famous person, what they did to change history, and when did it happen.  After they completed the questions, I would go over their answers and the page to make sure they fully understood the events and why they were so important.  They then would get a small reward of a piece of candy.  Other kids would come up, seeing a crowd around my desk, asking what was happening. I collected all answer sheets to tally the participation numbers.  The passive program was so popular that I would collect 80 answer sheets weekly.

After the end of Black History Month, I brought the old mystery box back out, and the kids actually requested for the book to come back! I had to think quick and just my luck; another new book came my way, “Maps” by Aleksandra and Daniel Mizielinski.  This fit one of my goals for the children perfectly; to teach them about world culture and that we are all world citizens. Each page has a different country with illustrations of historical buildings, native plants and animals, cultural food, sports, etc.  I created over a dozen questions that could pertain to any country’s map. The children would choose a random answer sheet with 4 questions. The first two questions were always the same on all the papers; country and capital.  The last two questions were different, so one child could potentially read the same map page multiple days, but answer different questions each time. The other questions were to name specific animals, food, historical buildings, famous people, bodies of water, ethnic food, sports, natural formations, major cities, language, size, and population.  The children would turn their answers, I would initiate a discussion about the country (would they like to visit, what about the culture is interesting to them), then they would receive a small prize. This, again, was very successful and popular.

slide1With the Summer Reading Challenge coming up, I created a passive book program.  I have two book clubs, one is preschool to second grade and the other is third to sixth grade. Each club has their own short picture book; I chose Iron Man books because of our superhero theme. Children can come up to the desk to get their club’s book, read it, and then answer a few short questions.  I have multiple sheets with different questions pertaining to each group’s book and the children will be able to participate once a day, choosing different questions for each new day.

I am very pleased with how successful these passive book programs have gone and I am excited to discover new books that will produce fun and education programs in the future.

********************************************

Courtesy photo of guest blogger

Courtesy photo of guest blogger

Our guest blogger today is Angela Bronson. Angela has a Bachelor in Fine Arts from Lourdes University in Sylvania, Ohio. This is her ninth year working for the Toledo-Lucas County Public Library, and is currently a Children’s Librarian at Kent Branch Library. In the past, she was a Preschool Art Teacher for Bowling Green State University. She illustrated her first picture book this year titled, “Alora in the Clouds.” 

Please note that as a guest post, the views expressed here do not represent the official position of ALA or ALSC.

If you’d like to write a guest post for the ALSC Blog, please contact Mary Voors, ALSC Blog manager, at alscblog@gmail.com.

The post Passive Picture Book Programs appeared first on ALSC Blog.

0 Comments on Passive Picture Book Programs as of 7/1/2015 1:04:00 AM
Add a Comment
28. Mistakes Are Proof That You Are Trying, by Samantha Snyder | Book Giveaway

Enter to win a copy of Mistakes Are Proof That You Are Trying, by Samantha Snyder. Giveaway begins July 1, 2015, at 12:01 A.M. PST and ends July 31, 2015, at 11:59 P.M. PST.

Add a Comment
29. The limits of regulatory cooperation

One of the most striking structural weaknesses uncovered by the euro crisis is the lack of consistent banking regulation and supervision in Europe. Although the European Banking Authority has existed since 2011, its influence is often trumped by national authorities. And many national governments within the European Union do not seem anxious to submit their financial institutions to European-wide regulation and supervision.

The post The limits of regulatory cooperation appeared first on OUPblog.

0 Comments on The limits of regulatory cooperation as of 7/1/2015 4:36:00 AM
Add a Comment
30. Spotlight and Giveaway: A Promise of Forever by Marilyn Pappano

This morning I have an excerpt and giveaway for A Promise of Forever by Marilyn Pappano!

A PROMISE OF FOREVER by Marilyn Pappano (June 30, 2015; Forever Mass Market; A Tallgrass Novel)

Sergeant First Class Avi Grant’s return to Tallgrass, Oklahoma is a long-deferred wish come true. With her final tour in Afghanistan over, Avi can focus on her future-a job here at home and a family of her own. There’s just one thing she has to do first: visit her beloved commanding officer’s widow and share her grief. The last thing she expected was to feel an instant attraction to the woman’s son. Too bad the sexy surgeon is impossible to ignore . . . and even harder to resist.

The sting of his parents’ divorce still niggles at Ben Noble. So when a warm, funny, and beautiful young sergeant arrives, mourning his stepfather’s loss as strongly as his mother does, Ben can’t help but feel conflicted. If his parents taught him anything, it’s that love doesn’t last-especially with a career soldier. But try as he might to keep his distance, Ben begins to see that Avi-and the spark she brings to his life-is the stuff forever is made of. As Avi’s leave ticks away, can Ben convince her to take a chance on forever with him?

Buy the book!

Amazon

B&N

iBooks

GooglePlay

Kobo

BAM

About the author:

Known for her intensely emotional stories, Marilyn Pappano is the USA Today bestselling author of nearly eighty books. She has made regular appearances on bestseller lists and has received recognition for her work in the form of numerous awards. Though her husband’s Navy career took them across the United States, he and Ms. Pappano now live in Oklahoma high on a hill that overlooks her hometown. They have one son and daughter-in-law, an adorable grandson, and a pack of mischievous dogs.

Social Media Links:

Website

Facebook

Twitter

Goodreads

Excerpt:

Outside, the sounds of children playing were louder, the splashes indicating that the kids across the street were enjoying one of the last swims of the summer. Avi and Ben walked silently to her car, parked in the driveway.

She nestled the pie plate into the passenger seat, tucked her purse around to hold it in place, then closed the door before turning to him.

So . . . Would he ask for her cell number? Offer his? Make firm plans to see her again before driving away?

For the first time in a long time, the answers mattered.

Linking his fingers with hers, he pulled her to the driver’s side of the car, then stood, invading her personal She liked it.

“Do you have any plans for tomorrow night?”

Yes! “Not a single one.”

He combed his fingers through his hair. “Would you like to go out to dinner?”

She wanted to blurt out the affirmative as quickly as it had echoed in her head, but he went on. “You would have to drive to Tulsa. Tuesday is surgery day, so if I come here, I can’t get here before seven, and I’ll have to head back before nine.”

Drive to Tulsa? An hour or less. No big deal. She’d had commutes between apartments and forts that took longer, and that was just to work. An evening with Ben was such a nicer payoff. “I don’t mind.”

“I usually get out of clinic around six. We could meet at my house around six thirty?”

A smile spread across her face. “I can handle that.”

“Good.” He wasn’t smiling, but his eyes showed something just as encouraging. Relief, maybe, or satisfaction. Hmm. She could show him satisfaction.

He leaned closer, just slightly, and lowered his voice. “I’d kiss you good night, but we have an audience.”

Glancing over her shoulder toward the house, she caught just a glimpse of Patricia before the blinds at the living room window settled. Looking back at Ben, she smiled. “Kiss me anyway.”

He closed the last of the distance between them, lowering his mouth to hers, giving her a sweet, gentle, tender kiss that set her blood on fire. It was impressive and surprising and just a bit scary, considering she’d had tons of kisses that were a whole lot more passionate and evoked a whole lot less of a response.

When he lifted his head, her fingers curled, wanting to wrap around the back of his neck and pull him down again. Her heart skipped a beat or two, and something deep inside her felt deprived.

In the dim light, Ben looked impressed and surprised and a bit scared, too. For a moment, he stared at her, all intense and searching, then he gave a rueful shake of his head. Stepping back, he asked for her cell phone, input his number, and texted it to himself to get her number.

“Six thirty,” he said when he handed it back, his voice rough-edged. “I’ll send you the address.”

“I’ll be there.”

a Rafflecopter giveaway

Add a Comment
31. Smithsonian Everything You Need to Know | Giveaway

Enter to win a set of Smithsonian Everything You Need to Know fact cards! Giveaway begins July 1, 2015, at 12:01 A.M. PST and ends July 31, 2015, at 11:59 P.M. PST.

Add a Comment
32. Would You Read It Wednesday #181 - How I Made My Baby (PB) PLUS Keep Voting For Illustrators!

Howdy Folks!

It's time for Would You Read It Wednesday!

But since Im interrupting the voting for the Illustration Contest, I have to add a link right here to remind anyone who hasn't voted yet to hop over and show those talented illustrators some love :)

http://susannahill.blogspot.com/2015/06/illustration-contest-for-childrens.html

And since you are all so wonderful for voting, we'll skip right to Something Chocolate... Brownie Ice Cream Sandwich!


Perfect for a July summer day! :)

Today's pitch comes to us from Lavanya whom you will remember from last July with her pitch for Sophie vs. The Monster and her pitch last month for The Sun, The Moon And Eve.  She says, "I'm a software engineer by day, and an avid reader of fiction, science fiction, fantasy, and literature by night. I'm also mother to a young girl who has just discovered the magical ability to make meaning out of the printed word. I started putting my own words down on paper last November, and when I went to my regional SCBWI conference in April, I confirmed a suspicion that I had long harbored - writers are the nicest people in the world, and I want to be one of them. :-)"

Here is her pitch:

Working Title: How I Made My Baby
Age/Genre: Picture Book (ages 4-8)
The Pitch: The thing about making a baby sister is, you have to be patient. First, you have to be patient until Mom and Dad realize you have the best idea. Then, you have to be patient for the baby to come out. But hardest of all is being patient while the baby grows big enough to play with you.

So what do you think?  Would You Read It?  YES, MAYBE or NO?

If your answer is YES, please feel free to tell us what you particularly liked and why the pitch piqued your interest.  If your answer is MAYBE or NO, please feel free to tell us what you think could be better in the spirit of helping Lavanya improve her pitch.  Helpful examples of possible alternate wordings are welcome.  (However, I must ask that comments be constructive and respectful.  I reserve the right not to publish comments that are mean because that is not what this is about.)

Please send YOUR pitches for the coming weeks!  For rules and where to submit, click on this link Would You Read It or on the Would You Read It tab in the bar above.  There are openings in November so you've got a little time to polish up your pitches and send yours for your chance to be read by editor Erin Molta!

Lavanya is looking forward to your thoughts on her pitch!  I am looking forward to seeing who will win the Illustration Contest!!!  (And one more time if you didn't get to vote yet... :) http://susannahill.blogspot.com/2015/06/illustration-contest-for-childrens.html)

Have a wonderful Wednesday everyone!!! :)


0 Comments on Would You Read It Wednesday #181 - How I Made My Baby (PB) PLUS Keep Voting For Illustrators! as of 7/1/2015 5:20:00 AM
Add a Comment
33. The Family Under the Bridge by Natalie Savage Carlson, pictures by Garth Williams 97pp RL4

Written in 1958 and winner of the Newbery Honor, The Family Under the Bridge is the story of how an old hobo named Armand, who wants nothing of homes, responsibility and regular work, ends up with all of these as well as a family of children. Set in Paris, France in a time when hobos were more like wandering gypsies than the people living on the streets these days, the story follows Armand

0 Comments on The Family Under the Bridge by Natalie Savage Carlson, pictures by Garth Williams 97pp RL4 as of 7/1/2015 5:28:00 AM
Add a Comment
34. Prince Charles, George Peele, and the theatrics of monarchical ceremony

Today marks the forty-sixth anniversary of Prince Charles’s formal investiture as Prince of Wales. At the time of this investiture, Charles himself was just shy of his twenty-first birthday, and in a video clip from that year, the young prince looks lean and fresh-faced in his suit, his elbows resting on his knees, his hands clasping and unclasping as he speaks to the importance of the investiture.

The post Prince Charles, George Peele, and the theatrics of monarchical ceremony appeared first on OUPblog.

0 Comments on Prince Charles, George Peele, and the theatrics of monarchical ceremony as of 7/1/2015 4:36:00 AM
Add a Comment
35. स्वच्छता के नारे

स्वच्छता के नारे

स्वच्छता हम सभी के लिए बेहद जरुरी है जानते हैं हम सब पर फिर भी मानते नही है और गंदगी फैलाए चले जाते हैं. ये कहना भी सही नही है कि गंदगी गांव के असभ्य और अनपढ लोग फैलाते हैं.

गंदगी पढे लिखे लोग भी बराबर की ही फैलाते हैं. हैरानी की बात तो तब हुई जब गांव के लोगों मे स्वच्छता की अलख जगाई गई उन्हें खुले मे शौच जाने से होने वाली बीमारियों के बारे मॆं बताया गया तो ना सिर्फ उन्होने घर में शौचालय बनवाया बल्कि दूसरों को भी प्रेरित करने के लिए नारे भी बना दिए.

ये स्वच्छता के नारे बनाए हैं हरियाणा में  जिला  सिरसा के गांव वालो ने … और स्वच्छता को एक नया आयाम दिया …

sawacchta  book by monica gupta

 

नारे स्वच्छता अभियान के

गाँव वालों ने तो स्वच्छता  अभियान को नर्इ दिशा देने के लिए ढ़ेरों नारे बना दिए।
• मूँगफली में गोटा, छोड़ दो लोटा।

• ना जिलें में, न स्टेट में, सफार्इ सारे देश में

• 1-2-3-4, कुर्इ खुदवा लो मेरे यार

• सफार्इ करना मेरा काम, स्वच्छ रहें हमारा गाँव।

• सुन ले सरपंच, सुन ले मैम्बर, कुर्इ खुदवा लें घर के अंदर

• बच्चें, बूढ़े और जवान, सफार्इ का रखो ध्यान
• आँखों से हटाओ पटटी, खुले में न जाओ टटटी

• खुले में शौच, जल्दी मौत

• सफार्इ है जहाँ, पढ़ार्इ है वहाँ

• गाँव-2 में जाना है, गंदगी को दूर भगाना है।

• नक्क तै मक्खी बैन नी देनी, खुल्ले में टट्टी रहन नी देनी

• लोटा बोतल बंद करो, शौचालय का प्रबन्ध करों।

• मेरी बहना मेरी माँ, खुले में जाना ना ना ना….

• सफार्इ का रखो पूरा ध्यान
गाँव को बना लो निर्मल ग्राम

• स्वच्छता है जहाँ, जिन्दगी है वहाँ
• खुले में शौच नही जाना है
गाँव को निर्मल बनाना है

• सफार्इ है जहाँ, खुदार्इ है वहाँ

• ताऊ बोला तार्इ से, सबसे बड़ी सफार्इ सै

• साफ पानी पीऐंगे
सुरक्षित जीवन जीऐंगें

• बच्चें, बूढ़े और जवान
खुले में शौच से सब परेशान

• जब गंदगी को जड़ से मिटाऐगें
तभी अच्छे नागरिक को कहलाऐगें

• मिल जुल कर छोडो़ चिंगारी
स्वच्छ हो जाए दुनिया सारी

• खुले में शौच, पिछड़ी हुर्इ सोच

• हर गाँव में ज्योति जगाऐंगें
देश को स्वच्छ बनाऐेंगें

• पिछला जमाना बीत गया, अब नया सवेरा आया है
हर घर में शौचालय हो यही समझ अब लाया हैं

महात्मा गांधी भी स्वच्छता पर जोर देते रहे और पंडित नेहरु भी स्वच्छता की अहमियत जनता को समझाते रहे.

महात्मा गाँधी

स्वच्छता स्वतंत्रता से भी महत्वपूर्ण है
स्वच्छता में ही र्इश्वर का वास होता है

पं0 जवाहर लाल नेहरू

जिस दिन हम सबके पास अपने प्रयोग के लिए एक शौचालय होगा मुझे पूर्ण विश्वास है कि उस दिन देश अपनी प्रगति की चरम सीमा पर पहुँच चुका होगा।

स्वच्छता

The post स्वच्छता के नारे appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
36. Bảo tàng Văn học Việt Nam

       Việt Nam News reports that First Vietnamese literature museum opens to public.
       Apparently: "construction did not begin till 2004" on the three-story building -- and it seems it took over a decade, until now, to get it all done.
       The first floor covers the 10th through 19th centuries, the second "writers of the early 20th century", the "third floor is reserved for writers of the anti-French revolution period (1945-54)". Apparently there's no room for anything resembling contemporary literature -- or it's been relegated to the basement ..... Read the rest of this post

Add a Comment
37. Cover Reveal and Giveaway: Lucky’s Choice by Jamie Begley

Ask and You Shall Receive…
 
 
LUCKY’S CHOICE
The Last Riders #7
Jamie Begley
Releasing July 29th, 2015
Young Ink Press
 
 
Life dealt him a dead man’s hand.

Lucky had always led a life of service, always putting his life on the line for someone else, managing to survive by pure luck and skill. After bringing an end to a multi-state drug ring, he was finally able to live the life he had wanted as a Last Rider.

A good man would walk away and not touch the curvy woman who had been tugging on his heartstrings. Lucky wasn’t a good man. Therefore, the bad-ass biker in him had a choice: once again become the man he had pretended to be and stake his claim or take the devil’s highway.

 
Some girls had all the luck.

Willa wasn’t one of them. All she wanted to do was give a home to the children she had made orphans. Instead, she found herself needing help from the man who had left the pulpit behind to embrace a life of sin.

Painfully shy and withdrawn, she wanted a quiet life, a simple man, and well-behaved children. The last thing she had ever expected was for Lucky to want her size twenty body and show her a passion that would lead her straight to hell.

 

a Rafflecopter giveaway
 
“I was born in a small town in Kentucky. My family began poor, but worked their way to owning a restaurant. My mother was one of the best cooks I have ever known, and she instilled in all her children the value of hard work, and education.
Taking after my mother, I’ve always love to cook, and became pretty good if I do say so myself. I love to experiment and my unfortunate family has suffered through many. They now have learned to steer clear of those dishes. I absolutely love the holidays and my family puts up with my zany decorations.
For now, my days are spent writing, writing, and writing. I have two children who both graduated this year from college. My daughter does my book covers, and my son just tries not to blush when someone asks him about my books.
Currently I am writing five series of books- The Last Riders, The VIP Room, Predators MC, Biker Bitches, and The Dark Souls.
All my books are written for one purpose- the enjoyment others find in them, and the expectations of my fans that inspire me to give it my best.”



Add a Comment
38. KIDS DESIGN - goosebumps

I came across the Goosebumps brand at online store Howkapow and wanted to find out a bit more. Founded in Australia in 2014 Goosebumps was created by Inga Rodd, a Melbourne based designer. Inga's prints are inspired by her own twin boys, childhood memories and quirky design. The Roar design with leopards, tigers and zebras caught my eye for its modern yet timeless feel. You can see more of

0 Comments on KIDS DESIGN - goosebumps as of 7/1/2015 5:48:00 AM
Add a Comment
39. CWA International Dagger

       They announced the winners of the (UK) Crime Writers' Association yesterday, and the CWA International Dagger, for a crime-book "not originally written in English and has been translated into English for UK publication during the Judging Period" went to Pierre Lemaitre's Camille, in Frank Wynne's translation.
       Among the titles it beat out is Leif GW Persson's Falling Free, as if in a Dream, the last in his under-appreciated trilogy, and Deon Meyer's Cobra.

       (Bonus points and big applause for the CWA listing all the entries in the various categories: why can't all book prizes do this ?)

Add a Comment
40. व्यापम बनाम व्यापक धोटाला

cartoon vayapam by monica gupta      

व्यापम बनाम व्यापक धोटाला-

घोटालो की घुट्टी-

सरकार कोई भी हो पर धोटाले सभी में होते … बेशक नाम अलग होते हैं चाहे  वो 2 जी हो 3जी हो व्यापम हो … हाल बुरा बस जनता का होता है और किसी का कुछ नही बिगडता

धोटाला

जीप घोटाला – स्वतंत्र भारत का पहला घोटाला – सन 1947 में देश को स्वतंत्रता मिली और उसके साथ ही देश भारत और पाकिस्तान में बंट गया। उसके मात्र एक साल बाद यानी 1948 में पाकिस्तानी सेना ने भारतीय सीमा में घुसपैठ करना शुरू कर दिया। उस घुसपैठ को रोकने के लिए भारतीय सैनिक जी-जान से जुट गए। भारतीय सेना के लिए जीपें खरीदने को भार व्हीके कृष्णा मेनन को, जो कि उस समय लंदन में भारत के हाई कमिश्नर के पद पर थे, सौंपा गया। जीप खरीदी के लिए मेनन ने ब्रिटेन की कतिपय विवादास्पद कंपनियों से समझौते किए और वांछित औपचारिकतायें पूरी किए बगैर ही उन्हें 1 लाख 72 हजार पाउण्ड की भारी धनराशि अग्रिम भुगतान के रूप में दे दी। उन कंपिनयों को 2000 जीपों के लिए क्रय आदेश दिया गया था किन्तु ब्रिटेन से भारत में 155 जीपों, जो कि चलने की स्थिति में भी नहीं थीं, की मात्र एक ही खेप पहुंची। तत्कालीन विपक्ष ने वीके कृष्णा मेनन पर सन 1949 में जीप घोटाले का गंभीर आरोप लगाया था। उन दिनों कांग्रेस की तूती बोलती थी और वह पूर्ण बहुमत में थी, विपक्ष में नाममात्र की ही संख्या के सदस्य थे। विपक्ष के द्वारा प्रकरण की न्यायिक जांच के अनुरोध को रद्द करके अनन्तसायनम अयंगर के नेतृत्व में एक जांच कमेटी बिठा दी गई। बाद में 30 सिम्बर 1955 सरकार ने जांच प्रकरण को समाप्त कर दिया। यूनियन मिनिस्टर जीबी पंत ने घोषित किया कि ‘‘सरकार इस मामले को समाप्त करने का निश्चय कर चुकी है। यदि विपक्षी संतुष्ट नहीं हैं तो इसे चुनाव का विवाद बना सकते हैं।‘‘ 03 फरवरी 1956 के बाद शीघ्र  ही कृष्णा मेनन को नेहरू केबिनेट में बगैर किसी पोर्टफालियो का मंत्री नियुक्त कर दिया गया। ‘‘समरथ को नहिं दोस गुसाईं‘‘ यदि उस समय ही 80 लाख रूपयों के जीप घोटाले के लिए उचित कार्यवाही हुई होती तो अब तक इस देश में कुल रूपये 91,06,03,23,43,00,000/ इक्यानबे सौ खरब के घोटाले प्रकाश में न आये होते और मजे की बात तो यह है कि इन घोटालों के कर्ता-धर्ताओं को कभी कोई सजा भी नहीं मिली।

साइकिल घोटाला – अब जीप के बाद बारी थी साइकिल की, जो साइकिल इंपोट्र्स घोटाले के रूप में सामने आयी। 1951 में वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के सचिव ‘एसए वेंकटरमण’ थे। गलत तरीके से एक कंपनी को साइकिल आयात करने का कोटा जारी करने का आरोप लगा। इसके बाद उन्होंने रिश्वत भी ली। इस मामले में उन्हें जेल भी भेजा गया लेकिन ऐसा भी नहीं था कि हर मामले में आरोपी को भेजा ही गया।

  • मो0 सिराजुद्दीन एण्ड कंपनी – साइकिल घोटाले के 6 साल बाद ही यानी 1956 में यह खबर आयी कि उडीसा के कुछ नेता व्यापारियों के काम करने के बदले उनसे दलाली ले रहे थे। जब इस संबंध में छापेमारी हुई तो पूर्वी भारत के एक बडे व्यवसायी मुहम्मद सिराजद्दीन एण्ड कंपनी के कोलकाता और उडीसा स्थित कार्यालयों में भी छापे मारे गए। पता चला कि सिराजद्दीन कई खानों का मालिक है और उसके पास से एक ऐसी डायरी बरामद हुई जिससे साबित हो रहा था कि उसके संबंध कई जाने-माने राजनेताओं से थे। लेकिन इस संबंध में भी कोई कार्यवाही नहीं हुई थी। कुछ समय बाद जब मीडिया के माध्यम से खबर फैली तब तत्कालीन खान और ईंधन मंत्री केशवदेव मालवीय ने यह स्वीकार किया कि उन्होंने उडीसा के एक खान मालिक से 10 हजार रूपये की दलाली ली थी। बाद में नेहरू के दबाव में मालवीय को इस्तीफा देना पडा था।

बीएचयू फण्ड घोटाला – यह आजाद भारत का पहला शैक्षणिक घोटाला था। 1955 में किए गए इस घोटाले के तहत विश्वविद्यालय के अधिकारियों पर 80 लाख के करीब फंड हडपने के आरोप लगे थे। आप स्वयं अंदाजा लगा लीजिए कि उस दौर में 80 लाख की कीमत क्या रही होगी ? इस घोटाले का पर्दा फाश नहीं हो सका क्योंकि उस दौर के नेता और मंत्री इस पूरे घोटाले को घोलकर पी गए। तब भी केन्द्र में कांग्रेस की सरकार थी।

हरिश्चंद्र मूंध्रा काण्ड -1957 में फीरोज गांधी ने एक सनसनीखेज काण्ड का खुलासा करके संसद को हिला दिया। उन्होंने बताया कि उद्योगपति हरिदास मूंध्रा की कई कंपनियों को मदद पहुचाने के लिए उनके शेयर भारतीय जीवन बीमा निगम एलआईसी द्वारा 1.25 करोड रूपये में खरीदवाए गए। निगम द्वारा शेयरों की बढी हुई कीमत दी गई। जांच हुई तो उस मामले में वित मंत्री टीटी कृष्णामाचारी, वित सचिव एचएम पटेल और भारतीय जीवन बीमा निगम के अध्यक्ष दोषी पाए गए। मूंध्रा पर 160 करोड रूपये के घोटाले का आरोप लगा। 180 अपराधों के मामले थे। दबाव बढा तो वित मंत्री को पद से हटा दिया गया। मूंध्रा को 22 साल की सजा हुई। कृषामाचारी को तो उनके पद से हटा दिया गया।

  • तेजा लोन घोटाला – वर्ष 1960 में एक बिजनेसमैन धर्म तेजा ने एक शिपिंग कंपनी शुरू के लिए सरकार से 22 करोड रूपये का लोन लिया था। लेकिन बाद में धनराशि को देश से बाहर भेज दिया। उद्योगपति धर्म तेजा को बिना जांच के ही 20 करोड का कर्ज दिलाने का आरोप पंडित जवाहरलाल नेहरू पर लगा था। जयंत धरमतेज को जयंत जहाजरानी कंपनी की स्थापना के ऋण के रूप में 22 करोड लिये लेकिन कंपनी की स्थापना के बिना वह पैसे के साथ भाग गया था। बाद में उसे यूरोप से गिरफतार किया गया था और 6 साल की कैद हुई थी।

कैरो घोटाला – आजाद भारत में मुख्यमंत्री पद के दुरूपयोग का यह पहला घोटाला था। 1963 में पंजाब के मुख्यमंत्री सरदार प्रताप सिंह कैरो के खिलाफ कांग्रेसी नेता प्रबोध चंद्र ने आरोप पत्र पेश किया था। आरोप पत्र में ये बातें शामिल थीं कि पंजाब के मुख्यमंत्री प्रताप सिंह कैरो ने मुख्यमंत्री पद पर रहते, हुए अनाप-शनाप धन संपत्ति जमा की। इसमें उनके परिवारीजन शामिल थे। मसलन, अमृतसर को-आपरेटिव कोल्ड स्टोरेज लिमि0, प्रकाश सिनेमा, कैरो ब्रिक सोसायटी, मुकुट हाउस, नेशनल मोटर्स अमृततसर, नीलम सिनेमा चंडीगढ, कैपिटल सिनेमा जैसी संपत्तियों पर प्रताप सिंह कैरो के रिश्तेदारों का मालिकाना हक था। जब जांच हुई तो रिपोर्ट में कहा गया कि कैरो के पुत्र एवं पत्नी ने पैसा कमाया है लेकिन इस सब के लिए प्रताप सिंह कैरो को साफ-साफ बरी कर दिया गया।

नागरवाला काण्ड – यह दिल्ली के पार्लियामेंट स्टीट स्थित स्टेट बैंक शाखा में लाखों रूपये मांगने का मामला था जिसमें इंदिरा गांधी का नाम भी शामिल था। हुआ यूं कि 1971 की 24 मई को दिल्ली में एसबीआई संसद मार्ग शाखा के कैशियर के पास एक फोन आया। फोन पर उक्त कैशियर से बांग्लादेश के एक गुप्त मिशन के लिए 60 लाख रूपये की मांग की गई और कहा गया कि इसकी रशीद प्रधानमंत्री कार्यालय से ली जाये। यह खबर बाद में तेजी से फैली कि फोन पर सुनी जाने वाली आवाज प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और पीएन हक्सर की थी। बाद में पता चला कि यह तो कोई और ही था। रूपये लेने वाले और नकली आवाज निकालकर रूपये की मांग करने वाले व्यक्ति रूस्तम सोहराब नागरवाला को गिरफतार कर लिया गया। 1972 में संदेहास्पद स्थिति में नागरवाला की मौत हो गई। उसकी मौत के साथ ही मामले की असलियत भी जनता के सामने नहीं आ सकी। बाद में इस मामले को रफा-दफा कर दिया गया।

कुओ ऑयल डील -इंडियन ऑयल कार्पोरेशन ने 3 लाख टन शोधित तेल और 5 लाख टन हाई स्पीड डीजल की खरीद के लिए टेंडर निकाला था। यह टेंडर हरीश जैन को मिला था। जैन की पहुंच राजनैतिक गलियारों तक थी। इस सौदे में 9 करोड रूपये से भी ज्यादा की हेराफेरी का आरोप लगा। जांच भी हुई लेकिन कहा जाता है कि प्रधानमंत्री कार्यालय से ही इस मामले से जुडी फाइलें गुम कर दीं गईं। तत्कालीन पेटोलियम मंत्री पीसी सेठी को इस्तीफा देना पडा था लेकिन बाद में उन्हें दोबरा मंत्री बना दिया गया।

अंतुले ट्रस्ट- 1982 में महाराष्ट के मुख्यमंत्री एआर अंतुले का नाम एक घोटाले में सामने आया। उन पर आरोप था कि उन्होने इंदिरा गांधी प्रतिभा प्रतिष्ठान, संजय गांधी निराधार योजना, स्वावलंबन योजना आदि ट्रस्ट के लिए पैसा एकत्र किया गया था। जो लोग, खासकर बडे व्यापारी या मिल मालिक टस्ट को पैसा देते थे, उन्हें सीमेंट का कोटा दिया जाता था। ऐसे लोगों के लिए नियम-कानून में ढील दे दी जाती थी। ऐसे लोगों के लिए नियम-कानून कोई मायने नहीं रखते थे। इस मामले में मुख्यमंत्री पद से एआर अंतुले को बाद में हटना पडा था। इसके बाद इस दशक के सबसे हाई प्रोफाइल घोटाले से लोगों का परिचय हुआ।

चुरहट लॉटरी काण्ड – अर्जुन सिंह के गृह नगर चुरहट में बाल कल्याण समिति नाम की एक संस्था अपने आर्थिक साधन बढाने के लिए लॉटरी भी बेचने लगी थी। इसमें शामिल लोगों पर 4 करोड रूपये खाने का आरोप लगा था। वरिष्ठ कांग्रेसी नेता अर्जुन सिंह पर भी इस मामले में शामिल होने का आरोप लगा था लेकिन इसकी जांच का नतीजा आज तक नहीं निकल सका है।

बोफोर्स घोटाला – 1987 में यह बात सामने आयी थी कि स्वीडन की हथियार कंपनी बोफोर्स ने भारतीय सेना को तोपें सप्लाई करने का सौदा हथियाने के लिए 80 लाख डालर की दलाली चुकायी थी। उस समय केन्द्र में कांग्रेस की सरकार थी, जिसमें प्रधानमंत्री राजीव गांधी थे। स्वीडन की रेडियो ने सबसे पहले 1987 में इसका खुलासा किया था। आरोप था कि राजीव गांधी परिवार के नजदीकी बताये जाने वाले इतालवी व्यापारी ओत्तावियो क्वात्रोक्की ने इस मामने में बिचैलिए की भूमिका निभायी थी। इसके बदले में उसे दलाली का बडा हिस्सा भी मिला था। कुल 400 बोफोर्स तोपों की खरीद का सौदा 1.3 अरब डॉलर का था। आरोप है कि स्वीडन की हथियार कंपनी बोफोर्स ने भारत के साथ सौदे के लिए 1.42 करोड डालर की रिश्वत बांटी थी। इतिहास काफी समय तक राजीव गांधी का नाम भी इस मामले के अभियुक्तों की सूची में शामिल किए रहा लेकिन उनकी मौत के बाद नाम फाइल से हटा दिया गया। सीबीआई को इस मामले की जांच सौंपी गई लेकिन सरकारें बदलने पर सीबीआई की जांच की दिशा भी लगातार बदलती रही। एक दौर था जब जोगिंदर सिंह ने तब दावा किया था कि केस सुलझा लिया गया है। बस देरी है तो क्वात्रोक्की को प्रत्यर्पण के बाद अदालत में पेश करने की। उनके हटने के बाद सीबीआई की चाल ही बदल गई। इसी बीच कई ऐसे दांव-पेंच खेले गए कि क्वात्रोक्की को राहत मिलती गई। दिल्ली की एक अदालत ने हिंदुजा बंधुओं को रिहा किया तो सीबीआई ने लंदन की अदालत से कह दिया कि क्वात्रोक्की के खिलाफ कोई सुबूत नहीं हैं। अदालत ने क्वात्रोक्की के सील खातों को खोलने के आदेश भी जारी कर दिए। नतीजतन क्वात्रोक्की ने रातों-रात उन खातों से पैसा निकाल लिया। बाद में रेड कोर्नर नोटिस के बल पर 2007 में अर्जेनटीना पुलिस ने उसे गिरफ़्तार कर लिया। वह 25 दिन ही पुलिस की हिरासत में रहा। सीबीआई की ढील की वजह से क्वात्रोक्की जमानत पर रिहा होकर अपने देश इटली चला गया।

सेंट किट्स घोटाला – ऐसा माना जाता है कि सेंट किट्स घोटाला बोफोर्स घोटाले की ही उपज था। इसकी शुरूआत कुछ इस प्रकार हुई कि जब बोफोर्स का भंडा फूटा तो प्रधानमंत्री सहित अनेक अन्य बडी हस्तियों की चमडी बचाने के प्रयत्न आरंभ हुए। इस प्रयास में वरिष्ठ कांग्रेसी नेता नरसिंह राव की मुख्य भूमिका रही। मामले को दबाने के इस प्रयास को ही सेंट किट्स घोटाला कहा गया। बोफोर्स की बातें तब सामने आयीं जब राजीव गांधी के चुनाव हारने पर विश्वनाथ प्रताप सिंह प्रधानमंत्री बने। वीपी सिंह का मुंह बंद करने के लिए नरसिंह राव ने चंद्रास्वामी की सहायता से जाली दस्तावेज तैयार करके यह सिद्ध करने का प्रयास किया था कि वीपी सिंह के बेटे ने स्विस बैंकों में कई करोड रूपये जमा करके रखे हैं। बाद में पता चला कि जिन दस्तावेजों के सहारे वीपी सिंह को फंसाने की कोशिश की गई थी उन पर अंग्रेजी में हस्ताक्षर थे, जबकि सच्चाई यह थी कि वीपी सिंह किसी भी सरकारी दस्तावेज पर अंग्रेजी में हस्ताक्षर करते ही नहीं थे; नतीजतन वीपी सिंह इस मामले में निर्दोष साबित हुए थे।

जैन हवाला डायरी काण्ड – 1991 में सीबीआई ने कई हवाला ऑपरेटरों के ठिकानों पर छापे मारे। इस छापे में एसके जैन की डायरी बरामद हुई थी। इस तरह यह घोटाला 1996 में सामने आया। इस घोटाले में 18 मिलियन डॉलर घूस के रूप में देने का मामला सामने आया था जो कि बडे-बडे राजनेताओं को दी गई थी। आरोपियों में से एक ‘लालकृष्ण आडवाणी’ भी थे, जो उस समय नेता विपक्ष थे। इस घोटाले से पहली बार यह बात सामने आयी कि सत्ताशीन ही नहीं, बल्कि विपक्ष के नेता भी चारों ओर से पैसा लूटने में लगे हुए हैं। दिलचस्प बात यह थी कि यह पैसा कश्मीरी आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन को गया था। कई नामों के खुलासे हुए लेकिन सीबीआई किसी के भी खिलाफ सबूत नहीं जुटा सकी थी।

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज घोटाला (1992) – वर्ष 1992 में शेयर बाजार में घोटाले का तहलका मचाने वाले शेयर दलाल हर्षद मेहता पर लगे आरोपों के बाद इस जेपीसी का गठन किया गया था। आरोप था कि सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी मारूति उद्योग लिमिटेड के पैसों का मेहता ने दुरूपयोग किया था। मेहता के वायदा सौदों का भुगतान न कर पाने की वजह से सेंसेक्स में 570 अंकों की गिरावट आई थी। लेकिन करीब पांच साल बाद 1997 में ही जाकर विशेष अदालत में प्रतिभूति घोटाले से जुडे मामलों की सुनवाई शुरू हो सकी और केन्द्रीय जांच ब्यूरो यानी सीबीआई ने करीब 34 आरोप लगाये। सीबीआई ने लगभग 72 अपराधिक मामले दर्ज करने के अलावा 600 दीवानी मामले चलाये लेकिन इनमें से महज चार मामलों में ही आरोप पत्र दाखिल किए गए। सितम्बर 1999 में मेहता को मारूति उद्योग के साथ धोखाधडी के आरोप में चार साल की सजा हुई लेकिन जेपीसी की सिफारिशें न तो पूरी तरह से स्वीकार की गईं और न ही पूरी तरह से लागू हो पायीं।

सिक्यूरिटी स्कैम (1992) – 1992 में हर्षद मेहता ने धोखाधडी से बैंकों का पैसा स्टॉक मार्केट में निवेश कर दिया, जिससे स्टॉक मार्केट को करीब पांच हजार करोड रूपये का घाटा हुआ था।

तांसी भूमि घोटाला (1992) – 1992 में जयललिता पर तमिलनाडु की मुख्यमंत्री रहते हुए स्माज इंडस्ट्रीज कार्पोरेशन की जमीन औने-पौने दामों में जया पब्लिकेशन को आवंटित करने का आरोप लगा था। आरोपों की जांच के बाद स्थानीय पुलिस ने 1996 में जयललिता और उनकी सहेली शशिकला समेत 6 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की । इन पर राज्य को साढे तीन करोड रूपये के नुकसान का आरोप लगा। बाद में स्थोनीय अदालत ने इन सभी को आरोपी बनाते हुए कानूनी कार्यवाही शुरू की और 2000 में जयललिता को दोषी करार देते हुए तीन साल की सजा सुनाई गई। 2003 में सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में जयललिताा को पूरी तरह से सभी आरोपोंब से बरी कर दिया गया। इस घोटाले के अलावा इनके खिलाफ लगभग आधा दर्जन दूसरे केस भी दर्ज किए गए थे लेकिन सभी की नियति तांसी जैसी ही रही।

चीनी आयात घोटाला (1994) – नरसिम्हाराव के समय झारखण्ड मुक्ति मोर्चा के नेता शैलेन्द्र महतो ने यह खुलासा किया कि उन्हें और उनके तीन सांसद साथियों को 30-30 लाख रूपये दिए गए, ताकि नरसिम्हाराव की सरकार को समर्थन देकर बचाया जा सके। यह घटना 1993 की है। इस मामले में शिबू सोरेन को भी जेल जाना पडा था। 1994 में खाद्य आपूर्ति मंत्री कल्पनाथ राय ने बाजार भाव से भी मंहगी चीनी आयात का फैसला लिया। यानी चीनी घोटाला। इस कारण सरकार को 650 करोड रूपये का चूना लगा। अंततः उन्हें अपना त्यागपत्र देना पडा। उन्हें इस मामले में जेल भी जाना पडा था।

जेएमएम सांसद घूंस काण्ड (1995)– जुलाई 1993 में पीवी नरसिम्हाराव सरकार के खिलाफ संसद में अविश्वास प्रस्ताव 14 मतों से खारिज हो गया। आरोप लगा कि सरकार ने अपने पक्ष में वोट करने के लिए झारखण्ड मुक्ति मोर्चा के चार सांसदों समेत कई सांसदों को लाखों रूपये की रिश्वत दी थी। नरसिंह राव के सत्ता से बाहर हो जाने के बाद सीबीआई ने इस मामले में राव समेत कई आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की। लगभग आठ महीने में जांच पूरी कर सीबीआई ने सांसदों की खरीद-फरोख्त के लिए नरसिंह राव, बूटा सिंहख् सतीश शर्मा, सिबू सोरेन समेत कुल 20 हाई प्रोफाइल आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की लेकिन 1998 में सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में रिश्वत लेने वाले सभी नौ सांसदों के खिलाफ कार्यवाही पर रोक लगा दी। 2000 में स्थानीय अदालत ने फैसले में केवल दो आरोपियों नरसिंह राव और बूटा सिंह को दोषी करार दिया लेकिन 2002 में दिल्ली हाईकोर्ट ने इन दोनों को भी आरोपों से बरी कर दिया।

जूता घोटाला (1995) – 90 के दशक में घोटाले भी अजीबोगरीब शक्ल लेने लगे, जैसे – जूता घोटाला। सोहिन दया नामक एक व्यापारी ने मेट्रो शूज के रफीक तेजानी और मिलानो शूज के किशोर सिगनापुरकर के साथ मिलकर कई सारी फर्जी चमडा को-आॅपरेटिव सोसायटियां बनायी और सरकार धन लूटा। 1995 में इसका खुलासा हुआ और बहुत सारे सरकारी अफसर, महाराष्ट्र स्टेट फाइनेंस काॅपरेशन के अफसर, सिटी बैंक, बैंक आॅफ ओमान, देना बैंक आदि भी इस मामले में लिप्त पाये गए। इन सबके खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया गया लेकिन कोई नतीजा सामने नहीं आया।

यूरिया घोटाला (1996) – 1996 के यूरिया घोटाले में पूर्व प्रधानमंत्री पीवी नरसिंह राव के पुत्र पीवी प्रभाकर राव का नाम सामने आया। बात 1996 की है जब देश में यूरिया की आपूर्ति करने के लिए एनएफएल यूरिया की 2 लाख टन की वैश्विक निविदा मंगाई गई थी। इस सौदे में बिना किसी बैंक गारंटी के कंपनी को 133 करोड रूपये का आवंटन कर दिया गया। नेशनल फर्टिलाइजर के एमडी सीएस रामकृष्णन ने कई अन्य व्यापारियों, जो कि ननरसिंह राव के नजदीकी थी, के साथ मिलकर 2 लाख टन यूरिया आयात करने के मामले में सरकार को 133 करोड रूपये का चूना लगा दिया। सीबीआई को शक था कि इन सबमें प्रभाकर का हाथ है, बावजूद इसके प्रधानमंत्री के चलते प्रभाकर पर किसी ने हाथ तक नहीं डाला।

सुखराम काण्ड (1996) – यह एकमात्र मामला है जिसमें हाई प्रोफाइन आरोपी को सजा हुई है। 1996 में सीबीआई ने तत्कालीन सूचना मंत्री सुखराम के सरकारी आवास पर छापा मारकर 2.45 करोड नकद बरामद किए थे। उसी दिन हिमाचल प्रदेश के मण्डी स्थित उनके घर पर छापे में सीबीआई को 1.16 करोड रूपये मिले। इसके आधार पर सीबीआई ने आय से अधिक संपत्ति का केस दर्ज कर जांच शुरू की। सुखराम के खिलाफ दिल्ली की तीस हजारी अदालत ने 1997 में चार्जशीट दाखिल कर दी थी। लगभग 4 करोड की नकदी बरामद होने के बावजूद अदालत में 12 साल तक सुनवाई चलती रही। अंततः 2009 में उन्हें 3 साल की सजा सुनाई गई। वैसे सुखराम ने इस फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट में अपील की थी और जमानत पर रिहा हो गए।

चारा घोटाला (1996) – 1991 में लालू प्रसाद यादव के मुख्यमंत्री बनने के बाद पशुपालन विभाग में हुए 950 करोड रूपये से अधिक के घोटाले की जांच पटना हाई कोर्ट के आदेश के बाद 1996 में शुरू हुई। इस मामले में सीबीआई ने 64 अलग-अलग मामले दर्ज किए। इन सभी की जांच कर 2003-2004 में आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर दी। इनमें 37 मुकदमों में अदालत अब तक 350 से अधिक आरोपियों को सजा सुना चुकी है। हालांकि जिस मामले में लालू यादव आरोपी हैं, उसमें अभी तक अदालत में सुनवाई चल रही है।

पेट्रोल पंप आवंटन घोटाला (1997) – पीवी नरसिंह राव सरकार में पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री रहे सतीश शर्मा पर पेट्रोल पंप आवंटन का आरोप लगा। 1997 में सीबीआई ने शर्मा पर 15 केस दर्ज किए लेकिन सीबीआई को शर्मा के खिलाफ चार्ज शीट दाखिल करने के लिए गृह मंत्रालय के जरूरी अनुमति नहीं मिली। इसके आधार पर नवम्बर 2004 में सीबीआई अदालत से सभी 15 मामलों को बंद करने की अर्जी लगाई। सतीश शर्मा पेट्रोल पंप आवंटन के घोटाले के आरोपों से बेदाग बच निकले।

तहलका काण्ड (2001) – तब तक देश 21वीं सदी में पहुंच चुका था। अब घोटाले कैमरे पर भी होने लगे थे और सीधे दुनिया ने इसे होते हुए देखा। इसका एक उदाहरण तहलका काण्ड है। एक मीडिया हाउस तहलका के स्टिंग आॅपरेशन ने यह खुलासा किया कि कैसे कुछ वरिष्ठ नेता रक्षा समझौते में गडबडी करते हैं। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष को रिश्वत नेते हुए लोगों ने टेलीविजन और अखबारों में देखा। इस घोटाले में तत्कालीन रक्षा मंत्री जाॅर्ज फर्नांडीज और भारतीय नौ-सेना के पूर्व एडमिरल सुशील कुमार का नाम भी सामने आया। इस मामले में अटल बिहारी वाजपेयी ने जाॅर्ज फर्नांडीज का इस्तीफा मंजूर करने से इंकार कर दिया। हालांकि बाद में जाॅर्ज ने इस्तीफा दे दिया।

बराक मिसाइल घोटाला (2001) – बराक मिसाइल रक्षा सौदे में भ्रष्टाचार का एक और नमूना बराक मिसाइल की खरीददारी में देखने को मिला। इसे इजराइल से खरीदा जाना था सिकी कीमत लगभग 270 मिलियन डाॅलर थी। इस सौदे पर डीआरडीपी के तत्कालीन अध्यक्ष डा0 एपीजे अब्दुल कलाम ने भी आपत्ति दर्ज करायी थी। फिर भी यह सौदा हुआ। इस मामले में एफआईआर भी दर्ज हुई। एफआईआर में समता पार्टी के पूर्व कोषाध्यक्ष आरके जैन की गिरफतारी भी हुई। जाॅर्ज फर्नांडीज, जया जेटली और नौसेना के पूर्व अधिकारी सुरेश नंदा के खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज हुई। सुरेश नंदा पूर्व नौ सेना प्रमुख एसएम नंदा के बेटे हैं। जांच आज भी जारी है।

स्टाम्प पेपर घोटाला (2003) – वर्ष 2003 में 30 हजार करोड रूपये का बडा घोटाला सामने आया। इसके पीछे अब्दुल करीम तेलगी को मास्टर माइंड बताया गया। इस मामले में उच्च पुलिस अधिकारी से लेकर राजनेता तक शामिल थे। तेलगी की गिरफतारी तो जरूर हुई, लेकिन इस घोटाले के कुछ और अहम खिलाडी साफ बच निकलने में अब तक कामयाब हैं।

ताज कॉरिडॉर मामला (2003) – ठसी कडी में एक और घोटाला सामने आया ताज काॅरिडोर का। 175 करोड रूपये के इस घोटाले में उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती पर लगातार तलवार लटकी और अब भी लटकी हुई है। सीबीआई के पास यह मामला अब भी विचाराधीन है लेकिन राजनीतिक दांव पेचों की वजह से कभी जांच की गति तेज हो जाती है तो कभी मंद। कुल मिलाकर इस घोटाले के आरोपी अपने अंजाम तक पहुंचेंगे या नहीं, यह कहना अब तक के घोटालों को देखते हुए बहुत मुश्किल है।

छत्तीसगढ विधायक खरीद काण्ड (2003) -दिसम्बर 2003 में छत्तीसगढ के तत्कालीन मुख्यमंत्री अजीत जोगी पर भाजपा विधायकों को खरीदने का आरोप लगा था। सीबीआई ने विधायकों को दिए गए धन के स्त्रोत को भी ढूंढ निकाला था। फाॅरेंसिक लेब की रिपोर्ट में टेलीफोन की बातचीत में आवाज और समर्थन पत्र पर हस्ताक्षर के रूप में मामले में अजीत जोगी के शामिल होने के सुबूत भी मिल गए। सबूतों के बावजूद सीबीआई अजीत जोगी के खिलाफ 8 साल बाद भी आठ साल बाद भी चार्जशीट दाखिल नहीं की है।

तेल के बदले अनाज (2005) – तेल के बदले अनाज, वोल्कर रिपोर्ट के आधार पर यह बात सामने आयी कि तत्कालीन विदेश मंत्री नटवर सिंह ने अपने बेटे को तेल का ठेका दिलाने के लिए अपने पद का दुरूपयोग किया। उन्हें इस्तीफा देना पडा, हालांकि सरकार ने उन्हें बिना विभाग का मंत्री बनाए रखा था। एक के बाद एक नेता घोटालों के सरताज बनते जा रहे थे।

सत्यम घोटाला (2008) – कार्पोरेट जगत इस बहती गंगा में हाथ धोने से पीछे क्यों रहता, तो सामने आया सत्यम घोटाला। कार्पोरेट जगत का शायद सबसे बडा घोटाला। 14 हजार करोड रूपये के इस घोटाले में सत्यम कम्प्यूटर सर्विसेज के मालिक राम लिंग राजू का नाम आया। राजू ने इस्तीफा दिया और वह अभी भी जेल में है। मुकदमा चल रहा है।

मधु कोडा (2009) – राजनीतिक घोटालों की कभी भी खत्म न होने वाली श्रृंखला में एक और नाम शामिल हुआ मधु कोडा का। मुख्यमंत्री रहते हुए कोई अरबो की कमाई भी कर सकता है, यह सच साबित किया झारखण्ड के मुख्यमंत्री मधु कोडा ने। 4 हजार करोड से भी ज्यादा की काली कमाई की कोडा ने। बाद में इन पैसों को विदेष भेजकर जमा भी कराया और विदेशी पूंजी में निवेश भी किया। इस मामले में भी केस दर्ज हुआ और कोडा को जेल। जांच आज भी चल रही है।

खाद्यान्न घोटाला (2010) – उत्तर प्रदेश में करीब 35 हजार करोड रूपये का खाद्यान्न घोटाला वर्ष 2010 में उजागर हुआ। दरअसल, यह अंत्योदय, अन्नपूर्णा और मिड-डे मील जैसी खाद्य योजनाओं के तहत आने वाले अनाज को बेचने का मामला है। यह घोटाला वर्ष 2001 से 2007 के बीच हुआ था। राज्य में इन योजनाओं के तहत आवंटित चावल की भी कालाबाजारी की गई। कुछ अनुमानो के मुताबिक इस तरह 2 लाख करोड रूपये के वारे-न्यारे करने का आरोप भी है। इस घोटाले में मैनपुरी जनपद में ही तकरीबन 8 करोड के आसपास के गबन का आरोप है। एक बीएसए केडीएन राम के खिलाफ तो सीबीआई जांच भी चल रही है।

 

 

  • हाउसिंग लोन स्कैम (2010) – सीबीआई ने नवम्बर 2010 में हाउसिंग स्कैम का भी पर्दाफाश किया। सीर्बीआइा ने परे घोटाले को करीब एक हजार करोड रूपये का बताया। इस घोटाले के आरोप में एलआईसी हाउसिंग फाइनेंस के सीईओ रामचंद्रन नायर के अलावा विभिन्न बैंकों और वित्तीय संस्थाओं के कई अधिकारी गिरफतार किए गए। इन अधिकारियों में एलआईसी के सचिव नरेश के चोपडा, बैंक आॅफ इण्डिया के नरल मैनेजर आरएल तायल, सेंट्रल बैंक आॅफ इण्डिया के डायरेक्टर मनिंदर सिंह जौहर, पंजाब नेशनल बैंक के डीजीएम बैंकोबा गुजाल और मनी अफेयर्स के सीएमडी राजेश शर्मा गिरफतार किए गए।

 

 

  • एस बैंड घोटाला (2010) – एस बैंड स्पेक्ट्रम घोटाला करीब 2 लाख करोड रूपये का बताया जा रहा है। आरोप है कि इसरो की कारोबारी इकाई अंतरिक्ष ने निजी कंपनी देवास मल्टीमीडिया प्राइवेट लिमिटेड के साथ दुर्लभ एस बैंड स्पेक्ट्रम बेचने का समझौता किया। बिना नीलामी के कंपनी को स्पेक्ट्रम देने का फैसला हो गया। कंपनी के निदेशक डा. एमजी चंद्रशेखर, जो पहले इसरो में ही वैज्ञानिक थे। अब यह डील रद्द करने की बात चल रही है और अंतरिक्ष के चेयरमैन को भी हटाया जा रहा है। पूर्व कैबिनेट सचिव बीके चतुर्वेदी की अध्यक्षता में मामले की जांच के लिए समिति भी बन गई है। इस मामले में कई कंपनियां संदेह के दायरे में थीं। ये कंपनियां इन अधिकारियों को रिश्वत देकर करोडों रूपयों के कार्पोरेट लोन स्वीकृत करवा लेते थे। जो कंपनियां संदेह के दायरे में हैं उनमें लवासा कार्पोरेशन, ओबेराॅय रियलिटी, आशापुरा माइनकैम, सुजलोन इनर्जी लिमिटेड, डीबी रियलिटी, एम्मार एमजीएफ, कुमार डेवलपर्स आदि हैं।

 

 

  • आदर्श घोटाला (2010) – यह घोटाला पुराने मुंबई टाउन के संभ्रांत कोलाबा इलाके में समुद्र पाटकर विकसित बैकवे रेक्लेशन एरिया के ब्लाक 6 में 6490 वर्ग मीटर के भूखण्ड पर कायदे-कानून को ठेंगा दिखाकर आदर्श को-ऑपरेटीव हाउसिंग सोसायटी नाम की 31 मंजिली इमारत बनाने का है। कारगिल में शहीद हुए जवानों के परिजनों को देने के लिए मुंबई में बनायी गई आदर्श सोसायटी के करोडों के फलैट लाखों के भाव में मंत्रियों, संतरियों सहित सैन्य अधिकारियों और उनके रिश्तेदारों के नाम कर दिए गए हैं। इन फलैटों की कीमत 60 लाख रूपये तक है। मौजूदा बाजार मूल्यों के अनुसार इनकी कीमत 8 करोड रूपये तक है। मामले में मुख्यमंत्री अशोक चाव्हाण का नाम आने पर उतना अचंभा नहीं हुआ जितना कि तीन पूर्व सेना प्रमुखों – जनरल दीपक कपूर, जनरल एनसी विज और एडमिरल माधवेन्द्र सिंह के नाम आने से हुआ। ईमानदार फौज के प्रमुखों का यह कारनामा बेहद शर्मिदगी भरा है। नेताओं की क्या बात करें, ये तो बनते ही लूटने के लिए हैं।

समझ से बाहर है कि देश मे धोटालें हैं या धोटालों मे देश है ..

 

 

  Regional News – Samay Live

मध्यप्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री और सरकार के प्रवक्ता नरोत्तम मिश्रा ने व्यापम मामले में 41 आरोपियों की मौत की खबरों को आधारहीन बताया.

मध्य प्रदेश सरकार ने व्यापम घोटाले में 41 आरोपियों की मौत से जुड़ी मीडिया की खबरों को आधारहीन करार देते हुए कहा कि सात जुलाई, 2013 को इस मामला का खुलासा होने के बाद से इससे संबंधित सिर्फ 14 लोगों की मौत हुई, जबकि 11 अन्य मौतें इससे पहले हुई थीं.

स्वास्थ्य मंत्री और सरकार के प्रवक्ता नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि घोटाले का खुलासा होने के बाद से जिन 14 लोगों की मौत हुई, उनमें चार लोगों की मौत मध्य प्रदेश के बाहर हुई तथा संबंधित राज्यों की पुलिस को इन मौतों के मामले में कोई साजिश नहीं मिली.

मिश्रा ने कहा कि 41 आरोपियों की मौत की खबरें ‘गुमराह करने वाली और सत्य से परे’ हैं.

मंत्री ने कहा कि 14 लोगों में छह मौत दुर्घटना में हुई, दो ने खुदकुशी की और छह की मौत बीमारी से हुई. Read more…

The post व्यापम बनाम व्यापक धोटाला appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
41. How I Became An Author

Ralph Fletcher, who is a beloved trade and professional book author, steps into our Author Spotlight.

Add a Comment
42. DESIGNER - jessie ford : sugar snap studio

The Sugar Snap Studio was launched in the Spring of 2012, to house the growing collection of children's illustration work by Jessie Ford. Liking nothing better than creating these fun, colourful characters; to date her work has included everything from advertising campaigns for Fairy Liquid, packaging commissions for Tesco and Mothercare, children's books for Abrams Books, as well as numerous

0 Comments on DESIGNER - jessie ford : sugar snap studio as of 7/1/2015 5:48:00 AM
Add a Comment
43. BILBOLBUL NEWSLETTER 1/07/2015

 

  
 
 
BILBOLBUL 2015 TEASER #1
 
Sul sito di BilBOlbul abbiamo pubblicato il primo teaser creato da Lorenzo Ghetti e Carlo Trimarchi (autori del web comic To Be continued) che racconta la nona edizione di BilBOlbul, che si terrà dal 19 al 22 novembre 2015. Per cinque settimane, ogni martedì, un’animazione accompagnerà la comunicazione estiva del festival introducendo uno dei temi portanti di quest’edizione, quello del linguaggio. Quest’episodio ci parla della sintesi e degli incalcolabili stili che il fumetto può usare per presentarci un personaggio.

Per seguire il progetto, vedere i prossimi teaser e rimanere informato su tutte le novità del festival, seguici su Facebook tramite la nostra pagina.

PER MAGGIORI INFORMAZIONI: WWW.BILBOLBUL.NET
 
 
BBB CONSIGLIA
 
Da luglio 2015 BilBOlbul lancia BBB CONSIGLIA, un progetto che vuole mettere in rete le librerie più attente al fumetto in Italia. Ogni 15 giorni in libreria verrà segnalato da una fascetta con il logo di BilBOlbul un nuovo fumetto di qualità; un segnalibro all’interno del volume racconterà in poche parole perchè BilBOlbul ha scelto di consigliarlo.
Il progetto è rivolto a librerie e fumetterie e inizia la sua fase pilota con 5 realtà:
¤ Libreria Modo Infoshop - Bologna
¤ Libreria Spazio B**k - Milano
¤ Libreria Giufà - Roma
¤ Libreria Minimum Fax - Roma
¤ Libreria Scripta Manent - Roma

Ogni due settimane scoprite i fumetti consigliati sulla pagina Facebook

Se sei una libreria e vuoi partecipare al progetto di BBB CONSIGLIA scrivi a elena.orlandi@bilbolbul.net
PER MAGGIORI INFORMAZIONI: WWW.BILBOLBUL.NET
 
DONA IL TUO 5 X 1000 AD HAMELIN
Anche grazie al tuo contributo potremo portare avanti le nostre attività.
Nella tua dichiarazione dei redditi, scrivi il nostro codice fiscale: 92047890378
Grazie per il sostegno!
 
 
BilBOlbul Festival internazionale di fumetto fa parte della
Rete dei Festival del Contemporaneo di Bologna
Biografilm: 5 > 15 giugno 2015 - biografilm.it :: Gender Bender: 31 ottobre > 8 novembre 2015 - www.genderbender.it :: BilBOlBul: 19 > 22 novembre 2015 - bilbolbul.net :: Live Arts Week: liveartsweek.it ::
Future Film Festival
: futurefilmfestival.org :: Angelica- Festival Internazionale di musica - aaa-angelica.com ::
 

Add a Comment
44. TEXTILES - soda + stitch

Jemma Bell is a textile designer who has recently launched her own venture called Soda + Stitch specialising in selling hand block printed fabrics by the metre. Each fabric has been designed exclusively for Soda + Stitch and then carefully printed by the hands of block printing masters in Jaipur, India - a city Jemma now calls home. It is an incredible process that savours hand made textiles

0 Comments on TEXTILES - soda + stitch as of 7/1/2015 5:48:00 AM
Add a Comment
45. Kafka manuscripts to National Library of Israel (probably)

       One of the more entertaining literary estate trials of recent years may have run its course, as a Tel Aviv District Court has rejected an appeal by the not-quite-heirs of Max Brod's remaining Kafka holdings (further appeals are, apparently, possible, however); see reports:

       As you might recall, Esther Hoffe wound up with a suitcase (and millions of dollars') worth of Kafka-papers from Max Brod -- and then lived forever (well, past the century mark, anyway). She sold some of them, and then passed on the rest to her daughter (the appellant here); the court seems to have frowned upon the cashing-in efforts - albeit with the rather curious argument:
"As far as Kafka is concerned, is the placing of his personal writings, which he ordered to be destroyed, for public sale to the highest bidder by the secretary of his friend and by her daughters in keeping with justice ? It seems that the answer to this is clear," wrote the judges.
       But, rather than doing right (finally !) by Kafka and ordering the long-overdue bonfire the papers are (probably) going to the National Library of Israel.
       Yes:
The court said Hoffe had no rights, and could not have any such rights -- as well as not having rights to any royalties -- for the documents Brod took from Kafka's apartment after his death. As for her holding on to such documents after Brod's death, she did do illegally and had no right to decide on the fate of the estate
       This is presumably correct, going by the letter of the law (well, the facts suggest there is some wiggle room here, legally speaking ...); the fact that Brod surely had no right (morally as well as by the letter of the applicable laws) either to do all the things he did with Kafka's manuscript unfortunately was not up for debate.
       I find it fascinating that everyone seems to be willing to give Brod the benefit of an overwhelming amount of doubt -- wink, wink, we all know what Kafka really meant (why ? because that's what we want to believe) -- while no one is willing to give Esther Hoffe the same courtesy: who is to say, after all, that Brod didn't intend for her to be the true beneficiary (he left her the papers, for heaven's sake, so she was already the nominal beneficiary), to be able do as she wished with the papers ? After all, if he hadn't, surely he would have seen to the proper disposal, one way or another, of the papers when he had the chance, rather than expecting the ambiguous testamentary dispositions he made to resolve things -- that's the argument re. Kafka, isn't it ? isn't it ?. (Even if Brod's instructions seem clear (and they really aren't), they are still nowhere as clear as Kafka's very precise instructions to Brod were: burn the stuff ! all of it !)

Add a Comment
46. Least Favorite Good Character

Writing Prompt: Shout-outDebate: Your Least Favorite Good Character

There is a debate happening on the Harry Potter Message Board re: Who is your least favorite good guy? And TechnologyAthlete12 has some harsh words about Ron:

Ron. Yep I know a lot of you will be surprised but I just dislike Ron, as he is quite useless throughout the series other than the one time when he destroyed a horcrux. Other than that, all he does is take the female main character (Hermione Granger) as a wife and yeah. He really just slows things down, makes too much noise, and is too sensitive. I guess his family is okay as they help Harry quite a bit throughout the series, but Ron himself really does nothing. I guess he can be funny at times but that is the only positive thing that he does consistently throughout the series.

What do YOU think? Do you agree that Ron is useless? Who is YOUR least favorite good character? Tell us in the Comments!

Add a Comment
47. Best New Kids Stories | July 2015

If you love books as much as we do, we know you'll love our selection of titles that highlights some of the best new kids books; including a never-before-seen picture book by Dr. Seuss and some highly anticipated sequels!

Add a Comment
48. The Defence of Lawino review

       The most recent addition to the complete review is my review of A New Translation of Wer pa Lawino by Taban lo Liyong, his translation of Okot p'Bitek's The Defence of Lawino.
       I reviewed p'Bitek's own translation, and it's always interesting to compare translations; certainly, these make for a great comparative case-study.

Add a Comment
49. ‘A More Perfect Union’ by The Rauch Brothers

When Theresa Burroughs came of voting age, she was ready to cast her ballot. But in the Jim Crow era, she had a long fight ahead of her.

0 Comments on ‘A More Perfect Union’ by The Rauch Brothers as of 7/1/2015 1:12:00 AM
Add a Comment
50. Not just trimming words, but chopping

Writing a book isn’t easy. I think we can all agree on that. So the realization that you might need to cut chunks — not just little pieces, like I talked about here, but big things — can hurt. I mean, after writing all those words, it can feel like a big waste to cut them!

Here are some reasons to go for it, though:

1. It’ll make the book stronger.

If you’ve already decided that a certain subplot isn’t necessary, or a scene isn’t doing enough work to deserve to stick around, or a conversation has too much blah blah and not enough interesting stuff, then you already know the story will be stronger and better paced without it. I’m not telling you anything you don’t already know.

2. You’re not wasting words.

I know it can feel like that, but you’re not. Sometimes you need to write something just so you know what you don’t need in the story. Or, in my case recently, I needed to see several parts of my characters’ history, but aside from a few important moments, it wasn’t big or interesting or important enough to deserve to stay on the page. I needed to get that part of the story out of my system so could know, but that was iceberg stuff — and not the tip that shows.

As for how to make the cuts?

1. Identify what you need to keep.

Be extremely honest. If there isn’t anything that needs to stay, just highlight and cut the whole thing. (I assume you have a different draft saved somewhere else that has all this stuff. Or, if you’re using Scrivener, you’ve taken a Snapshot and have plenty of backups.)

You probably already know what needs to stay, but some general advice:

a) Can the reader understand the story without this part? If not, keep it!
b) Does it move the story forward and reveal something (motivations/worldbuilding/theme) in a new way? If so, keep it!

In my case, I was cutting a bunch of flashback scenes down to the most important moments. Down from over a thousand (or two thousand!) words to under five hundred. I looked for the meatiest bits. The big, pivotal moments. The one, most important thing I needed to share with the reader.

2. Make the cut.

Yeah. It’s a big step. It gets its own number.

3. Smooth out the edges.

Chances are you chopped up some transitions and messed with your pacing when you snipped out a huge chunk of text, so go through and fix them. Take a careful look at the beginning and end of the cuts for transitions. Read the whole thing through and see how it sounds. Is it too fast now? Maybe add a beat or two to make it feel more natural. (But not too many! You cut for a reason, after all!)

Don’t be shy about going through it a few times! You’ll probably find more and more places to smooth out. It’s a delicate process, so take your time.

4. Eat a cookie.

What? You worked hard. You deserve a reward.


 

What do you guys think? Any tips I missed? What other advice would you give to someone who’s looking at cutting a huge chunk of their beloved book?

Add a Comment

View Next 25 Posts