What is JacketFlap

  • JacketFlap connects you to the work of more than 200,000 authors, illustrators, publishers and other creators of books for Children and Young Adults. The site is updated daily with information about every book, author, illustrator, and publisher in the children's / young adult book industry. Members include published authors and illustrators, librarians, agents, editors, publicists, booksellers, publishers and fans.
    Join now (it's free).

Sort Blog Posts

Sort Posts by:

  • in
    from   

Suggest a Blog

Enter a Blog's Feed URL below and click Submit:

Most Commented Posts

In the past 7 days

Recent Comments

JacketFlap Sponsors

Spread the word about books.
Put this Widget on your blog!
  • Powered by JacketFlap.com

Are you a book Publisher?
Learn about Widgets now!

Advertise on JacketFlap

MyJacketFlap Blogs

  • Login or Register for free to create your own customized page of blog posts from your favorite blogs. You can also add blogs by clicking the "Add to MyJacketFlap" links next to the blog name in each post.

Blog Posts by Date

Click days in this calendar to see posts by day or month
new posts in all blogs
Viewing: Blog Posts Tagged with: blog, Most Recent at Top [Help]
Results 26 - 50 of 1,540
26. आप का परिवारवाद

ak pariwarwaad by Monica gupta

 

आप का परिवारवाद… AAP भी आ ही गए परिवारवाद के लपेटॆ में अरविंद जी

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि केजरीवाल भी कांग्रेस के नक्शेकदम पर चलकर ‘जय हिंद जीजाजी’ कहने की परंपरा को आगे बढ़ा रहे हैं और कांग्रेस की‘‘जीजा जी’’ परंपरा को आगे ले जा रहे हैं। हालांकि केजरीवाल जी ने इस मुद्दे पर ट्विटर पर सफाई देते हुए कहा, ‘‘वो मेरे चाचा की साली के जीजा की भतीजी के ससुर की भांजी के भतीजे की साली के भाई की बेटी है।’’ उन्होंने कहा कि विपक्ष ये अफवाह फैला रहा है कि स्वाती मेरी बहन जोकि पूरी तरह से बकवास है।

 

Kejriwal on DCW row: Swati Maliwal not even remotely connected to me | The Indian Express

The Aam Aadmi Party on Wednesday refuted charges of nepotism in appointing Swati Maliwal, wife of party leader Naveen Jaihind, as the head of the Delhi Commission for Women (DCW), saying she had a long record of “activism” in different spheres.

Chief Minister Arvind Kejriwal was also quick to deny that Maliwal was related to him.

“Some media houses and opposition leaders alleging that Swati is my cousin. Complete nonsense. She is not even remotely connected,” Kejriwal tweeted.

“Some media houses and opposition leaders alleging that Swati is my cousin. Complete nonsense. She is not even remotely connected,” Kejriwal tweeted.

Some media houses n opp leaders alleging that swati is my cousin. Complete nonsense. She is not even remotely connected(1/2)

— Arvind Kejriwal (@ArvindKejriwal) July 15, 2015

The party said Maliwal has a long record of “activism” in different spheres and the appointment was done on “merit”. Kejriwal on DCW row: Swati Maliwal not even remotely connected to me | The Indian Express

The post आप का परिवारवाद appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
27. One Year Drop

student reading photo

One Year Drop

हमारे एक जानकार मित्र के बेटे ने आईआईटी क्लीयर न कर पाने के कारण आज एलान कर दिया है कि वो एक साल  ड्राप करेगा और कोचिंग ले कर अच्छा नतीजा लाएगा. अभी तक घर मे बहुत तनाव था. दो ग्रुप बन गए थे एक चाहता था कि ड्राप करे और दूसरा बिल्कुल नही चाह्ता था.

पर आज बेटे की इच्छा के आगे अब सब झुक गए हैं और मान गए हैं. अब बस उसे सलाह दी जा रही है कि एक साल बहुत मायने रखता है अब डट कर मेहनत करनी है और बहुत अच्छे कोचिंग मे दाखिला लेना है. इसी बीच मैने भी कुछ छानबीन की और पता लगाया कि ड्राप करने पर भी  अगर गम्भीरता से पढाई की जाए तो आईआईटी में अच्छी रैंक आ सकती है. एक जानकार के बेटॆ ने ड्राप करके पूरे साल कोचिंग ली और वो बहुत अच्छी रैंक से पास हो गया.

अब क्योकि निणर्य ले ही लिया है तो बार बार टोकने का क्या फायदा. अब बस ऐसा करना होगा कि वो बहुत आत्मविश्वास के साथ पढाई करे और अच्छा नतीजा ला कर दिखाए. बार बार यह भी कहने का कोई फायदा नही कि मोबाईल, टीवी सब बंद करके रख दो .. एक साल के लिए सब भूल जाओ.. आज के बच्चे समझदार है एक साक समय की क्या कीमत होती है शायद वो हमसे भी बेहतर समझते हैं …उन्हें बस अपने लक्ष्य पर केंद्रित होने दे.   उन्हें सही या गलता का हम से ज्यादा ज्ञान है.

टेंशन खत्म करने के लिए बच्चे की इच्छा का खुशी खुशी स्वागत करें और उस पर विश्वास बनाए रखें…

The post One Year Drop appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
28. What Makes a Book Worth Reading

Theory of Expanded LoveWhat makes a book worth reading?

A Theory of Expanded Love, for instance.

This coming-of-age novel by Caitlin Hicks plays out in the months between two famous deaths—Pope John XXIII and President Kennedy, in 1963.

I caught up with Caitlin Hicks to discuss issues important to fiction writers.

“What’s your book about, Caitlin? What’s its message?”

“Message?” she says. “No message. It’s a novel.” And a hilarious one, I might add.

And yet I don’t entirely believe her. Her story is definitely about something. I don’t give novels much of my time if they don’t appear to be about something. The story’s 12-year-old protagonist, Annie Shea, is too outspoken for the book not to say something.

Hicks soon confesses that she “had a question to answer with the story,” and so I ask her, “What question?”

“I’m not telling you!” she says. “I’m not telling anyone.”

She’s starting to sound like Annie, smart and sassy and skilled at digging her heels in.

“If you read the book,” says Hicks, “maybe you’ll find the answer.” Or maybe not. “Because it’s not directly answerable in an obvious way,” she says.

“Was your question answered for you?” I ask.

“Yes, but I’m not going to say what it was.”

Every good book has a secret centre

Caitlin Hicks is right to protect the mystery of her question. Readers love books that circle a central question, even if it’s never explained.

The best novels, like A Theory of Expanded Love, possess a secret centre.

I reflect on novels that have bored me—books whose point is quickly obvious. The hero’s trajectory is unambiguous, and so lacks mystery. The reading experience is mediocre, if not downright tedious. Genre fiction can get like that.

Caitlin Hicks 2Perhaps this is why A Theory of Expanded Love is getting such rave reviews, because it is about something that is “not answerable in an obvious way.” Something to do with love. Or the lack of it. That’s my guess.

One of thirteen siblings, Annie Shea had to fight for face-time with her mother. “I had been tracking her around the house so she would notice me,” says Annie. Perhaps there’s not enough love in a large family to go around. Or does love expand infinitely? That’s a theme you can build a novel around.

“Whenever I have a question,” Hicks says, “and I create something from that question, it usually turns out to have some holding power.”

By holding power she means compelling. I know writers who want to take that word out and shoot it. It haunts them and for good reason. Compelling is the Holy Grail for novelists who want to write a book worth reading.

As long as I’m exploring…

“As long as I’m exploring then it’s interesting,” says Hicks. “My curiosity is everywhere in the book.”

Hicks may be touching the heart of the matter: As long as the writer is exploring, the story holds the reader.

Few writers speak of stories having an unspoken theme or core. One believer is Orhan Pamuk (Nobel Prize for Literature, 2006):

“[The reader] cannot help reflecting on the meaning of life as he tries to locate the centre of the novel he is reading. For in seeking this centre, he is seeking the centre of his own life and that of the world.”

I wonder if Hicks is trying probe the centre of her own life in the novel. Is her story fact or fiction?

Memoir vs. novel

Since Hicks and her protagonist were both raised in large Catholic families in Pasadena, California, I have assumed that A Theory of Expanded Love is autobiographical.

“Annie Shea is not me,” Hicks says. “This is not a memoir, it’s a novel. I’m not a redhead. Annie is so much smarter and confident. I may have thought what she thought, but I didn’t question things. I was a well-bred Catholic girl all the way up to graduating from college. I was going to confession every day. I was trying to be holy.”

For Caitlin Hicks, her real-life family wasn’t sufficiently pregnant with story material.

“I couldn’t write a memoir because I felt like I knew everything I wanted to know about my family. But then ‘the question’ came up, and I wondered why that was?”

Out of that curiosity a novel was born.

It’s a novel that explores family life through the antics of a pre-pubescent girl, and it made me laugh out loud. Annie is a girl whose desperation derives not from abuse or neglect but from a powerful urge to know how life works. Especially love.

That’s definitely it. Something about love. Love expanding to nourish every newborn heart. Is that it, Caitlin?

“It’s not really a secret,” Hicks says. “But I’m not going to tell. It’s unmentioned, but through the whole book you get a sense of what that might be.”

Here’s what I think:

Love is infinite, and when you read this novel you feel it shining through the young and rebellious Annie Shea.

Annie’s story is more than well worth reading.

Add a Comment
29. School Visit Wizard is here!

Wizard Banner v3Do you know the #1 way to build an audience of loyal readers AND boost your author income exponentially?

By doing school visits.  

It’s true. School author visits are the single best way to connect with young readers, teachers, librarians and parents…AND they’re a wonderful way to earn additional income.

But I’m always amazed by how few of my colleagues, students and clients are doing school visits. “Who am I to visit schools?” they say, “I only have one book!” Or, “I’m not a best-selling author – why would they care?” Or, “I haven’t even been published yet! How can I do a school visit?” Many experience performance anxiety, or feel that reaching out to schools, getting booked and planning presentations is just too overwhelming.

I felt the same way when I was starting out. I wished that I could have one go-to place where I could learn the ropes, find the tools and resources I needed and have all my questions answered.

That’s why I created School Visit Wizard, the one-stop, comprehensive system to research, cultivate, book and deliver stellar school visits with confidence!

School Visit Wizard is much more than a course. It contains ready-to-use, customizable forms, templates and checklists to save you countless hours and a lot of money. No need to research or create invoices, contracts, flyers, order forms, or anything else — I’ve done it all for you!

The program is broken down into 7 step-by-step modules containing videos, slideshows, documents and customizable forms, encompassing everything you need to know about School Visits, including:

  • How to Research, Cultivate and Book School Visits
  • Whether – and What – to Charge for a Visit
  • Dozens of Suggested Topics for Engaging, Age-Appropriate Presentations
  • Customizable Forms and Checklists, including: Sample Invoice, BookingContract, Presentation Schedule and Details, Backpack Flyer, Book Order Form, Evaluation Form, and more.
  • Common Mistakes and Problems – plus Solutions
  • Managing Book Sales
  • Do’s and Don’ts of School Visits
  • Answers to 60+ FAQ’s About Doing School Visits
  • Insider Tips from Other Authors
  • Virtual School Visits
  • Recommended Resources

PLUS…3 Fabulous Bonuses!

#1Advice from the Experts – Interviews with School Visit Expert Mary Brown and Booking Agent Catherine Balkin, plus tips from fellow authors and educators with school visit experience

#2Presenting Your Work: Developing Presentation Skills, Conquering Stage Fright and Presenting with Confidence

#3All About Teacher’s Guides, with Marcie Colleen

To celebrate the launch of School Visit Wizard, I’m offering it at a special early-bird price of $197 for this week only (next week it goes up to $247.)

So if booking and delivering author visits in schools is on your bucket list for the next school year, click on the link below…

(But don’t wait! Schools book author visits 6 months to a year in advance – so you need to be planning now!)

http://schoolvisitwizard.com

To your success!

0 Comments on School Visit Wizard is here! as of 1/1/1900
Add a Comment
30. New from NSTA for Middle School Teachers: A Guide to Argument-Driven Inquiry in Life Science

ARLINGTON, Va.—July 13, 2015—Teachers who want to bring the benefits of argument-driven inquiry to their middle school life science classes can find the instructional materials they need in Argument-Driven Inquiry in Life Science: Lab Investigations for Grades 6–8. The new NSTA Press book provides 20 field-tested labs to help students learn how to read, write, speak, and use math in the context of science.

41PtPhlnvWL._SX384_BO1,204,203,200_

The labs cover topics in four broad areas of life science: molecules and organisms, ecosystems, biological evolution, and heredity. The investigations are more authentic than traditional lab activities because students both learn important content and participate in scientific practices. Students design their own method, develop models, collect and analyze data, and critique information.

This new book follows the same formula as the high school versions of Argument-Driven Inquiry for chemistry and biology. Each lab includes reproducible student pages, teacher notes, and checkout questions. The labs can be used to introduce a topic or conclude a unit by letting students apply what they’ve learned. Like the previous books in the series, the authors of Argument-Driven Inquiry in Life Science are veteran teachers. They connect investigations to today’s science standards and provide the instructional materials teachers need in a single resource that combines literacy, math, and science.

Browse sample pages of this title for free at the NSTA Science Store website.

For additional information or to purchase Argument-Driven Inquiry in Life Science: Lab Investigations for Grades 6–8, visit the NSTA Science Store. To order by phone, call 800-277-5300 between 9 a.m. and 5 p.m. ET weekdays. The 386-page book is priced at $44.95 and discount-priced for NSTA members at $35.96. (Stock # PB349X3; ISBN # 978-1-938946-24-0)

About NSTA

The Arlington, VA-based National Science Teachers Association is the largest professional organization in the world promoting excellence and innovation in science teaching and learning for all. NSTA’s current membership includes approximately 55,000 science teachers, science supervisors, administrators, scientists, business and industry representatives, and others involved in science education.

NSTA Press produces 25 to 30 new books and e-books each year. Focused on the preK–college market and specifically aimed at teachers of science, NSTA Press titles offer a unique blend of accurate scientific content and sound teaching strategies. Follow NSTA Press on Facebook for the latest information and new book releases.

0 Comments on New from NSTA for Middle School Teachers: A Guide to Argument-Driven Inquiry in Life Science as of 7/13/2015 1:48:00 PM
Add a Comment
31. We Care for you

We Care for you

पहले समय मे घडी किसी के पास नही होती थी पर समय सभी के पास होता था और आज घडी सभी के पास है पर समय ही नही है. अरे भई…. भला ये क्या बात हुई… इसमे इतना सोचने की क्या बात है…. .अब आप समझदार हैं और जानते ही होंगे कि समय परिवर्तन शील है बदलता रहता है. पहले नई नई खोज नही हुई थी.जागरुकता नही थी समझ नही थी कि क्या, कब और कैसे करना है. आज का समय देखो. कैसे हो सकती है किसी के पास फुर्सत. सभी व्यस्त, अति व्यस्त बल्कि ये कहिए कि महा व्यस्त है तो गलत नही होगा. है ना….

मैने तो बहुत लोगो को ये भी कहते सुना है कि भई इतना काम है कि मरने तक ही भी फुर्सत ही नही है और आप बात करते है समय की.ये क्या बात हुई भला.काम के बारे मे तो मैं क्या बात करु. काम या कमाने के चक्कर मे पति महोदय दूसरे शहर मे उनकी श्रीमति जी अन्य शहर मे और बच्चे होस्टल मे.

महीने मे एक या दो बार मिलना हो जाता. बस बहुत है और क्या. भई,आज के समय मे नौकरी मिलनी आसान है क्या. दूसरे लोग गिद्द की तरह नजरे गडाए बैठे रह्ते है कि कब किसकी काट करे और नौकरी हथियाए और मंहगाई जो सिर पर खडी होकर ता ता थैया और ब्रेक डांस कर रही है उससे भी तो दो चार होना है, नजरे मिलानी है या नही.

 

हाँ, तो मै कह रही रही थी कि परिवार, दोस्त, जोश और हमारा स्वास्थ्य अजी इनकी चिंता छोडिए.

चिंता किसलिए करनी है.ये लोग कही भागे थोडे ही ना जा रहे हैं.आखिर ये क्या बात हुई पर नौकरी चली गई तो सब चला जाएगा रुपया पैसा होगा तो ये सभी लोग हमारे साथ होंग़े.क्यो है ना . है ना..

आखिर हम सभी यही तो कर रहे हैं. काम के चक्कर मे इतने उलझ गए हैं कि सुबह काम पर जल्दी निकल जाना देर रात को लौटना.परिवार का ध्यान  देने का तो समय ही नही है. पत्नी की अलग दुनिया है और पति पत्नी दोनो के चक्कर में बच्चों का किसी को ध्यान ही नही. जबकि आमतौर पर सुनने मे तो यही आता है कि यह सब बच्चो के लिए ही तो कर रहे हैं हमने कौन सा साथ लेकर जाना है. पर इस बारे मे बच्चो की या घर वालो की राय लेने की कभी जरुरत नही समझी.

पता नही, पर सच पूछो तो ऐसा महसूस होता है कि ये क्या बात हुई???? .शायद कही ना कही कुछ गलत हो रहा है. सच पूछो तो यकीनन काम से बढ कर है स्वास्थ्य ,परिवार, दोस्त और हमारा जोश.

काम तो एक रबड की गेंद की तरह है जो उछ्ल कर वापिस आ ही जाएगी पर… पर…. पर…. हमारा परिवार, हमारा शरीर, हमारे दोस्त, हमारा जोश उस कांच की गेंद की तरह है कि उछालते समय अगर एक बार हाथ से छूट गई तो बिखर जाएगी और जिसे सम्भालना या जोडना नामुमकिन हो जाएगा.सच मे,अब यही कहना पडेगा कि वाह ये क्या बात हुई !!

कोई शक नही है कि जिंदगी में काम बहुत जरुरी है और इसे दिल लगा कर करना भी बहुत जरुरी है पर जब हम काम करके बाहर निकले तो बस फिर हम हमारा परिवार, हमारा जोश और हमारे दोस्त ही होने चाहिए. आज के समय मे इन सभी को अहमियत देना बहुत ही ज्यादा जरुरी हो चला है.

वो कहते भी है ना उसे कभी नजर अंदाज मत करो जो आपकी बहुत परवाह करते हैं वरना किसी दिन आपको अहसास होगा कि पत्थर जमा करते करते आपने हीरा गवां दिया…. वाह!!! अब तो यही कहना पडेगा कि यह हुई ना बात !!!! और ये क्या खूब बात हुई !!!!!  We Care for you ….

कैसा लगा आपको ये लेख … जरुर बताईएगा !!!

The post We Care for you appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
32. ऐसा प्यार कहां

ऐसा प्यार कहां

 

वाह !!! आज एक महाशय … मेरे हिसाब से महानुभाव बोलना ऊचित रहेगा .. हां, तो आज एक महानुभाव से मिलना हुआ. वो खुदकुशी कर रहे थे. उन्हे और उनके प्यार को देखकर मै उनसे प्रभावित हुए बिना नही रह सकी. अरे!! हैरान होने की जरुरत नही है और ना ही मैने कुछ गलत लिखा है. असल में, उन्हे ब्लड शूगर है और वो बस मीठा और तला चोरी छिपे खाए चले जा रहे है भले ही घर वाले नाराज हो पर खाने से वो अपना प्यार, मोह नही छोड पा रहे है.
वही मेरी प्रिय सहेली मणि के एक मित्र है मुहं पका हुआ है एक छाला महीने से ठीक नही हो रहा पर पान मसाले और गुटखे का प्रेम इतना है कि उसे छोड नही पा रहे.
वही एक अन्य जानकार है दोनो गुर्दे जवाब देने को है पर शराब… अजी, इतना प्यार है उससे कि छूट ही नही रही. जाने अंजाने ये सभी लोग खुदकुशी पर आमादा है.. भले ही घर परिवार वाले नाराज हो लडे मरे या खुद अपने शरीर के साथ कितने भी दुख उठाए पर छोड नही सकते.
देखा है आपने ऐसा प्यार!!! अब प्यार हो तो ऐसा हो वर्ना ना हो !! वैसे आप कही आप भी तो खुदकुशी ….. !!!!

ऐसा प्यार कहां

 

The post ऐसा प्यार कहां appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
33. A Wild Swan…

Eeeep! Copies of SWAN are fluttering out into the world. Mr. Schu made this lovely vine when he got his copy.

 

0 Comments on A Wild Swan… as of 7/12/2015 5:42:00 PM
Add a Comment
34. Mother Love & Laughter

DSCN2870When is it not okay to laugh at old people?

My 101-year-old mother, for instance.

Should I get serious and tell her she’s slipping away? That she only weighs about 80 lbs.

And when would I tell her? On our way to the golf course?

Or after we get there, when she’s filling her face with a Sunriser Special of sausages, eggs, toast, and extra fries? Maybe while she’s laughing at my jokes, I could just slip it in? Or perhaps later at her 5-star retirement villa, while she’s glued to the Golf Channel.

It has only occurred to me after all these years that she has been the source of my sense of humour. I always knew how to make her laugh.

I don’t know when she’ll stop laughing but until then I’m going to guiltlessly poke fun at old people.

Here’s a link to MOTHER LOVE where you’ll find a guiltless Reece’s piece about my mother.

“Mother Love” supports the launch of a great new novel by Caitlin Hicks: The Theory of Expanded Love.

Please note: you are allowed to laugh with impunity at anything you find at the end of these links.

Add a Comment
35. Well, THIS happened…

“…Lord of the Flies meets The Giver…”

HUH! WHUT? No big deal or anything…

As you may recall, I’ve been working on this book for a while now. I didn’t know, as I worked on it, whether it would find a home.  That was a feeling I hadn’t had in a long time– that sense of risk, the fear of wasting time. I wondered if I was nuts.

But I’m OVER THE MOON.  And I was able to head into summer vacation with a huge sense of relief and joy.

(which is probably why I entirely forgot to post about it here)

0 Comments on Well, THIS happened… as of 1/1/1900
Add a Comment
36. Hike Salary of MLA

Hike Salary of MLA

cartoon aap salary by Monica Gupta

 

Hike Salary of MLA

सावधान .. अगर आप भी किसी विधायक के घर जा रहे हैं तो कृपया करके चाय वाय पी कर जाए अन्यथा … !!!! क्योकि  विधायकों का कहना है कि खर्च की तुलना में वेतनमान बेहद कम मिलता है, इसके अलावा महंगाई बहुत ज्यादा है। दिनभर मेल-मुलाकातों के दौरान चाय-पानी पर काफी खर्च आ जाता है। ऐसे में हमें बेहद दिक्कत पेश आती है। हम इमानदारी से काम करने वाले लोग हैं, इसलिए वेतनमान में इजाफा होना चाहिए। सूत्रों का कहना है कि आप सरकार वेतन बढ़ाने की मांग पर कार्रवाई कर सकती है।

‘ ‘ !

नई दिल्लीः घर चलाने के लिए आम आदमी पार्टी (आप) के कई विधायकों ने वेतन बढ़ाए जाने की मांग की है। विधायकों का कहना है कि उनको जो भी वेतनमान मिलता है वह उनके दफ्तर और उससे संबंधित व्यवस्थाओं में ही खर्च हो जाता है, ऐसे में वह अपना घर खर्च कहां से चलाएं। वेतन बढ़ाने के लिए कुछ इसी तरह के तर्क देकर आम आदमी पार्टी के बीस से अधिक विधायकों ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को पत्र लिखे हैं। इन विधायकों का कहना है कि खर्च की तुलना में वेतनमान बेहद कम मिलता है, इसके अलावा महंगाई बहुत ज्यादा है। दिनभर मेल-मुलाकातों के दौरान चाय-पानी पर काफी खर्च आ जाता है। ऐसे में हमें बेहद दिक्कत पेश आती है। हम इमानदारी से काम करने वाले लोग हैं, इसलिए वेतनमान में इजाफा होना चाहिए। सूत्रों का कहना है कि आप सरकार वेतन बढ़ाने की मांग पर कार्रवाई कर सकती है See more…

 

AAP MLAs demand a hike in their salaries from Arvind Kejriwal | Latest News & Updates at Daily News & Analysis

A delegation of 20 Aam Aadmi Party legislators on Friday met Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal demanding a hike in their salaries. Taking a clue from Parliamentarians in Lok Sabha and Rajya Sabha seeking 100 percent hike in their salaries, the AAP MLAs also decided to approach both Delhi CM and his deputy Manish Sisodia for a similar raise.

While speaking to dna AAP MLA Nitn Tyagi said that a team of 20 legislators had approached the CM, all the legislators unanimously agree that salaries must be raised.

“We get 53,500 in hand and it might sound a lot but we are not able to save a penny for ourselves. In fact I personally have on many occasions used money from my personal savings to work for the people of my constituency,” Tyagi said.

He added that not only him but other MLAs as well end up paying for the office, salaries of helpers, stationeries and so on, and that most of the previously lawmakers would also own business so had not much to rely on government salary.

“This is not the case with us. In a day, dozens of people from my constituency come to meet me with their problems. The people have to be served water, tea or snacks. This is basic courtesy but given the current salary even being courteous is turning out to be expensive for us.” dnaindia.com

तो इसमे गलत ही क्या है अभी नही कर सकते इतना खर्चा इसलिए तो अपने घर के बाहर बोर्ड लगा दिया है  jee …

The post Hike Salary of MLA appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
37. Indian House wife

Indian House wife

मेरी एक सहेली हाऊस वाईफ है. आज सुबह उसके घर गई तो बच्चों के शोर से घर गूंज रहा था. बोली आज और कल ओवर टाईम करना है ?? मैने पूछा अरे !! कैसे कही ज्वाईन किया क्या तो हंस कर बोली नही री … आज इनकी और बच्चों की छुट्टी है ये सब मस्त है पूरा दिन धमा चौकडी मचाने वाले हैं जबकि उसका आज पूरा दिन रसोई मे बीतेने वाला है … बारी बारी करके सो कर उठेंगें …अलग अलग नाश्ते की फरमाईश होगी फिर बाजार भी शापिंग पर ले जाना होगा फिर बच्चों के दोस्त भी आएगें और इनके भी दो चार दोस्त तो आ ही जाएगें

मौसम अच्छा है तो पकौडे शकौडे … फिर … मैने कहा … बस बस बस … ओह मैं तो सुनते सुनते ही थक गई इसे तो सारा दिन काम करना है पर वो बोली हां पर खुशी खुशी. एक दो दिन ही हो मिलते हैं बच्चों को मस्ती करने के नही तो सुबह से शाम तक स्कूल पढाई, टयूशन …ना आराम न नींद … !! मैने मुस्कुरा दी.. वाकई छ्ट्टी के दिन तो गृहणी की भूमिका डबल ट्रिपल ही होती है और  ये बात तो एक मां ही सोच सकती है …

मैं अक्सर फेसबुक य अन्य सोश्ल नेट वर्क साईट पर देखती हूं बहुत लोग हैप्पी संडे करके अपना स्टेटस डालते हैं अगर एक हाऊस वाईफ डाले तो … :) 

खैर !! जरुरी ये बात है हर काम खुशी खुशी किया जाए …कई महिलाए “रुस” जाती है मेरा मतलब मोदी जी की यात्रा वाला रुस नही बल्कि नाराज हो जाती है. इतना काम देख कर मुहं बना लेती है अरे भई   छुटी है  आप भी खुश रहो  इसलिए खूब खाओ और खिलाओ …. !!!!

Indian House wife

The post Indian House wife appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
38. Quotes on Two Mice

My new picture book Two Mice is coming out in September. It is already making quite an impression among the international intelligentsia.

Here are some early comments, and I’ll keep updating as more will come by:

TWO MICE are better than one.“—Walter E. Disney

Sergio Ruzzier’s TWO MICE is mousetastic.” —Beatrix Potter

I just ♥ how in TWO MICE Mr. Ruzzier lets the pictures tell the story.” —Randolph Caldecott

TWO MICE is, like, wow. Just… wow.” —J.M. Barrie

No man remains quite what he was when he reads TWO MICE.“ —Thomas Mann

Within the covers of TWO MICE are the answers for all the problems men face.” ―Ronald Reagan

1, 2, 3, 3, 2, 1… That’s insane! TWO MICE is blowing my mind!“ Leonardo Fibonacci

“There was a good book called Two Mice,
That offered this piece of advice:
When leaping o’er cracks
You should never be lax— 
Lest you wind up with less than two mice.” Edward Lear

 

0 Comments on Quotes on Two Mice as of 1/1/1900
Add a Comment
39. कैसे कैसे अविभावक

कैसे कैसे अविभावक

आज दोपहर कुछ बच्चे स्कूल से वापिस आ रहे थे. मौसम खराब था. रेड लाईट होने पर कुछ वाहन रुके. मेरे साथ एक स्कूटी भी रुकी जिसे शायद एक मम्मी चला रही थी और बच्चा पीछे बैठा था. फ्रूटी पीते पीते वो बता रहा था कि आज क्लास मे बहुत नकल चली . मम्मी ने पूछा तूने तो की नही होगी एक ही सत्यवादी हरिशचंद्र पैदा हुआ है हमारे खानदान मे.

बच्चे का क्या जवाब था ये तो पता नही क्योकि हरी लाईट हो गई थी पर चंद मिनट की यह बात बहुत कुछ सोचने पर मजबूर कर गई. मम्मी को बजाय कटाक्ष के उसकी प्रशंसा करनी चाहिए थी ताकि उसका मनोबल और मजबूत होता पर अफसोस जब पेरेंटस ही ऐसी बाते बोलेगें तो …. ????

इसी बात को अगर दूसरे  तरीके से कहा जाता तो अलग ही असर होता … आज जिस तरह से हमारी शिक्षा का स्तर गिरता जा रहा है ये बात  पेरेंटस को बहुत सोचने की है ….

The post कैसे कैसे अविभावक appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
40. How Far in Advance Do Schools Book Author Visits?

Authors interested in doing school visits often wonder when the should contact schools to cultivate bookings. The answer is: as far in advance as possible.

Many – if not most – schools plan their budgets and schedules anywhere from six months to a year ahead. So if you’re interested in getting booked in the 2015-2016 calendar year, the time to begin cultivating those bookings is NOW.

Here in the western hemisphere, summer is halfway over (sorry!) and teachers and administrators will be heading back to their offices shortly to begin gearing up for the new school year. This is the moment to begin getting your ducks in a row! Make lists of schools to reach out to, prepare your author visit packet and plan the presentations you will offer.

With time on your side, you can be connecting with your audience and supplementing your author income this very next school year!

Want more information on doing school visits?

Click here to receive my FREE 3-PART VIDEO TRAINING SERIES on school author visits.

(Act fast… the videos expire on July 14th!)

0 Comments on How Far in Advance Do Schools Book Author Visits? as of 1/1/1900
Add a Comment
41. Green Valentine Launch!

9781760110277

 

BOOK LAUNCH!

6 August, 6pm.

Readings Bookshop, 309 Lygon Street, Carlton, Victoria, Australia 3053

Buy the book! Get it signed!

I’ll give you a free herb or veggie seedling!

No RSVP necessary, but you can on fbook if you really want to.

Official publication page.

Preorder now!

RESISTANCE IS FERTILE

0 Comments on Green Valentine Launch! as of 1/1/1900
Add a Comment
42. Free Video Training Series on School Visits

Group of Elementary Pupils In ClassroomFor those of you who write children’s books and are interested in school visits, here’s some great news!

I ran a survey several months ago asking you to tell me your biggest question (or fear) about school visits. So many of you responded and shared your concerns and questions, that I’ve decided to provide a FREE Video Training Series that will answer your most burning questions.

The topics will be:

VIDEO #1: 10 Tips for a Successful School Visit (these ten tips will provide you with a solid foundation for doing school visits)

VIDEO #2: Things That Can (and Do) Go Wrong – and How to Deal With Them (we’re always afraid of the unknown, with this video I’m looking to make you more prepared!)

VIDEO #3: Answers to Your Top 10 Most Frequently Asked Questions (certain questions came up in your submissions again and again – I will answer these critical questions in order to make you feel more confident going into the classroom.)

Click here to sign up for the free training…. but do it quickly. The videos expire on July 14th! Once you sign up, you will soon receive an email giving you access to the first video!

0 Comments on Free Video Training Series on School Visits as of 1/1/1900
Add a Comment
43. Increase vs decrease

  graph photo

Increase vs decrease

जनसंख्या लगातार बढ रही है. महंगाई का तो कोई हिसाब ही नही बेरोजगारी ,भ्रष्टाचार,प्रदूषण, पेट्रोल, राशन आदि की तो बात ही मत करो . हाल बेहाल है. क्या इनसे कभी छुटकारा मिलेगा.  क्या हमारे सामने कभी कमी भी आएगी या कमी का नाम भी इतिहास हो जाएगा    क्या इनसे कभी छुटकारा मिलेगा…..

अगर आप ऐसा ही कुछ सोच रहे हैं तो परेशान होने की कोई जरुरत नही है क्योकि आज के समय मे बहुत सी चीजो मे कमी या गिरावट आई है और तो और कुछ चीजे तो इतनी सस्ती हो गई है कि उनका कोई मोल ही नही रहा और आप हैं कि राग अलापे जा रहे हैं.

 

 

सुनिए हमारी जान(जिंदगी) सस्ती हो गई है इसकी कोई कीमत नही रही.

जीवन के मूल्य गिर गए है.

आँखो का पानी खत्म होता जा रहा है.

विश्वास की नीव कमजोर हो गई है.

सहनशक्ति कम हो गई है.

जंगल खत्म हो गए हैं हरियाली मे भारी कमी आई है.पक्षियो की चहचाहट कम हो गई है.

चीनी मे मिठास कम हो गई है.

बिजली की सप्लाई कम हो गई है.

स्कूलो मे टीचर और अस्पतालो मे डाक्टरो की कमी हो गई है.

खाने मे पोषक तत्वो की कमी हो गई है.

लडकियो मे खून की कमी हो गई है.जागरुकता, इज्जत, आदर मान ना के बराबर रह गए है और भी बहुत उदाहरण है इसलिए यह मत कहिए कि आज के समय मे कमी की कमी हो गई …..

 

कैसा लगा आपको ये Increase vs decrease लेख जरुर बताईगा :)  )

The post Increase vs decrease appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
44. Digital India Weak

Digital India Weak /week ???

Digital India  week by  monica gupta   Digital India Weak / week ??               बेशक देशवासी Digital India week  को लेकर बेहद उत्साहित हैं सब कुछ नेट से जुड जाएगा और आराम ही आराम होगा … पर मूल भूत समस्या का क्या करें समस्या है नेट का न चलना या नेट का बेहद धीरे चलना !!!  तभी तो आज  Digital India week ???मनाए  या Digital India Weak !!!

 

PHOTOS: Digital India Week: PM Narendra Modis 15 point dream | The Indian Express

“I dream of a digital India where 1.2 billion connected Indians drive innovation.” (Express photo by Anil Sharma)

“I dream of a digital India where knowledge is strength and empowers people.” (Express photo by Anil Sharma)

“I dream of digital India where quality healthcare reaches right upto the remotest areas through e-health care.” (Express photo by Anil Sharma)

“I dream of digital India where cyber security becomes an integral part of national security.”

“I dream of digital India where there is mobile and e-banking for financial inclusion.”

“I dream of digital India where e-commerce drives entrepreneurship.”

“I dream of digital India where the world looks to India for the next big idea.”

“I dream of digital India where netizens are empowered citizens.” See more…

‘M-Governance (Mobile, Not Modi),’ Quips PM at Digital India Push: 10 Facts

Prime Minister Narendra Modi launching the Digital India Week. See more…

The post Digital India Weak appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
45. पोस्ट अच्छी बुरी

 

पोस्ट अच्छी बुरी

 

कल  फेसबुक पर एक पोस्ट देखी.  फोटो में आटो वाला अपने वाहन मे विकलांगों को फ्री सर्विस देता है उन्होने अपने ओटो मे यही बात बडा करके लिखवाई हुई थी. उस पोस्ट पर लिखा था बताओ कितने लाईक मिलेंगें और उस पर मुश्किल से 10 -12 लाईक थे.

बात लाईक करने या न करने की नही है क्योकि यकीनन पढते तो सभी है बस अच्छाई को पसंद करने के लिए बस क्लिक नही कर पाते. पर मुझे यकीन है कि ऐसे लोग दिल ही दिल मे प्रशंसा भी करते होंगें.

दो दिन पहले एक अन्य तस्वीर भी देखने को मिली. आठ दस साल की लडकी की तस्वीर थी और उसमे लिखा था कि ” मेरे पापा ने कहा है कि अगर इस फोटो को एक हजार लाईक मिले तो वो सिग्रेट पीना छोड देंगें. मुझे अच्छा लगा कि लगभग 900 से ज्यादा लाईक हो चुके थे. मैने भी तुरंत लाईक कर दिया. हालाकि उसके बाद मुझे वह फोटो न्यूज फीड मे नही दिखी. पता नही लोगो ने उसे लाईक किया या  नही  वैसे आप चाहे कुछ भी कहें पर कई पोस्ट वाकई में अच्छी होती है.

एक पोस्ट तो पढ कर मजा ही आ गया . उसमे लिखा था कि मैने अभी भगवान की फोटो शेयर की है. इंतजार कर रहा हूं कि शुभ समाचार क्या मिलेगा… क्योकि उस पोस्ट पर लिखा था कि जल्दी से शेयर करो और शुभ समाचार पाओ…

बहुत समय पहले इसी प्रकार के पोस्टकार्ड आया करते थे तब समझ नही आता था कि इसे फेंक दे , फाड दें या जवाबी 50 पत्र लिख कर डाल दे…

खैर पोस्ट हर तरह की है अच्छी बुरी … हमारी ऊपर है कि हम उसे देख कर अनदेखा कर देतें हैं या लाईक करके अपनी सहमति जताते हैं.

The post पोस्ट अच्छी बुरी appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
46. How (un)Smart Should a Writer Be?

How unSmart 3If you’ve been reading my deep travel tales, you’ll know how un-smart I am.

Count the times I’ve been run down on the road less traveled!

I was barely home from my travels in Africa and Asia when the gods pulled a U-turn and made roadkill of me yet again.

I was filming in the Canadian Rockies

I was shooting a film on the geomorphology of the high country. Think erosion. Even solid granite breaks up over time and washes to the sea. Everything disintegrates, including the human psyche.

Especially mine.

After an exhausting day filming on scree slopes above a chain of turquoise lakes and then debriefing the tapes over dinner with the sound tech we drove to Lake Louise to be closer to our next location. It was midnight by the time we found a tent site on the perimeter of a campground.

We pitched our tent and fell asleep.

I woke at dawn with rain drubbing softly on the sagging canvas.

I heard something else.

FuzzyWuzzyI crawled half out to peer around the tent—

Grizzly! Not six feet away from me.

Front paws on the picnic table, she sniffed our cooler, our food supply. Last night we had unloaded the jeep and then hastily secured one end of our pup tent to the table before passing out.

I’m sorry! I told you, I’m not that smart!

The bear took a second to fix me in the cross-hairs of her cold gaze.

I nudged Ken and whispered, “Grizzly.” He wanted to see. I shook my head furiously. He stuck his head out, withdrew, looked at me: “Three cubs.”

Worst case scenario. Now what?

Now what?

The tent collapsed.

The weight of the cooler and everything spilling out—bacon and steaks and yogurt, and bread, coffee, apples, raisins, nuts and milk and a week’s supply of Snickers Bars—it flattened the tent with us beneath it.

Four bears were sitting on us, eating. And not quietly, I might add.

While we lay still as death.

I thought of Fred.

Fred and I had played hockey at university. He was 6-3 and damned good-looking before he met the grizzly who left him minus one hip, a broken back, no scalp, half a face, and a chewed elbow, and those were just the physical injuries.

I was eroding inside, already.

I’d been here before, my life stopped dead in its tracks. (The cheetah comes to mind, remember?) My granite sense of self becoming “Fred,” I couldn’t muster the necessary thoughts to convince myself that life had meaning.

There was nothing left to obscure the fact that life has no meaning.

There was nothing left.

Hold that thought.

If you’ve read Story Structure Expedition, you’re familiar with how I recruited authors more eloquent than myself to do the heavy explaining through moments like this. Well, here we go again:

John Gray (The Silence of Animals), he sounds like he’s been under a grizzly’s picnic tablecloth:

“Accepting that the world is without meaning, we are liberated from confinement in the meaning we have made. Knowing there is nothing of substance in our world may seem to rob that world of value. But this nothingness may be our most precious possession, since it opens to us the inexhaustible world that exists beyond ourselves.”

That’s it! What every crisis has taught me.

If Mr. Gray moves over we can squeeze physicist, Alan Lightman, into this dilemma:

In our constant search for meaning in this baffling and temporary existence, trapped as we are within our three pounds of neurons, it is sometimes hard to tell what is real. We often invent what isn’t there. Or ignore what is. We try to impose order, both in our minds and in our conceptions of external reality. We try to connect. We try to find truth. We dream and we hope. Underneath all of these strivings, we are haunted by the suspicion that what we see and understand of the world is only a tiny piece of the whole.”

Lightman is describing the fictional protagonist waking up in the Act II Crisis.

At the heart of the story, heroes see the world as it really is.

Un-smart like me

I’m not saying I’m a hero, but I certainly have been serially un-smart. My talent for not being too smart for my own good has earned me the moral authority to enter the Act III of my life.

And now, writing from the perspective of the final act, I want to share with you some of my discoveries (however arguable they might be):

  1. The meaning of a human life is to realize—by whatever means possible—that nothingness is our most precious possession 
  2. The best fictional protagonists do just that
  3. Which aids and abets our own struggle to see the world as it really is
  4. And that’s why we read fiction
  5. And perhaps why we write it.

CUT BACK TO ACTION:

Behind the falling rain, low voices. The canvas was suddenly snapped back to reveal a uniformed park official standing over me with a rifle. He shook his head in dismay, or disdain.

I know, I’m an idiot, I’m sorry.

Mama lay in a heap, tranquilized, while her three cubs found refuge up a tree. Campers, soggy in the early morning rain, watched in disbelief.

I know, I know,  I’m sorry! It’ll happen again, I assure you.

Because:

Good writers—like good protagonists—are never too smart for their own good.

[POST SCRIPT: All this “meaning” business notwithstanding, I didn’t sleep well in a tent for a few years after that.]

Add a Comment
47. illustrated rants from the Kingdom of Stupid

Lately, many of my pictures are kind of illustrated rants, which don’t feel appropriate for this blog full of children’s illustrations and stories. So…ahem…welcome to my other place, where I can rant freely, offensively and obnoxiously about some of the glaringly obvious ridiculousnesses (a new word) in this brave new world. To visit, just click on the pretty queen…

header


Filed under: pigeons, poetry

0 Comments on illustrated rants from the Kingdom of Stupid as of 7/5/2015 10:10:00 PM
Add a Comment
48. Take Care

Take Care

Pic by Monica Gupta

अभी कुछ देर पहले मणि मेरे घर खीर ले कर आई … अरे वाह खीर !!!! किस खुशी में … वो बोली कि जब पिछ्ले दिनों वो छुट्टियों में बाहर चले गए थे तो पौधे सूख गए थे. एक को तो बचा नही पाई थी पर एक पौधे को उसने बचा लिया. उसकी खूब देखभाल की सुबह दोपहर शाम पानी दिया और आज सुबह उसमे फूल खिला है. उसी खुशी में खीर … मैने उसकी आखों मे झिलमिलाती खुशी देखी.

सच, हम अक्सर पौधो के मामले मे सुस्त हो जाते हैं अगर उन्हे लगाया है तो पानी देना तपती गर्मी से बचाना भी हमारा ही फर्ज है. घर की सुंदरता बढाने के साथ साथ वो हमारे अच्छे दोस्त भी है. अगर आप भी बचा सकते हैं तो किसी को मुरझाने से बचा लिजिए… Take Care of plants …

पर्यावरण को सुरक्षित रखने के बहुत लोग अपने अपने तरीके से संदेश देते हैं … कोई टीवी पर, कोई नाटिका के माध्यम से तो कोई गीत गाकर तो कोई समाचार पत्र मे माध्यम से जनता को प्रेरित करते हैं …

दैनिक भास्कर ने भी एक अभियान छेडा

बरसात के इस मौसम में अपने नाम का पौधा लगाएं।

औषधीय पौधा लगाएंगे तो और भी उत्तम होगा।

एक पौधा हमारे लिए माध्यम बनेगा, अपने बचपन को फिर से जीने का।

मा नसून ने दस्तक दे दी है। फिलहाल इसने तेजी नहीं पकड़ी है। मगर पूरी उम्मीद है कि कुछ देर से ही सही, घटाएं जमकर बरसेंगी।

हर वर्ष की तरह, इस बार भी दैनिक भास्कर समूह अपने करोड़ों पाठक परिवारों के साथ मिलकर आज से पौधरोपण अभियान की शुरुआत कर रहा है। यही तो सही समय है, जब हमारे द्वारा लगाए गए पौधे धरती की गोद में आसानी से पल-बढ़ सकते हैं।

आइए, आज हम एक नई परंपरा की शुरुआत भी करते हैं। बरसात के इस मौसम में हम अपने नाम का एक पौधा लगाते हैं। और फिर उसकी देखभाल उतने ही प्यार से करें, जैसी हमारे बड़े हमारी करते थे। यकीन मानिए, जब हम रोज सुबह अपने नाम के इस पौधे को देखेंगे तो हमारे चेहरे पर कुछ वैसी ही मासूम मुस्कुराहट होगी, जैसी बचपन में हुआ करती थी। वह पौधा हमारे लिए माध्यम बनेगा, अपने बचपन को फिर से जीने का।

ऐसा हम अपने परिवार के सभी सदस्यों के लिए करें। परिवार का प्रत्येक सदस्य अपने नाम का एक पौधा लगाए। यदि भास्कर के करोड़ों पाठक अपने नाम का एक पौधा लगाएं और उसकी देखभाल करें, तो हम पर्यावरण को हराभरा करेंगे ही, आने वाली पीढ़ियों को अपने नाम की अनमोल विरासत भी देंगे।

 

 www.bhaskar.com

Via bhaskar.com

Take Care

The post Take Care appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
49. सादर चरण स्पर्श

 

 

bow his head photo

सादर चरण स्पर्श

आज घर पर एक मित्र आए . उनके छोटे  से बच्चे ने बहुत शालीनता से झुक कर पैर छुए. सच जानिए बहुत अच्छा लगा. बच्चों में इस तरह के संस्कार जरुर देने चाहिए. पुराने ऐतिहासिक धारावाहिकों में भी अक्सर  ये देखने को मिल जाता है. कुछ लोग पाव छूने पर आशीर्वाद देते हैं और पीठ थपथपाते हैं तो कुछ रोक लेते हैं कि अरे नही नही … हम इतने बडे अभी नही हुए हैं.. वैसे मेरी एक जानकार थी वो पैर छूने पर बस मुहं से ही बोलती थी खुश रहो पर सिर पर हाथ नही रखती थी … बाद मे महसूस किया कि वो कभी भी किसी को सिर पर हाथ रख कर आशीर्वाद नही देती थी पर दूर से ही खुश रहो बोल देती थी. वैसे पहले समय की अगर बात करें तो कई लोग जब अपने से बडे को पत्र लिखते थे तो वो शुरुआत ही सादर चरण स्पर्श से करते थे.
हिंदू परंपराओं में से एक परंपरा है सभी उम्र में बड़े लोगों के पैर छुए जाते हैं। इसे बड़े लोगों का सम्मान करना समझा जाता है. उम्र में बड़े लोगों के पैर छूने की परंपरा काफी प्राचीन काल से ही चली आ रही है। इससे आदर-सम्मान और प्रेम के भाव उत्पन्न होते हैं। साथ ही रिश्तों में प्रेम और विश्वास भी बढ़ता है। पैर छूने के पीछे धार्मिक और वैज्ञानिक कारण दोनों ही मौजूद हैं।
जब भी कोई आपके पैर छुए तो सामान्यत: आशीर्वाद और शुभकामनाएं तो देना ही चाहिए, साथ भगवान का नाम भी लेना चाहिए। जब भी कोई आपके पैर छूता है तो इससे आपको दोष भी लगता है। इस दोष से मुक्ति के लिए भगवान
का नाम लेना चाहिए। भगवान का नाम लेने से पैर छूने वाले व्यक्ति को भी सकारात्मक परिणाम प्राप्त होते हैं और आपके पुण्यों में बढ़ोतरी होती है।
आशीर्वाद देने से पैर छूने वाले व्यक्ति की समस्याएं समाप्त होती है, उम्र भी बढ़ती है।
किसी बड़े के पैर क्यों छुना चाहिए:-
पैर छुना या प्रणाम करना, केवल एक परंपरा या बंधन नहीं है। यह एक विज्ञान है
जो हमारे शारीरिक, मानसिक और वैचारिक विकास से जुड़ा है। पैर छूने से केवल बड़ों का आशीर्वाद ही नहीं मिलता बल्कि अनजाने ही कई बातें हमार अंदर उतर जाती है।

पैर छूने का सबसे बड़ा फायदा शारीरिक कसरत होती है, तीन तरह
से पैर छुए जाते हैं। पहले झुककर पैर छूना, दूसरा घुटने के बल बैठकर तथा तीसरा साष्टांग प्रणाम। झुककर पैर छूने से
कमर और रीढ़ की हड्डी को आराम मिलता है। दूसरी विधि में हमारे सारे जोड़ों को मोड़ा जाता है, जिससे उनमें होने वाले
स्ट्रेस से राहत मिलती है, तीसरी विधि में सारे जोड़ थोड़ी देर के लिए तन जाते हैं, इससे भी स्ट्रेस दूर होता है। इसके
अलावा झुकने से सिर में रक्त प्रवाह बढ़ता है, जो स्वास्थ्य और आंखों के लिए लाभप्रद होता है। प्रणाम करने का तीसरा सबसे बड़ा फायदा यह है कि इससे हमारा अहंकार कम होता है। किसी के पैर छूना यानी उसके
प्रति समर्पण भाव जगाना, जब मन में समर्पण का भाव आता है तो अहंकार स्वत: ही खत्म
होता है।

 

 

Rajasthan Patrika:secret of feet touching sanskar

जयपुर चरण स्पर्श व चरण वंदना को भारतीय संस्कृति में सभ्यता और सदाचार का प्रतीक माना जाता है। आत्मसमर्पण का यह भाव व्यक्ति आस्था और श्रद्धा से प्रकट करता है। यदि वैज्ञानिक दृष्टिकोण से देखा जाए तो चरण स्पर्श की यह क्रिया व्यक्ति को शारीरिक और मानसिक रूप से पुष्ट करती है। यही कारण है कि गुरुओं, (अपने से वरिष्ठ) ब्राह्मणों और संत पुरुषों के अंगूठे की पूजन परिपाटी प्राचीनकाल से चली आ रही है। इसी परंपरा का अनुसरण करते हुए परवर्ती मंदिर मार्गी जैन धर्मावलंबियों में मूर्ति पूजा का यह विधान दक्षिण पैर के अंगूठे की पूजा से आरंभ करते हैं और वहां से चंदन लगाते हुए देव प्रतिमा के मस्तक तक पहुंचते हैं।पुराण और चरण वंदनापुराण कथाओं में गुरुजन और ब्राह्मणों की चरण रज की महिमा में कहा गया है -यत्फलं कपिलादाने, कीर्तिक्यां ज्येष्ठ पुष्करे।तत्फलं पाण्डवश्रेष्ठ विप्राणां (वराणां) पाद सेंचने।यानी जो फल कपिला नामक गाय के दान से प्राप्त होता है और जो कार्तिक व ज्येष्ठ मासों में पुष्कर स्नान, दान, पुण्य आदि से मिलता है वह पुण्य फल ब्राह्मण (वर) के पाद प्रक्षालन एवं चरण वंदन से प्राप्त होता है। हिंदू संस्कारों में विवाह के समय कन्या के माता-पिता द्वारा इसी भाव से वर का पाद प्रक्षालन किया जाता है। क्या कहता है विज्ञानकुछ विद्वानों की ऐसी मान्यता है कि शरीर में स्थित प्राण वायु के पांच स्थानों में से पैर का अंगूठा भी एक स्थान है। जैसे- तत्र प्राणो नासाग्रहन्नाभिपादांगुष्ठवृति 1- नासिका का अग्रभाग 2- हृदय प्रदेश 3- नाभि स्थान 4- पांव और 5- पांव के अंगूठे में प्राण वायु रहती है।चिकित्सा विज्ञान भी मानता है कि पांव के अंगूठे में कक ग्रंथि की जड़ें होती हैं, जिन पर दबाव या चोट से इंसान का जीवन खतरे में पड़ सकता है।मनुष्य के पांव के अंगूठे में विद्युत संप्रेक्षणीय शक्ति होती है। यही कारण है कि वृद्धजनों के चरण स्पर्श करने से जो आशीर्वाद मिलता है, उससे अविद्या रूपी अंधकार नष्ट होता है और व्यक्ति उन्नति करता है।पढ़ना न भूलेंः- धर्म, ज्योतिष और अध्यात्म की अनमोल बातें – यहां रखा है परशुराम का फरसा, लोहार ने काटा तो हो गई मौत!

यही कारण है कि गुरुओं, (अपने से वरिष्ठ) ब्राह्मणों और संत पुरुषों के अंगूठे की पूजन परिपाटी प्राचीनकाल से चली आ रही है।

इसी परंपरा का अनुसरण करते हुए परवर्ती मंदिर मार्गी जैन धर्मावलंबियों में मूर्ति पूजा का यह विधान दक्षिण पैर के अंगूठे की पूजा से आरंभ करते हैं और वहां से चंदन लगाते हुए देव प्रतिमा के मस्तक तक पहुंचते हैं। rajasthanpatrika.patrika.com

कुछ भी कहिए पर चापलूसी से दूर होकर चरण स्पर्श आदर के साथ किया जाए तो सुखकर होता है …

 

The post सादर चरण स्पर्श appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
50. मैं खिलाडी

मैं खिलाडी

             क्या परिचय दिया आपने अपने बारे मे ? क्या? आप खिलाडी हैं. ओह अच्छा अच्छा … कौन सा खेल खेलते हैं आप… अरे आप तो मेरी बात सुनकर हंसने लगे … बताईए न कौन सा खेल खेलते हैं आप ?? जी क्या कहां ???

आप राजनीति के मैदान के खिलाडी हैं. जनता को कितना भड्काना है आरक्षण का मुद्दा कितना,कब, कहाँ, कैसे उठाना है. कहाँ बसो, ट्रेनो को आग लगानी है. इसके खिलाडी तो नही है   आप ? ओह अच्छा अच्छा इसके साथ साथ   मैच फिक्सिंग के मैदान के खिलाडी हैं कि कब कहाँ कितना और किसको देना लेना है. किसको स्टिंग आपरेशन मे फसंवाना है या किसे बाहर निकालना है. इसके भी परफेक्ट खिलाडी हैं और इसी के साथ साथ  आप यकीनन देश की भोली भाली जनता को विदेश भेजने के नाम पर लाखो रुपये गटकने वाले खिलाडी  भी होग़ें. है ना. जोकि लालच दिखा कर धोखे से रुपए ऐंठ कर फरार हो जाते हैं.क्यो जनाब!!! कितने रुपये गटके आपने? कुछ बताईए ना …

असल में, हमारे देश मे खिलाडियो की कमी नही है यहाँ किस्म किस्म के खिलाडी है… वैसे आप खिलाडी तो नही होंगें .. क्या कहां … आप खिलाडी हैं … कौन से खेल के … :)

The post मैं खिलाडी appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment

View Next 25 Posts