What is JacketFlap

  • JacketFlap connects you to the work of more than 200,000 authors, illustrators, publishers and other creators of books for Children and Young Adults. The site is updated daily with information about every book, author, illustrator, and publisher in the children's / young adult book industry. Members include published authors and illustrators, librarians, agents, editors, publicists, booksellers, publishers and fans.
    Join now (it's free).

Sort Blog Posts

Sort Posts by:

  • in

Suggest a Blog

Enter a Blog's Feed URL below and click Submit:

Most Commented Posts

In the past 7 days

Recent Posts

(tagged with 'health')

Recent Comments

JacketFlap Sponsors

Spread the word about books.
Put this Widget on your blog!
  • Powered by JacketFlap.com

Are you a book Publisher?
Learn about Widgets now!

Advertise on JacketFlap

MyJacketFlap Blogs

  • Login or Register for free to create your own customized page of blog posts from your favorite blogs. You can also add blogs by clicking the "Add to MyJacketFlap" links next to the blog name in each post.

Blog Posts by Date

Click days in this calendar to see posts by day or month
new posts in all blogs
Viewing: Blog Posts Tagged with: health, Most Recent at Top [Help]
Results 1 - 25 of 489
1. PubCrawl Podcast: NaNoWriMo 2015 Digging Deep

Podcast Logo

This week Kelly and JJ discuss digging deep and finding the will to continue with NaNoWriMo. Also, real talk: we talk about bipolar disorder and depression, and the difference between I Don’t Want To and I Can’t.

Subscribe to us on iTunes, or use this feed to subscribe through your podcast service of choice! If you like us, please leave a rating or review, as it helps other listeners find the podcast. Thanks in advance!

Show Notes

Here’s the thing, y’all: NaNoWriMo is great for getting words on the page, but also remember to be kind to yourself.

What We’re Reading/Books Discussed

Off Menu Recommendations

That’s all for this week! Next week: THE FINISH LINE. NaNoWriMo comes to an end!

Add a Comment
2. Junior doctor contracts: should they be challenged?

On Saturday 17th October, 16,000 people marched to protest against the new junior doctor contracts in London for the second time. The feeling at the protest was one of overwhelming solidarity, as people marched with placards of varying degrees of humour. Purposely misspelled placards reading “junior doctors make mistaks” were a popular choice, while many groups gathered under large banners identifying their hospital, offering 30% off.

The post Junior doctor contracts: should they be challenged? appeared first on OUPblog.

0 Comments on Junior doctor contracts: should they be challenged? as of 11/13/2015 8:24:00 AM
Add a Comment
3. The Angelina Jolie effect

It is hard to quantify the impact of ‘role-model’ celebrities on the acceptance and uptake of genetic testing and bio-literacy, but it is surely significant. Angelina Jolie is an Oscar-winning actress, Brad Pitt’s other half, mother, humanitarian, and now a “DNA celebrity”. She propelled the topic of familial breast cancer, female prophylactic surgery, and DNA testing to the fore.

The post The Angelina Jolie effect appeared first on OUPblog.

0 Comments on The Angelina Jolie effect as of 11/5/2015 5:53:00 AM
Add a Comment
4. A European victory for the pharmaceutical industry

Following a preliminary reference made in the context of Seattle Genetics Inc. v Österreichisches Patentamt, the Court of Justice of the European Union has put an end to the uncertainty faced by both the innovative and the generic pharmaceutical industries regarding the duration of the effective patent protection afforded to medicinal products.

The post A European victory for the pharmaceutical industry appeared first on OUPblog.

0 Comments on A European victory for the pharmaceutical industry as of 10/27/2015 4:49:00 AM
Add a Comment
5. 7 Lessons I’ve Learned So Far…

Alas, Pub Crawl readers, the time has come for me to make my exit. I’ve been writing for this blog since 2012 and it’s been a blast. From sharing publishing insights and craft advice, to engaging in wonderful discussions via the comments, to just geeking out over books and pop culture, I’ve had so much fun contributing to Pub Crawl!

But I also can’t ignore the fact that I am stretched too thin, that my writing time is precious and I need to guard it fiercely. It was a hard decision, but I need to cut back on my blogging obligations. I’ll still be writing books and sharing advice (via my blog, newsletter, and social media outlets), I just won’t be doing it here on Pub Crawl.

Before I go, and as Alex Bracken and Amie Kauffman have done before me, I’d like to share a few lessons I’ve learned since entering the publishing industry…


There is no perfect time to write, and there is no perfect place to do so. You might have an ideal—your dream writing day/situation—but if you sit around waiting for it, you’re burning precious hours. In the words of Tim Gunn, you just need to “make it work.” I wrote my debut in half hour sprints after work and on the weekends. Then I became a full time writer and had all the time in the world. It was marvelous. Of course, I now have a one-year-old and am back to writing in sprints and cramming copy-edits in during naps and brainstorming while I push the stroller. All this to say: nothing is life is constant. Be prepared to write under any circumstance.


If your book tanks, that doesn’t define you. If your book is a massive hit, that doesn’t define you either. Your identity is not tied to the success of your books. Remember that age-old mantra, The only thing you can control is the words? Well, it’s true. So don’t let your happiness be tied to things you can’t control, like sales numbers and best-seller lists. Find other passions and hobbies. Spend time with friends and family. Love writing, but live outside it too.


I only made it through my debut season without going insane because kind, thoughtful, gracious writers who were ahead of me in their journey reached back and told me what to expect. They shared knowledge. They acted as a sounding board. They pulled back the curtain. Publishing can often feel like a giant mystery, like you’re wandering down a road-blocked, pothole-ridden street while wearing a blindfold. Help your fellow writers out. Pay-it-forward. We’re all in this together, I promise you.


Seriously. You’re allowed. As soon as you start feeling burned out, that you can’t keep up with the tweets, that the fun’s been sucked out of tumblr and that your networks are just another thing you have to maintain, STEP AWAY. Take a week or two off. Maybe more! The internet isn’t going anywhere. It will carry on just fine without you and it will be there when you get back. You’ll be amazed at how much you don’t miss, and how rejuvenated you feel when you finally return.


Write outside your comfort zone. Explore new genres. Take risks. Do something that scares you. The only way you grow as a writer is by trying new things. Comfort—writing only what feels safe—will keep you stale. It will stall your growth. And aren’t we all trying to grow?


Storytelling is everywhere, so when you watch a movie, binge a TV show, read a book, look at a photo, listen to song lyrics, peruse a gallery… take note of what you love. What works? What inspires you? On the other hand, what do you hate? What would you change? Apply that to your own writing.


The grass is always greener ahead. The future holds great promise. It could be when you land an agent, sell that book, get a movie deal, go on tour, hit a list, get showered with awards, and so on. But if you’re too busy looking ahead, you’ll miss the things happening now. And remember my point in #2? Those fancy things are wonderful, but journeys without them aren’t pointless journeys. Remember to live your life. Be present in the moment. Tomorrow is going to happen no matter what, so make sure you enjoy today.

Add a Comment
6. Ethics at the chocolate factory

Two women are being trained for work on a factory assembly line. As products arrive on a conveyor belt, their task is to wrap each product and place it back on the belt. Their supervisor warns them that failing to wrap even one product is a firing offense, but once they get started, the work seems easy.

The post Ethics at the chocolate factory appeared first on OUPblog.

0 Comments on Ethics at the chocolate factory as of 10/22/2015 6:59:00 AM
Add a Comment
7. The Switch Witch and the Magic of Switchcraft, by Audrey R. Kinsman | Book Review

The Switch Witch and the Magic of Switchcraft is actually a beautiful gift set that includes a Switch Witch doll and a storybook centered on the Switch Witch character.

Add a Comment
8. Better medical research for longer, healthier lives

When I started my career as a medical statistician in September 1972, medical research was very different from now. In that month, the Lancet and the British Medical Journal published 61 research reports which used individual participant data, excluding case reports and animal studies. The median sample size was 36 people. In July 2010, I had another look.

The post Better medical research for longer, healthier lives appeared first on OUPblog.

0 Comments on Better medical research for longer, healthier lives as of 10/19/2015 5:47:00 AM
Add a Comment
9. One reason you should take regular breaks away from the keyboard

0 Comments on One reason you should take regular breaks away from the keyboard as of 10/18/2015 9:26:00 AM
Add a Comment
10. The soda industry exposed [Infographic]

Although soda companies such as Coca-Cola and PepsiCo are recognized around the world - the history, politics, and nutrition of these corporations are not as known. In her latest book, Soda Politics: Taking on Big Soda (and Winning), Marion Nestle exposes the truth behind this multi-billion dollar industry. Check out these hard hitting facts and see how much you actually know about the soda industry.

The post The soda industry exposed [Infographic] appeared first on OUPblog.

0 Comments on The soda industry exposed [Infographic] as of 10/16/2015 7:27:00 AM
Add a Comment
11. BEING YOU! Daily Mindfulness For Kids, by Tracy Bryan | Dedicated Review

BEING YOU! Daily Mindfulness For Kids is an interesting exploration of children's mental health.

Add a Comment
12. How well do you know the soda industry? [quiz]

The history of soda is full of Norman Rockwell paintings, nostalgic Americana, athletes and other celebrities—so many familiar faces that soda companies seem like the industry next door. But these are the same companies that use municipal water supplies in drought-stricken areas and spend large amounts of money on lobbying. So how much do you actually know about the soda industry? Take the quiz and find out.

The post How well do you know the soda industry? [quiz] appeared first on OUPblog.

0 Comments on How well do you know the soda industry? [quiz] as of 10/9/2015 8:17:00 AM
Add a Comment
13. बीफ


कार्टून  बीफ ( मोनिका गुप्ता )

कार्टून बीफ ( मोनिका गुप्ता )


जिस तरह से बीफ की खबर ब्रीफ में दिखाई जा रही है … दिल बैठा जा रहा है. चाहे न्यूज चैनल हो या नेता सब अपनी अपनी टीआरअपी  बढाने में जुटे है और बेचारी गौ माता पूरी तरह से घबराई हुई है …


  ABP News

सवाल उठता है कि क्या बीफ और गौ मांस एक ही शब्द है या फिर इसके जो मायने लगाये जा रहे हैं वो गलत हैं. अगर ठेठ अंग्रेजी संदर्भ में देखें, तो कैंब्रिज डिक्शनरी के मुताबिक बीफ का मतलब होता है मवेशी यानी गाय का मांस. वैसे भी अगर वैश्विक संदर्भ में देखें, तो बीफ को गाय, बैल, सांढ़, बछड़े या बछिया के मांस को परिभाषित करने के लिए ही उपयोग में लाया जाता है. ऐसे में भारत से बड़े पैमाने पर बीफ का निर्यात कैसे होता है, जिसका हवाला दे रहे हैं उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और इसी बहाने हमला कर रहे हैं केंद्र की सरकार पर और उसके अगुआ मोदी पर, ये याद दिलाते हुए कि लोकसभा चुनावों के पहले मोदी खुद पिंक रिवोल्यूशन के नाम पर यूपीए की तत्कालीन सरकार पर हमला बोल चुके हैं.

दरअसल जब भारत में हम बीफ शब्द का इस्तेमाल करते हैं और खास तौर पर निर्यात के संदर्भ में, तो इसका मतलब गाय, बैल, सांढ, बछिया या बछड़े के मांस के निर्यात से नहीं होता, बल्कि इसका अर्थ होता है भैंस के निर्यात से. इस तथ्य की तरफ इशारा खुद केंद्रीय वाणिज्य राज्य मंत्री निर्मला सीतारामन ने भी एक प्रेस कांफ्रेंस कर किया. सीतारामन के मुताबिक, भारत से गाय, बैल, सांढ, बछिया या बछड़े के मांस का निर्यात नहीं होता, बल्कि भैंस के मांस का निर्यात होता है. इसी भैंस के निर्यात को आम आदमी तो ठीक, खुद मीडिया भी बीफ एक्सपोर्ट कह देता है, जिसका अर्थ ये लगा लिया जाता है कि भारत से गौ मांस का निर्यात होता है. अगर हम विविध राज्यों के कानूनों को देखें, तो कुछ राज्यों को छोड़कर ज्यादातर राज्यों में गौ हत्या पर प्रतिबंध है. ऐसे में भला गौ मांस का निर्यात कैसे हो सकता है. यहां तक कि भैंसों के मांस का जो निर्यात होता है, उसमें उनकी हड्डियां तक नहीं होती हैं, सिर्फ और सिर्फ बोनलेस भैंस मांस का निर्यात होता है. Read more…

The post बीफ appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
14. रक्तदाता और सफलता की कहानी


r saini kuk

r saini kuk


रक्तदाता और सफलता की कहानी

अगर बात हो निस्वार्थ स्वैच्छिक रक्तदान की तो हरियाणा के राजेन्द्र सैनी का नाम आगे आता है.

हरियाणा के जिला  कुरुक्षेत्र में रक्तदान से सम्बंधित एक कार्यक्रम चल रहा था. स्टेज पर जो भी वक्ता आ रहे थे सभी राजेंद्र सैनी का धन्यवाद और आभार प्रकट कर रहे थे कि आज रक्तदान के क्षेत्र मे रक्तदाता या कैम्प आयोजक या प्रेरक वो जो भी कुछ  है  सब राजेंद सैनी जी  की वजह से हैं.सभी के मुंह से यह बात सुनकर एक उत्सुकता सी बनी हुई थी कि आखिर सैनी जी है कौन  क़िस तरह का काम कर रहे हैं. खैर मीटिंग खत्म हुई और मुझे मौका मिला. सैनी साहब से बात करने का.

न्यू पिंच ने बदल दी दुनिया

1 जून 1962 को पुंडरी मे जन्मे राजेंद्र सैनी आज पूरी तरह से रक्तदान केप्रति समर्पित है. इतना ही नही इनके  परिवार  परिवार म्रे बेटा और बेटी भी रक्तदाता है. मेरे पूछ्ने पर कि रक्तदान के प्रति ऐसी प्रेरणा कब आई तो उन्होने बताया सन 1998 मे रक्तदान मे मीटिंग के दौरान  एक बार उन्होने श्री युद्दबीर सिह ख्यालिया को सुना और रक्तदान के बारे मे उनकी बाते सुनकर उनकी सोच बदली और उन्होने मन ही मन प्रण किया कि वो भी रक्तदान करेंगें. बाकि तो सब ठीक था बस एक ही जरा सी अडचन थी कि उन्हे सूई से डर लगता था. हालाकिं वो बच्चो या बडो को रक्तदान के प्रति जागरुक करते रहते थे कि सूई से जरा भी डर नही लगता पर खुद सूई फोबिया से बाहर नही निकल पा रहे थे.

एक दिन एक कैम्प के दौरान मन बना पर फिर डर गए और सोचा कि किसी लैब मे ही जाकर चुपचाप रक्तदान करके आंऊगा क्योकि अगर यहां  रक्तदान कैम्प मे वो रक्तदान करते समय डर के मारे चिल्ला पडे तो दूसरे लोग उनके बारे मे क्या सोचेगें पर शायद उस दिन ईश्वर को कुछ और ही मंजूर था. डाक्टर ने उनकी भावनाओ को समझा और उन्हे बातो मे लगा कर उन्हे लिटाया और  सूई लगा दी. जब रक्तदान करके वो उठे  तो नई स्फूर्ति का उनके अंदर संचार हो रहा था, उस समय का अनुभव बताया कि दर्द तो महज इतना ही हुआ जितना  कोई नई कमीज पहनता है और उसके दोस्त उसे न्यू पिंच बोलते. 

दूसरे शब्दो मे यह न्यू पिंच ही था जिसने एक नई दिशा दी और वो और भी ज्यादा विश्वास से भर कर लोगो को रक्तदान के प्रति जागरुक करने मे जुट गए. तब का दिन है और आज का दिन है. आज सैनी जी 49 बार रक्तदान कर चुके हैं और न्यू पिंच से प्यार हो गया है. उन्होने बताया कि रक्तदान मे अर्धशतक तो लग चुका है पर  बस अब वो  शतक लगना चाहते हैं. उन्होने बताया कि लोगो को प्रेरित करना और वो प्रेरित हुए  लोग  आगे लोगो को प्रेरित करके मुहिम जारी रखे तो एक सकून सा मिलता है. बहुत अच्छा लगता है. जब  एक दीए से दूसरा दीया जगमग करता है तो दिल को खुशी मिलती है जिसका बयान शब्दो मे नही किया जा सकता.

अपनी बिटिया श्वेता के बारे मे उन्होने बताया कि जब उनकी बिटिया पहली बार रक्तदान के लिए गई तो डाक्टर ने बोला कि वजन कम है  वो रक्तदान कर  नही पाएगी. इस पर वो काफी मायूस हो गए पर आधे धटे बाद जब देखा तो वो रक्तदान करके बाहर आ रही थी इस पर जब उन्होने हैरानी जाहिर की तो श्वेता ने बताया कि उसने 5-6 केले खा लिए थे और रक्तदान कर के आई है. उसके चेहरे से जो खुशी झलक  रही थी वो आज भी भुलाए नही भूलती.

मैने जब उनसे पूछा कि कार्यक्रम के दौरान जब सभी उनका नाम ले कर सम्बोधितकर रहे थे तो वो कैसा महसूस कर रहे थे इस पर वो बोले कि खुशी तो हो रही थी एक नया संचार सा शरीर मे भर  रहा था पर दूसरी तरफ अच्छा भी नही लग रहा था. कारण पूछ्ने पर उन्होने बताया कि कही दर्शक यह ना सोचे कि मैंने  ही उन्हे कहा है कि  मेरे बारे मे भी जरुर कहना. उनकी बात सुनकर मै मंद मंदमुस्कुरा उठी क्योकि मैने खुद सुना कि लोग पीठ पीछे भी उनकी तारीफ कर रहेथे. आखिर नेक काम की अच्छाई तो छुपाए नही छिप सकती.

आज रक्तदान के क्षेत्र मे हरियाणा के  राजेंद् सैनी अपनी अलग पहचान बना चुके हैं. पीजीआई रोहतक से उन्हे कैम्प आयोजक रुप मे दो बार सम्मान मिल चुका है और फस्ट एड ट्रैनर यानि प्राथमिक चिकित्सक ट्रैनर  व रक्तदाता के रुप मे वो महा महिम बाबू परमानंद, डाक्टर किदवई और श्री धनिक लाल मंडल से सम्मानित हो चुके है. राजेंद्र सैनी  दिन रात इसी उधेड बुन मे रहते है  कि किस तरहलोगो को जागरुक करे और उन्हे मोटिवेटर बनाए ताकि वो इसका संदेश आगे औरआगे फैलाते रहें. भले ही राजेंद्र सैनी आज 52 साल के हो चुके हैं पर खुद को वो नौजवान ही मानते है उनका कहना है कि रक्तदाता कभी बूढा नही होता वो हमेशा जवान ही बना रहता है.उनकी भाषा मे तो आप न्यू पिंच कब करवा रहे हैं”  !!!!

हमारी ढेर सारी शुभकामनाएं !!! 

रक्तदाता और सफलता की कहानी


The post रक्तदाता और सफलता की कहानी appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
15. राष्ट्रीय स्वैच्छिक रक्तदान दिवस

आईएसबीटीआई ( मोनिका गुप्ता)



राष्ट्रीय स्वैच्छिक रक्तदान दिवस

राष्ट्रीय स्वैच्छिक रक्तदान दिवस की हार्दिक शुभकामनाऎं…

 खुशी का विषय यह है कि आईएसबीटीआई यानि इंडियन सोसाईटी आफ ब्लड ट्रांसफ्यूजनएंड इमयोनोहीमेटोलोजी  ने ही इस दिवस की शुरुआत सन 1976 में की थी.  आईएसबीटीआई पिछ्ले चालीस सालों से रक्तदान से जुडी गैर सरकारी संस्था है और स्वैच्छिक रक्तदान के क्षेत्र  मे अभूतपूर्व कार्य कर रही है. स्वैच्छिक रक्तदान के प्रति पूरी तरह समर्पित आईएसबीटीआई के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा. युद्द्बीर सिह खयालिया एक ही दृष्टि कोण  लेकर चल रहें  हैं  कि जनता में स्वैच्छिक  रक्तदान के प्रति इतनी जागरुकता आ जाए कि सुरक्षित रक्त मरीज की इंतजार करे  ना मरीज रक्त की. डाक्टर ख्यालिया का  मानना है कि इसके लिए शत प्रतिशत स्वैच्छिक रक्तदान की भावना का होना बेहद जरुरी है और ऐसी जागरुकता जन जन मे कैसे लाई जाए. अपने इसी लक्ष्य को पूरा करने के लिए आईएसबीटीआई दिन रात कार्यरत है. इन्ही सब बातों को ध्यान मे रखते हुए  जगह जगह ट्रैंनिग करवाई जाती है. स्कूल कालिजो मे क्विज, पोस्टर बनाना तथा अन्य माध्यमों से जागरुकता लाई जाती  है. भिन्न भिन्न रक्तदान के  खास अवसरो पर जैसाकि विश्व रक्तदान दिवस, स्वैच्छिक रक्तदान दिवस आदि कुछ  खास दिनों में प्रतियोगिताए भी आयोजित करवाई जाती  है.

 रक्तदान से जुडे होने के कारण अक्सर मेरे पास भी रक्त की जरुरत के लिए फोन आते रहते हैं.यथा सम्भव मदद करने की कोशिश तो करती हूं पर जहां तक हमारी पहुंच ही नही है वहां मदद करना या किसी को कहना बहुत मुश्किल हो जाता है. दिल्ली में डाक्टर संगीता पाठक Sangeeta Pathak, सोनू सिह  Sonu Singh Bais , राजेंद्र माहेश्वरी (भीलवाडा, राजस्थान) मंजुल पालीवाल, रोहतक हरियाणा से , मुम्बई से दीपक शुक्ला जी,  ब्लड कनेक्ट की पूरी टीम नई दिल्ली से और चंडीगढ में डाक्टर रवनीत कौर को जब भी मैंने वक्त बेवक्त फोन किया  और रक्त  की जरुरत के बारे मे बताया तो उन्होनें तुरंत एक्शन लिया और एक ही बात कही कि चिंता नही करो आप उन्हे मेरा नम्बर दे दो. कोई फिक्र नही. परेशानी मे पडे एक अंजान के लिए ऐसी बात कहना बहुत बडी बात है. मैं उनका अक्सर खुले लफ्जों में और कई बार दिल ही दिल मॆ बहुत धन्यवाद करती हूं और फिर विचार आता है कि क्यों ना ऐसे शानदार और समर्पित व्यक्तित्व पूरे देश भर में हो. हमारे पास देश भर में कही से भी फोन आए. हम किसी को रक्त की कमी से न मरने दे.

अगर डाक्टर या ब्लड बैंक से जुडे लोग हों तो बहुत बेहतर है या फिर कोई ऐसे जो स्वैच्छिक रक्तदान से जुडे हों और समाज के लिए निस्वार्थ भाव से कुछ करना चाहते हों. उनका स्वागत है. यह बात पक्की है कि आपके सहयोग के बिना यह कार्य सम्भव नही है और यह बात भी पक्की है कि इस लक्ष्य को हम जीत सकते हैं. अगर आप ऐसे किसी भी व्यक्ति को जानते हैं या आप खुद ही हैं तो नेक काम मे आगें आए. अपना नाम और पता monica.isbti [at]gmail.com पर भेज दीजिए….. !!!!

आईएसबीटीआई ( मोनिका गुप्ता)

ISBTI monica gupta 1

The post राष्ट्रीय स्वैच्छिक रक्तदान दिवस appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
16. हम और हमारा भोजन

हम और हमारा भोजन


तीन छुट्टियां क्या आई घर परिवार में रौनक सी आ गई. मेरी एक सहेली भी बहुत व्यस्त है कल से पकवान बनाने में. एक तो श्राद और दूसरा उसका बेटा आ रहा था दो दिन के लिए. आलू, गोभी, पूरी हलवा, पाव भाजी, छोले भठूरे, खीर, दही भल्ले क्या क्या नही बनाया उसने !!! पर उसकी खुशियों पर तब  पानी फिर गया जब बेटे के कहा कि वो ये कुछ भी नही खाएगा.

असल में, दो साल से बाहर रह रहा है और लाईफ स्टाईल बिल्कुल बदल गया है. अब तली भुनी चीजो की बजाय हैल्दी फूड और जिम पर पूरा ध्यान केंद्रित है उसका.

वैसे देखा जाए तो समय वाकई बदल गया है. एक समय था जब खीर पूरी हलवा रसोईघर की शान होती थी पर आज मेरी जानकारी में जितने घर हैं ज्यादातर घरों में आयुर्वेदिक सामान जैसे आवलां जूस, एलोवीरा जूस, त्रिफला पाउडर, इसबगोल, ओटस, ब्रेन, वाईट ओट, मूसली, ब्राउन राइस, ब्राउन ब्रेड, होल ग्रेन और ढेरों फल  ही देखने को मिलती हैं और ये अच्छा भी है आखिर बुराई क्या है इसमें … !!!

सेहत की सेहत और नो साईड इफेक्ट !! मैं लिख ही रही थी कि अचानक मणि आई और मेरे पीछे खडी हो गई वो मेरे लिए मूंग की दाल का हलवा लाई थी.. अरे!! अब लग रहा है वाकई अपवाद भी हैं इस क्षेत्र में … कुछ लोग ऐसे हैं जो कंट्रोल ही नही कर पाते और मैं खाने मे जुट गई.

हम और हमारा भोजन


The post हम और हमारा भोजन appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
17. How to rewire your brain when it comes to food.

All scream for ice cream!A lot of you have written to me in the past few days thanking me for sharing my own struggles with sugar addiction (a.k.a. my kryptonite), and also for sharing Dr. Susan Thompson’s videos about what she’s learned as both a neuropsychologist and as a formerly obese woman about how to rewire our brains and finally get rid of cravings once and for all. Yes, please, now!

(And by the way, thank you for all your emails and comments! I really do love the solidarity we can have about this topic. It’s not something any of us are particularly proud of, but it feels good to be able to talk about it with each other!)

The third video in Susan’s series is now out, and it’s the best so far: about the 5 critical ways we can rewire our brains so that eating the right foods, and not eating the wrong foods, becomes completely automatic.

If you haven’t already watched videos one and two yet, I highly recommend them, since each is chock full of all sorts of cool science about why we crave what we do, why willpower fails us (it’s not the right tool), and other answers to questions you’ve probably had as you dive into that fourth serving of cookies, candy, cake, or ice cream. I know because I have been there, my friend. As recently as last week!

Hope you love this last video as much as I did! LEARNING! Love it!


(Photo credit: Alex Jones, via Unsplash.com)

0 Comments on How to rewire your brain when it comes to food. as of 1/1/1900
Add a Comment
18. Hacking health - and literacy - in the library

How do students’ research skills turn into love of inquiry?  The answer is HackHealth!  I work in a middle school library with grades six through eight.  Because I serve a population of over 1,000 students, it is challenging to see all of my students on a regular basis.  When I did see them, their research skills were very basic and most of them knew only Google.  Although I love Google myself, I know that there is so much more that goes into research.  How can I teach these skills to students with the limited time that I have with them?

The Beginning

Researchers at the University of Maryland (UMD) in College Park came to me with the idea to form a weekly after-school program, HackHealth, to teach students how to research health topics that interest them.  I jumped at the opportunity.  My first step was to recruit students.  There are several very effective ways to do this, but I will focus on the method that I used because it worked so well for me.  I approached my school’s science team.  I told them about the HackHealth program and asked them to recommend students who were interested and would benefit from this program.  I received responses back from almost 20 students who were interested.  We had an initial meeting with approximately 12 interested students where the program was introduced by the UMD researchers.

Implementing the Program

The HackHealth program at my school lasted for 12 weeks.  During the first session, I talked with them about choosing a topic.  Our students viewed short videos introducing them to the program. The next step was to explore possible sources for their research.  Students brainstormed sources which they would use to find credible information.  For example, would they use the Internet, ask a family member, read a newspaper?  They discussed the pros and cons of each of these sources based on prior knowledge.

How to Take Notes

sandwich boardsUMD researchers and I went over notetaking skills.  Three skills were introduced:  Mind-mapping, tables, and making lists.  The students were introduced to each method and then formed groups to practice these methods.  At the end, they were asked to present their assigned note-taking strategy to the group.  The group discussed which method is most effective for which circumstances.

Credibility Screenshot Activity

postit1 postit2

We used posters of various health-related Web pages for this activity.  The posters included: WebMD, Dr. Oz, Wikipedia, a government website (alzheimers.gov), a blog (“Sharing my life with Lewy Body Dementia”) and a kids health website (KidsHealth.org).  The students were given red and green post-its.  The red represented not credible.  The green represented credible.  The students wrote why they felt the website was credible or not on their post-its. We got together at the end of this activity to discuss the differences in opinion and how to handle the “grey” areas on assessing credibility of online information.


computerlabAnother activity that focused on the validity and relevancy of websites was an iEvaluate activity.  Students were given a list of websites that appeared at first sight legitimate, but were all hoax websites.  They were asked to evaluate these websites by looking at the website’s purpose, finding the author of the website, and analyzing whether they learned anything from the website.  Our students noticed a few red flags like no author name, no contact information, and facts that just didn’t seem accurate (like a tree-climbing octopus!)

The End

After all of the learning and hard work, it is finally time to show us what they know.  Our students were given several options to present their research findings and they did so very creatively.  We had an interview about discrimination against handicapped people, a Prezi about bronchitis, a song about thyroid disease, an interpretive dance about Kawasaki disease, and a chart presentation regarding sickle cell anemia.  

And best yet...they were very excited about returning again next year!

These are just a snapshot of a few activities that my students enjoyed during the 12 HackHealth sessions.

I would HIGHLY recommend HackHealth for library media specialists or any educator who is interested in teaching their students research skills.  The activities are so varied that students with different learning styles will benefit.  For educators who implement HackHealth, the options of lesson plans and activities are so varied that they can be incorporated into a variety of lessons.   To me, the abundance of lesson plans and activities, and the flexibility of this program are its strengths.  HackHealth can turn any student into a skilled researcher.

See http://hackhealth.umd.edu/about-us/project-phases/ to access the lesson plans and activities.

-Melissa Bethea is the school library media specialist at Charles Carroll Middle School in Prince George's County Public Schools.


Add a Comment
19. Finding Audrey, by Sophie Kinsella | Book Review

Sophie Kinsella is the bestselling author of The Shopaholic Series. Her hilarious style of writing will entrance readers of any age.

Add a Comment
20. Prayers


हमारी जिंदगी में  prayers का बहुत मह्त्वपूर्ण स्थान है. महिलाएं तो ज्यादातर सुबह सवेरे अपने दिन की शुरुआत नहाने के बाद  पूजा और धूप बत्ती से करती हैं. मेरी सहेली मणि के घर अगर सुबह सुबह जाओ तो घर महकता मिलेगा. बहुत अच्छा लगता है  क्योकि खुश्बू होती ही इतनी मनभावन है.

उसकी देखा देखी मैने भी ऐसा करना शुरु कर रखा है दिन में तीन चार बार तो खुश्बूदार अगरबत्ती लगा ही लेती हूं पर पर पर  आज कुछ ऐसा पढा कि टैंशन सी हो गई. असल में, खबर है कि” हैरानी होगी आपको यह जानकर कि सुगंधित अगरबत्तियों और धूप बत्तियों से निकलने वाला धुंआ शरीर की कोशिकाओं के लिए सिगरेट के धुएं से अधिक जहरीला साबित होता है।

शोधकर्ताओं का कहना है कि अगरबत्ती का धुआं सिगरेट के धुएं की तरह है। अगरबत्ती का धुआं कोशिकाओं में जेनेटिक म्‍यूटेशन करता है। इससे कोशिकाओं के डीएनए में बदलाव होता है, जिससे कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है।

अब ज्यादा तो समझ नही आया बस इतना समझ आया कि अगरबत्ती से निकलता धुंआ बेहद नुकसानदायक है.

वैसे पहले गूगल सर्च में कितनी बार पढा है कि अगरबत्ती बनाए खुश्बू के साथ साथ धन भी कमाए या अगरबत्ती बना कर जीवन महकाए  या सफल बिजनेस है अगरबत्ती का … !!!

पर आज वही अगरबत्ती और धुआं  गूगल  पर जब सर्च किया तो वही हैरान कर देने वाली खबर बहुत जगह पढने को मिली… ये तो कभी सोचा ही नही कि ऐसा भी होता है इसलिए तनाव हो गया है फिलहाल तो मैं मणि को सचेत करने जा रही हूं वैसे आप तो ज्यादा धूप बत्ती नही करते होंगें अगर करते हैं तो जरुर सोचिएगा !!



http://epaper.navbharattimes.com/details/4486-61408-1.html Via navbharattimes.com

reasons to say NO to agarbattis or incense sticks

शोध के नतीजों के आधार पर फेफड़ों की बीमारी से जूझ रहे लोगों के लिए यह अच्‍छा होगा कि वह धूप के धुंए से बचें। अगरबत्ती और धूपबत्ती को फेफड़ों के कैंसर, ब्रेन ट्यूमर और बच्‍चों के ल्‍यूकेमिया के विकास केसाथ जोड़ा जा रहा है। Via patrika.com

Prayers लेख आपको कैसा लगा जरुर बताईगा !!!

The post Prayers appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
21. Step 1 to end military suicide

Fifteen years ago, the suicide rate among patients in a large behavioral care system in Detroit was seven times the national average. Then leaders there decided to tackle the problem. The first question asked was what should be the goal—to cut the rate in half, reduce it to the national level, or more? One employee said even a single suicide was unacceptable if it was your loved one, and that helped set the target: zero.

The post Step 1 to end military suicide appeared first on OUPblog.

0 Comments on Step 1 to end military suicide as of 1/1/1900
Add a Comment
22. Diet Plan

Diet Plan photo

Photo by TipsTimesAdmin


Diet Plan

Nutrition Tips

बात कुछ दिनों पहले की है. मैं अपनी सहेली मणि के घर पर थी. मणि के पति का जन्मदिन हाल ही में गया है और मणि का जन्मदिन आने वाला है तो हम बैठ कर खाना डिसाईड कर रहे थे कि उस दिन क्या क्या बनेगा. मणि को खाने का बहुत ज्यादा शौक तो नही है पर कम भी नही है. आलू पूरी, छोले भठूरे, टिक्की, फ्रूट क्रीम, फलूदा कुल्फी ही पसंद है बस … ह हा हा !!! मैं इसलिए हंसी क्योकि आप यही सोच रहे हो कि बस !!! हां तो मैंने खाने की बात करते करते मणि से कहा कि केक मेरी तरफ से होगा. इस पर मणि बोली कि अरे नही !!! पिछ्ले साल भी बेटे ने केक online order कर दिया था और दो दो केक खाने मुश्किल हो गए थे इसलिए इस बार उसने मुझे केक के लिए मना कर दिया. वैसे वो केक बहुत ही स्वादिष्ट था.पाईनएपल केक का सुनते ही मेरे मुंह में भी पानी आ गया. असल में, आज भी केक पर लगे पाईनएपल के लिए मेरी और मणि की बच्चों की तरह लडाई होती है. बच्चे घर पर हो तो हम कंट्रोल कर लेते हैं नही तो …!!

हम बात कर ही रहे थे कि तभी मणि के बेटे का फोन आ गया वो फिलहाल विदेश में किसी प्रोजेक्ट के सिलसिले में गया हुआ है.मणि उससे बात करने लगी. ज्यादा समझ तो नही आया पर महीने के हाव भाव से लग रहा था कि कुछ हैरानी और टेंशन की बात है वो मना कर रही थी और थोडी देर बात करने के बाद फोन रख दिया. मेरे पूछ्ने पर उसने बताया कि फंस गए!! अरे !! क्या हुआ? वो बोली कि अभी किसी dietician का फोन आएगा और वो मेरा और इनका (मणि के पति) का सारा डाईट प्लान और हिस्ट्री पूछेगी… मैने हैरानी से पूछा कि यानि !!! किसलिए ??? हुआ क्या!!! मणि ने बताया कि उसके बेटे ने एक साल के लिए देश की जानी मानी डाटिशियन को बुक किया है अब उसके बताए खाने के हिसाब से चलना होगा. उससे पहले अलग अलग  blood test  करवा कर भेजने होंगें जिससे शरीर के भीतर क्या क्या  हो रहा है पता चल सके. उसके आधार पर वो क्या खाना है और नही खाना वो बताएगें. कोर्स भी बहुत महंगा है पर बेटे ने ज्वाईन करवा दिया. बस मेल और फोन पर बात होगी और उनके कहे अनुसार चलना होगा.

मैने सोचा कि मणि के बेटे ने ऐसा क्यों किया. उसने बताया जब पिछ्ली बार मिले थे तो बेटा गुस्सा हो रहा था कि आप और पापा  दोनो मोटे हो रहे हो जरा अपना ख्याल रखो … शायद इसी वजह से… वो बता ही रही थी तभी उसके मोबाईल पर फोन आया जोकि true caller में डाईटिशियन का ही नम्बर आ रहा था. मैं उठने को हुई तो मणि ने हाथ पकड कर रोक लिया. मैं फिर बैठ गई. लगभग 15 मिनट बाद हुई दोनों की और मणि ने फोन रखने के बाद बताया कि वो मेल भेज रहे हैं उसके हिसाब से आठ दस टेस्ट करवा कर उनको भेजने हैं blood group  और weight भी  फिर उसी हिसाब से वो क्या खाना है क्या नही खाना वो बताते रहेंगें. हम दोनो के मन में अजीब सा तनाव था कि ना जाने क्या होगा.

शाम को मणि घर आई तो थोडा रिलेक्स थी. जब वो और उसके पति उनके बताए सारे blood test  करवाने गए तो लैब के डाक्टर जानकार मित्र थे. उनके पूछ्ने पर मणि ने बेटे की सारी बात बताई तो डाक्टर बहुत खुश हुए और बोले बहुत ही अच्छी बात है आप तो ये मान कर चलिए कि आपके बेटे ने आप दोनो की दस दस साल उम्र बढा दी. आपके बेटे ने बहुत सही सोचा. हम भारतीय लोगो का खान पान बहुत बिगडा हुआ है और उसी वजह से सारी बीमारियां होती है… जाते जाते उन्होनें यह भी कहा कि उन्हें भी  Diet Plan जरुर भेजिएगा कि वो क्या और किस तरह का डाईट प्लान बनाते है वो भी इसे जरुर ज्वाईन करना चाहेंगें.

Diet Plan

शाम को सारी रिपोर्ट मिल गई खुश किस्मती यह भी रही कि सारे टेस्ट नार्मल रेंज में थे. और अब शुरु होना था उनका डेली डाईट प्लान Diet Plan.  आज सुबह मैं खीर बना रही थी पर अनमने भाव से क्योकि जब भी खीर बनाती मणि को जरुर दे कर आती पर अब वो तो नही खाएगी … मैं भी क्या करुंगी खीर बना कर . तभी मणि का फोन आया कि तेरे पास किसी का फोन आया . मैने कहा कि नही तो किस का आना है ???… वो हंसने लगी और बोली अगर मेरा बेटा दूर बैठे अपने  मम्मी पापा का इतना ख्याल रख सकता है तो क्या मैं पास बैठी सहेली के लिए इतना भी नही कर सकती … तेरा जन्मदिन भी तो आ रहा है … !!!क्या !! बता न…!!!  क्या बात है … मेरी उत्सुकता बढती जा रही थी. वो बोली कि उसने dietician को मेरा नम्बर दे दिया है … क्या मैने कहा !! अरे नही !!! मैं तो बिल्कुल ठीक हूं मुझे जरुरत नही है और ये कंट्रोल वंट्रोल मुझसे नही होगा….  और ये एक साल का पैकेज महंगा भी तो है … प्लीज मना कर दे .. प्लीज … प्लीज .. !!वैसे भी मुझसे कंट्रोल भी नही होता !!! इतने में मेरे मोबाईल पर दूसरा फोन आ रहा था…शायद ये वहीं से था. अब मैं भी उससे बात कर रही हूं और अपने बारे मे सारी जानकारी दे रही हूं… !!!

इस बात को हफ्ता हो गया है और  मणि के अनुभव को देखते हुए और उसकी खुशी को देखते हुए मुझे भी लग रहा है कि  over weight के कम होने wait नही करनी चाहिए अपने शरीर का ख्याल रखना चाहिए. खासकर खाने के मामले में तो बहुत जरुरी है. असल में, हमारी Indian eating habits आदतें बहुत खराब है जोकि जाने अंजाने शरीर को बहुत नुकसान पहुंचाती हैं… और अगर इस पर कंट्रोल हो गया  तो मन वैसे ही प्रफुल्लित रहेगा.. वैसे आप कैसे हैं … !!!   Fitness का कितना ख्याल रख रहें हैं आप ?? सेहत यानि health  के लिए  Healthy Eating  बहुत जरुरी है …

ह हा हा … अभी तो शुरुआत ही हुई है मेरी और मैं समझाने भी लग गई आपको … :) 







The post Diet Plan appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
23. Is it finally time to make peace with your eating? FAT CAT in real life.

WGDW #13Some writers rely on drugs and alcohol. Not me. I just finished writing a screenplay fueled mostly by coffee and Reese's peanut butter cups. Soooo much better, right? *cough*

One of the reasons I wrote my novel FAT CAT was that I was an overweight teen (and adult, at times), and I wanted to sit down and research everything I could find about food, weight loss, and healthy eating. Then I came up with the science project plan for my heroine, Cat, to put herself through. I even did it myself while I wrote the book so I could accurately depict what Cat was feeling from day to day.

And the hardest things for both Cat and me to give up were -- you guessed it -- sugar and caffeine. Cat's withdrawal struggle in the novel was mine. But once I got passed that, boy, did I feel great! But then after I finished writing it, I eventually slipped right back into my old habits. And to be honest, I'm still struggling with that today.

Which is why I'm so excited about this free video series from Dr. Susan Peirce Thompson. She's  a tenured psychology professor with a Ph.D. in Brain and Cognitive Sciences (and you know how much I love SCIENCE!). She also used to be obese. I always love to learn from someone who's been on the front lines and has figured out how to do something better.

For years now Susan has been teaching her findings in her college course on the Psychology of Eating. But last year she realized she should make that same information available to more people. She decided to create her free video series to share the truth about the psychology and neuroscience of weight loss and food freedom.

I'm glad she has! I've already listened to some of her presentations, and WOW. So much of what she had to say really hit home.

So here's the first video in her new series. If you're like me, I know you're going to love it!

Good luck to all of us who love our comfort food a little too much!




0 Comments on Is it finally time to make peace with your eating? FAT CAT in real life. as of 1/1/1900
Add a Comment
24. Confessions of a fatty.


Read fast, because I have the feeling I’ll be deleting this in a few days. It’s not usually the kind of thing I enjoy talking about in public. But I’m doing it for the same reason I posted about my experience of having horrible acne when I was in high school and college: I actually think I can help people. So here goes:

I have, at various times in my life, been merely overweight, then obese, then heavy, then down to slim and trim, then up a little to what I considered “sturdy,” rather than fat, then down a little, up … a lot of you can relate to the pattern.

And right now, coming off multiple months in a row of writing for sometimes 18 hours a day, not getting as much exercise as I usually love, and powering my books and screenplays with WAY too much sugar, I feel pretty gross. I still love myself and want to be nothing but kind to myself no matter what, but I know my “kindness” of feeding myself a whole bunch of chocolate to keep up my energy and creativity during this time of intense work has actually not been a kindness at all.

Sometimes information comes to you at just the right time. Or maybe it’s always out there, but you’re not ready for it until you are.

A week or so ago, a friend of mine sent me a link to an interview with Dr. Susan Peirce Thompson. She’s both a psychology professor and a formerly obese woman. And I just loved her energy. I loved her sincerity and her passion for teaching what she knows about finally breaking free of food addictions and finding our individual bodies’  own natural weight. It was a theme I explored in my novel FAT CAT, and it’s definitely something that speaks to me personally.

(And by the way, when I was researching and writing FAT CAT, I completely gave up sugar. Weight melted off me. I felt great. My brain was clear, I had incredible energy … and yet here I am again.)

What drew me in was Susan’s own story about appearing to be very accomplished in some respects — highly educated, very successful in her career as a professor — but at the same time feeling like a failure because she was always overweight. How could she be so smart in other areas of her life —  how could she know so much about science and psychology — and yet still look like  … that?

Then one day she was finally ready to turn her years of research and knowledge on herself and figure this out once and for all. And to her utter delight, she discovered it wasn’t an issue of willpower or weakness or laziness, it was actually just a matter of brain chemistry. Some people are more susceptible to certain foods than others are. It’s not a moral issue, it’s just biology. And we can work with biology.

For some of us, sugar is as addictive as cocaine or heroine. If you’ve felt as enslaved by sugar as I have at times, you know it absolutely feels like a drug.

By the end of watching that interview, I knew I wanted to hear more of what Susan could teach. So I actually contacted her to find out when her next course was. Turns out it starts in just a few weeks. PERFECT.

A lot of you have written to me over the years after reading FAT CAT to share with me your own struggles or journeys about food and weight loss. I’ve read them all, I’ve answered them all, because I know what you’re going through and I want to try to help where I can. I’ve passed along resources I relied on in writing the novel, such as websites and books and cookbooks. I hope all of you who have written to me have gotten great value out of that information.

So now I’m passing along Susan’s free video series, too. I’m also including a link to her Susceptibility Quiz, which will evaluate how high or low you are on the scale of being susceptible to certain foods. I’m a 7 out of 10. Just saying.

The first video is out now, and the second and third will be released over the next few days. I’ll add those links then.

Good luck, fellow foodies! Hope this information helps. Pass it along to other foodies if you think they’ll like it, too.

And here’s to freedom. ‘Bout time!


6 Comments on Confessions of a fatty., last added: 9/27/2015
Display Comments Add a Comment
25. स्वच्छ भारत

कार्टून ( मोनिका ग़ुप्ता)

कार्टून ( मोनिका ग़ुप्ता)

स्वच्छ भारत

बनाम गांधी जयंती

पिछ्ले साल यानि सन 2014 में 2 अक्टूबर से स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की गई. आरम्भ में झाडू हाथ मे लेकर फोटो खिचवाने का बहुत क्रेज देखा गया. नेता लोग साफ सुथरी जगह जाकर अभियान का शुभ आरम्भ  करते चाय ठंडा पीकर अपनी बाईट देकर लौट जाते पर इस बात को जब मीडिया मे उछाला गया तो फोटो का काम लगभग बंद हो गया और स्वच्छता भी कही दिखाई नही दी. और देखिए स्वच्छ भारत अभियान में बापू गांधी को ही स्वच्छता का चश्मा लगा दिया…

स्वच्छता तभी आएगी जब आम जन स्वच्छता को लेकर जागरुक होगा. मेरे विचार से हमारे देश वासी जुर्माने से बहुत डरते हैं .. जो गंदगी फैके उस पर जुर्माना कर देना चाहिए पर उससे पहले सडक पर कूडा दान होने चाहिए और जमादार नियमित रुप से घरों में आने चाहिए !!!

: | स्वच्छ भारत अभियान: एक कदम स्वच्छता की ओर

महात्मा गांधी ने अपने आसपास के लोगों को स्वच्छता बनाए रखने संबंधी शिक्षा प्रदान कर राष्ट्र को एक उत्कृष्ट संदेश दिया था। उन्होंने “स्वच्छ भारत” का सपना देखा था जिसके लिए वह चाहते थे कि भारत के सभी नागरिक एक साथ मिलकर देश को स्वच्छ बनाने के लिए कार्य करें। महात्‍मा गांधी के स्‍वच्‍छ भारत के स्‍वप्‍न को पूरा करने के लिए, प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी जी – बाहरी वेबसाइट जो एक नई विंडो में खुलती है ने 2 अक्‍टूबर 2014 को स्वच्छ भारत अभियान – बाहरी वेबसाइट जो एक नई विंडो में खुलती है शुरू किया और इसके सफल कार्यान्वयन हेतु भारत के सभी नागरिकों से इस अभियान से जुड़ने की अपील की।

इस अभियान का उद्देश्य अगले पांच वर्ष में स्वच्छ भारत का लक्ष्य प्राप्त करना है ताकि बापू की 150वीं जयंती को इस लक्ष्य की प्राप्ति के रूप में मनाया जा सके। स्वच्छ भारत अभियान – बाहरी वेबसाइट जो एक नई विंडो में खुलती है, सफाई करने की दिशा में प्रतिवर्ष 100 घंटे के श्रमदान के लिए लोगों को प्रेरित करता है। माननीय प्रधानमंत्री द्वारा मृदला सिन्‍हा, सचिन तेंदुलकर, बाबा रामदेव, शशि थरूर, अनिल अम्‍बानी, कमल हसन, सलमान खान, प्रियंका चोपड़ा और तारक मेहता का उल्‍टा चश्‍मा की टीम जैसी नौ नामचीन हस्तियों को आमंत्रित किया गया कि वह भी स्‍वच्‍छ भारत अभियान में अपना सहयोग प्रदान करें, इसकी तस्‍वीरें सोशल मीडिया पर साझा करें और अन्‍य नौ लोगों को भी अपने साथ जोड़ें, ताकि यह एक श्रृंखला बन जाएं। आम जनता को भी सोशल मीडिया पर हैश टैग #MyCleanIndia लिखकर अपने सहयोग को साझा करने के लिए कहा गया।. india.gov.in

The post स्वच्छ भारत appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment

View Next 25 Posts