What is JacketFlap

  • JacketFlap connects you to the work of more than 200,000 authors, illustrators, publishers and other creators of books for Children and Young Adults. The site is updated daily with information about every book, author, illustrator, and publisher in the children's / young adult book industry. Members include published authors and illustrators, librarians, agents, editors, publicists, booksellers, publishers and fans.
    Join now (it's free).

Sort Blog Posts

Sort Posts by:

  • in
    from   

Suggest a Blog

Enter a Blog's Feed URL below and click Submit:

Most Commented Posts

In the past 7 days

Recent Posts

(from all 1553 Blogs)

Recent Comments

JacketFlap Sponsors

Spread the word about books.
Put this Widget on your blog!
  • Powered by JacketFlap.com

Are you a book Publisher?
Learn about Widgets now!

Advertise on JacketFlap

MyJacketFlap Blogs

  • Login or Register for free to create your own customized page of blog posts from your favorite blogs. You can also add blogs by clicking the "Add to MyJacketFlap" links next to the blog name in each post.

Blog Posts by Date

Click days in this calendar to see posts by day or month
<<August 2015>>
SuMoTuWeThFrSa
      01
02030405060708
09101112131415
16171819202122
23242526272829
3031     
new posts in all blogs
Viewing: Blog Posts from All 1553 Blogs, Most Recent at Top [Help]
Results 1 - 25 of 2,000
1. Emotional Wounds Thesaurus Entry: Infertility

When you’re writing a character, it’s important to know why she is the way she is. Knowing her backstory is important to achieving this end, and one of the most impactful pieces of a character’s backstory is her emotional wound. This negative experience from the past is so intense that a character will go to great lengths to avoid experiencing that kind of pain and negative emotion again. As a result, certain behaviors, beliefs, and character traits will emerge.

Characters, like real people, are unique, and will respond to wounding events differently. The vast array of possible emotional wounds combined with each character’s personality gives you many options in terms of how your character will turn out. With the right amount of exploration, you should be able to come up with a character whose past appropriately affects her present, resulting in a realistic character that will ring true with readers. Understanding what wounds a protagonist bears will also help you plot out her arc, creating a compelling journey of change that will satisfy readers.

NOTE: We realize that sometimes a wound we profile may have personal meaning, stirring up the past for some of our readers. It is not our intent to create emotional turmoil. Please know that we research each wounding topic carefully to treat it with the utmost respect. 

2213694217_d8a36b3f11_o

Courtesy: Daniel Lobo @ CC

Definition: Being unable to bear children, either with or without medical interventions.

Basic Needs Often Compromised By This Wound: esteem and recognition, self-actualization

False Beliefs That May Be Embraced As a Result of This Wound:

  • I’m less or a man/woman because of this.
  • This is a punishment for something I’ve done in the past.
  • There must be some reason why I can’t have kids.
  • God knows I would be a bad parent; that’s why he won’t let me have kids.
  • People will pity me if they find out.
  • Without children, I’ll never be complete or fulfilled.
  • Why bother taking care of yourself if things like this are going to happen to you anyway?
  • I’m going to grow old and die alone, with no one to care for me.

Positive Attributes That May Result: discreet, empathetic, optimistic, patient, persistent, private, resourceful, 

Negative Traits That May Result: callous, cynical, evasive, irrational, jealous, martyr, needy, obsessive, pessimistic, resentful, temperamental, ungrateful, withdrawn 

Resulting Fears:

  • Fear of growing old and being alone
  • Fear of one’s spouse dying
  • Fear of what others think
  • Fear that one is incapable of parenting or caring for others
  • Fear of other latent illnesses or conditions within one’s body
  • Fear that one will never find happiness or contentment

Possible Habits That May Emerge: 

  • Becoming obsessed with conceiving a child, regardless of the inconvenience or cost
  • Tirelessly researching and trying new or unusual fertility methods, treatments, and remedies
  • Becoming obsessed with one’s health
  • Lying to others about why one hasn’t had children
  • Struggling with depression
  • Self-medicating
  • Distancing oneself from couples with children
  • Throwing oneself into a job or hobby
  • Clinging to one’s spouse or parents out of fear of losing them and being alone
  • Avoiding children
  • Building relationships with other childless couples
  • Joining support groups

TIP: If you need help understanding the impact of these factors, please read our introductory post on the Emotional Wound Thesaurus. For our current list of Emotional Wound Entries, go here.

For other Descriptive Thesaurus Collections, go here.

The post Emotional Wounds Thesaurus Entry: Infertility appeared first on WRITERS HELPING WRITERS™.

0 Comments on Emotional Wounds Thesaurus Entry: Infertility as of 1/1/1900
Add a Comment
2. What can we expect at Japan’s 70th war commemoration?

As we approach the 70th anniversary of the end of Japan's War, Japan’s “history problem” – a mix of politics, identity, and nationalism in East Asia, brewing actively since the late 1990s – is at center stage. Nationalists in Japan, China, and the Koreas have found a toxic formula: turning war memory into a contest of national interests and identity, and a stew of national resentments.

The post What can we expect at Japan’s 70th war commemoration? appeared first on OUPblog.

0 Comments on What can we expect at Japan’s 70th war commemoration? as of 1/1/1900
Add a Comment
3. Reading in ... Russia

       In The Moscow Times Anastasia Bazenkova reports that Russia's Book Industry Shrinks as Russians Stop Reading.
       It's not that they've stopped reading entirely, but apparently there has been quite a decline (with the ever-popular explanations as supplied by experts, such as: "Young people see books as pure entertainment, and in that category they cannot compete with modern gadgets"). A real problem is certainly the decline in bookstores -- and, astonishing if true, Moscow apparently only has six used book stores.
       Among the consequences: "The effect of bookstore closures has been to reduce the quantity of printed words"
       And while there's no data to back up the claim, it's still an eye-catching one:

There are currently 10-12 people in the whole country that can earn their living only by writing books, and there will be even fewer of them in the future, Filimonov said

Add a Comment
4. Another translation of The Story of The Stone

       As longtime readers know, I hold Cao Xueqin's The Story of The Stone, in David Hawkes and John Minford's translation, to be one of the peaks of literature. Interesting to learn now that, as Tang Yue reports in China Daily, in Lost in translation for more than 40 years, that the manuscript of an unpublished translation into English by Lin Yutang has been found in Japan.
       Lin published widely in both Chinese and English, and was a widely-read popularizer of Chinese literature in English -- it would be interesting to know what kind of impact his translation of this towering work might have had.

Add a Comment
5. For Brian Tappin ~ two ~ clouds and mountains chatting close

for Brian Tappin ~ two ~ clouds and mountains chatting close 2


Filed under: Brian Tappin, journeys, love, one-tooth dog, sea

0 Comments on For Brian Tappin ~ two ~ clouds and mountains chatting close as of 8/1/2015 7:57:00 AM
Add a Comment
6. आईए परेशान हों

आईए परेशान हों

इसका टाईटल पढ कर हैरान होने वाली तो कोई बात ही नही है क्योकि हम है ही ऐसे. बात बात पर रोंदडू सा मुहं बना लेगे और परेशान ही रहेगें.

अब देखिए ना !! आज सुबह की ही बात है सरकारी दफ्तर के बाहर दो बाबू लोग चाय पीते पीते बतिया रहे थे .एक बोला क्या बताऊ आज धुंध की वजह से सब गडबड हो गया. दूसरे ने पूछा पर यार अब तो मौसम एक दम साफ था. धुंध तो थी ही नही इस पर वो  बोला तभी तो …. आज मै धुंध के चक्कर मे जल्दी घर से निकल गया ताकि दफ्तर के लिए देरी ना हो जाए पर मौसम एक दम साफ मिला और मै इतनी जल्दी आफिस पहुच गया कि ताले भी नही खुले थे और ना ही यह चाय वाला आया था.बाहर इतनी सर्दी थी और अकेला खडा खडा  इतना बोर हुआ कि पूछो मत.

ताकि दफ्तर के लिए देरी ना हो जाए पर मौसम एक दम साफ मिला और मै इतनी जल्दी आफिस पहुच गया कि ताले भी नही खुले थे और ना ही यह चाय वाला आया था.बाहर इतनी सर्दी थी और अकेला खडा खडा  इतना बोर हुआ कि पूछो मत.

अब दूसरा उदाहरण देखिए .. एक श्री मति जी अपनी काम वाली बाई के आने पर रो रही थी. हुए ना आप हैरान !! असल मे वो क्या है ना कि चार दिन से देवी जी बिना बताए छुट्टी पर चल रही थी श्रीमति जी दिन रात इंतजार मे लगी रही पर इनके दर्शन नही हुए. इसलिए आज सुबह से ही उन्होने कमर कस ली और जुट गई सफाई मे. जैसे ही घर का सारा काम निबटा तो वो देवी जी अचानक प्रकट हो गई.अब आप ही बताईए क्या ऐसे  मे वो क्या उनकी जगह कोई भी होता वो खुश नही हो पाता.

और सुनिए!! भारी ठंड और धुंध को देखते हुए स्कूलो की छुट्टियाँ आगे बढा दी ताकि बच्चे घर मे सुरक्षित रहें. पर अब घर मे रहने वाली महिलाए अब और ज्यादा दुखी है कि सारा दिन हल्ला गुल्ला शोर शराबा होता रहता है. बच्चे नाक मे दम किए रखते हैं इसलिए. ना स्कूल जाए तो उसमे दुखी और  जाए तो उसमे और भी ज्यादा दुखी कि सरकार और हमारा कानून कितना निर्मम है इतनी सर्दी मे भी मासूमो को पढने जाना पड रहा है.

एक और उदाहरण तो पढिए. एक मोहतरमा गैस खत्म होने से बहुत खुश थी. नही तो आम तौर पर गैस खत्म होने पर  एक चिंता सी हो जाती है. खासतौर पर जब बुक करवा रखी हो और ना आए !! असल मे, अचानक उनके घर मेहमान आ गए और वो खाना बनाने से बच गई. खुशी टपक टपक के दिखाई दे रही थी उनके चेहरे पर से. अरे भई ,होटल मे खाना खाने जो जाना था उन्हे!!वही दूसरी तरफ  पतिदेव के चेहरे से उदासी टपक टपक के गिर रही थी.

जहां आजकल जबरदस्त सर्दी के दिनो मे  अचानक धूप या सूरज निकलने से हमे राहत मिल रही है वही नीना आज धूप को कोसे ही जा रही है पूछ्ने पर पता चला कि अखबार मे और टीवी पर सुना  था कि मौसम बादल वाला ही रहेगा इसलिए उसने आज कपडे नही धोए और आज सुबह से ही धूप आसमान मे चमक रही है मौसम एक दम साफ है पर नीना का पारा एकदम गर्म!!! काश उसने भी कपडे धो लिए होते.!!! किसी पर विश्वास ना किया होता !! बस आज वो यही प्रार्थना किए जा रही है कि हे भगवान!!  बरसात आ जाए या बादल हो जाएं!!

देखा !!! आप भी यह लेख पढ कर परेशान हो रहे हैं और  मुझे कोसने लगे कि  ना जाने कैसे कैसे लोग ब्लाग लिखने लगे है. जो भी मन मे आता है लिख डालते है..ह हा हा धन्यवाद !!! यानि मेरा लेख सार्थक हुआ!!

 

The post आईए परेशान हों appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
7. Toilet paradigms and the sanitation crisis in India

Sanitation has evinced considerable interest from policy-makers, lawmakers, researchers and even politicians in recent years. Its transformation from a social taboo into a topic of general conversation is evident from the fact that one of the central themes of a recent mainstream Bollywood production (Piku, 2015) was the inability of the protagonist’s father to relieve himself.

The post Toilet paradigms and the sanitation crisis in India appeared first on OUPblog.

0 Comments on Toilet paradigms and the sanitation crisis in India as of 8/1/2015 7:29:00 AM
Add a Comment
8. Life in the Meadow with Madie, An Interview with Patty Luhovey

Patty Luhovey began to write Life in the Meadow with Madie: Mr. Earl's Missing Eyeglasses in 2009. Several of the story’s characters are based upon family members, even her daughter’s dog Carli.

Add a Comment
9. समय बहुत बलवान

समय बहुत बलवान

बहुत समय से एक जानकार अपनी बिटिया की शादी का सोच रहे थे . बहुत लडके देखे, अखबारो के विज्ञापन और नेट पर भी सर्च किया पर एक साल होने को आया पर बात नही बनती दिख रही थी. आज फिर उनकी बिटिया को  देखने लडके वाले आ रहे थे. घर पर जबरदस्त इंतजाम किया गया था. परदे, मंहगे सोफे, भव्य शो पीस,क्राकरी और भी ना जाने क्या क्या.  दस तरह की मिठाई , बीस तरह की नमकीन और फल और ड्राई फ्रूट का तो पूछो ही मत.. यानि  शादी मे रुपया पैसा जैसी कोई रुकावट नही थी. करोडों की शादी होनी थी. लडके वाले आए. खूब खातिर दारी भी हुई  पर   पर पर बात नही बनी.

ना लडकी में कोई कमी थी और न ही उस परिवार का कोई क्रिमिनल रिकार्ड … तो फिर आखिर क्या हुआ कि बात नही बनी…

इसका बस  यही कारण था कि कमरे मे लगी महंगी दीवार घडी रुकी हुई थी और कैलेंडर भी फरवरी  महीने का ही लटका हुआ फडफडा रहा था. ये बात एक कमरे की नही थी सभी कमरों में महंगी से महंगी घडी थी पर सही समय कोई नही दिखा रही थी . जिस कमरे में लंच था उस कमरे में तो सन 2014 का कैलेडर टंग़ा हुआ था.

शायद  लडकी वालो के लिए रुपया पैसा ही सब कुछ था और लडके वालो की सोच  उनसे हट कर  थी.

वैसे बात शादी ब्याह की न भी हो तो हमें अपने घर का समय यानि दीवार घडी का समय और कैलेंडर सदा अपडेट रखने चाहिए … समय की कीमत समझनी बेहद जरुरी है … वैसे आप तो ऐसे नही होंगें … अरे आप कहां चले .. ?? ओह .. आज पहली अगस्त है और आपने महीना बदला नही था अभी तक :)

The post समय बहुत बलवान appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
10. From Chapter books to beyond......







Ok so schools our for summer, your child is bored, you suggest reading a good book. He puckers up his face and thinks of school starting .... so this is when you can get creative.  Here are some alternatives I can suggest to you that count as "reading"...


1. The Newspaper





The newspaper has many sections in it that might be appealing to you child.  There's world news, local news, ads, sports, entertainment, comics and the list goes on ....  sure to spark conversations too.


2. Magazines




  
Find out what your child is interested in and I am sure there is a magazine that covers that topic.  Magazines are colourful, educational, can include puzzles, quizzes, and a whole lot more. They are a perfect gift to give as a present as they come monthly right into your mailbox.  


3. Nonfiction books




















Any summer events that you attend always have "reading" components to them ... from tickets, to booklets regarding the performance, to maps to guide you to your destination.  All these are considered reading and will be of great interest to your child.


4.  Poetry






0 Comments on From Chapter books to beyond...... as of 8/1/2015 9:05:00 AM
Add a Comment
11. Preview: Creating Classroom Environments to Launch the School year Blog Series

Welcome to our first blog series of the school year! Join us as we think about ways to optimize classroom environments for the strongest start possible.

Add a Comment
12. हम मे है हीरो

हम मे है हीरो  …. जी हां, इतना तो मै दावे से कह सकती हू कि हम सभी में,  कोई ना कोई खास बात जरुर है और ऐसी ही कोई ना कोई खास बात आप मे भी होगी.. है ना !! अरे ये क्या आप तो मुस्कुराने लगे और वो भी व्यंग्यात्मक रुप से … हु ह … खास और हम में … रत्ती भर भी कुछ नही है और हो इससे फायदा भी क्या है .. कौन देखने आ रहा है … खास बात का क्या बैठ कर अचार डालें !!

देखा, बस यही कमी है हम मे . हम खुद को जानना ही नही चाह्ते. बस दूसरो को देख देख कर दुखी और परेशान होते रहते  हैं  कि फलां तो इतना खूबसूरत है डिमकाने को तो देखो भगवान ने उसे सभी कुछ दिया है और एक हम है.हमे तो भगवान मे कुछ ही नही दिया. वगैरहा वगैरहा. और जो हमे मिला है उसकी कभी कद्र ही नही करते.

वैसे देखा जाए तो गलती हमारी भी नही है आजकल मानसिकता ही ऐसी बन गई है.पर यकीन मानिए हमारे भीतर भी कोई ना कोई हुनर जरुर छिपा है. एक बात से मुझे बहुत कुछ सीखने को मिला. हुआ यू कि  कुछ समय पहले मुझे अस्पताल जाना पडा. बीमार मरीज  के कमरे मे एक जमादार बहुत मन से झाडू लगा रहा था.उस समय मरीज का आप्रेशन चल रहा था. मै थोडा चिंतित थी तो वो जमादार मुझे देख  सफाई करते करते बोला कि अगर आप इस मंत्र को मन ही मन दस बार बोलेगी तो आपकी चिंता दूर हो जाएगी. एक बार तो मुझे बहुत अजीब लगा.पर वो वाकई मे सच था. अगले दिन जब वो सफाई करने आया तो मेरे पूछ्ने पर उसने बताया कि वो यहा आने से पहले दस साल  माता वैष्षो देवी मंदिर मे सफाई का काम किया करता था और वही से अच्छे विचार ग्रहण किए.कोशिश रह्ती है कि मै इस ज्ञान को लोगो मे बांट सकू.मै हैरान थी क्योकि मै सोच भी नही सकती थी उस जमादार के बारे मे.

वही एक कुरियर वाला है वो हमेशा डाक ले जाता है पर एक दिन डाक देते हुए पता चला कि वो तो नामी लेखक है और बहुत रचनाए किताबो मे छपती है.ये तो बस तो समय व्यतीत करने के लिए काम कर रहा है  और तो और एक नामी गिरामी कवि जिन्हे ढेरो पुरुस्कार भी मिले है वो बस स्टेड पर गन्ने का जूस बेचते थे. उनकी दुकान पर लोग जूस भी पीते और कविता भी सुनते.

एक अन्य उदाहरण मे मुझे गिटार पर बडा सा स्टीकर लगवाने के लिए बाजार  गाडी की जो नम्बर् प्लेट लिखते है उस दुकान पर जाना पडा. वहां एक मैले से कपडे पहने मैकेनिक ने दस मिनट इंतजार करने को कहा .मुझे यही चिंता थी कि कही ये स्टीकर लगाते लगाते गिटार तोड् ही ना दे. ऐसे लोगो को कहा समझ होती है .पर दस मिनट बाद ना सिर्फ उसने खूबसूरत सा स्टीकर लगाया बल्कि गिटार पर धुन भी बजा कर सुनाने लगा और कहता कि इसकी ट्यूनिग सही करनी पडेगी.मेरे पूछ्ने पर उन्होने बताया कि कालिज के समय मे सीखा था पर बाद मे मौका ही नही मिला.पर जब कभी मौका मिलता है सुर छेड लेता हूं.

मै हैरान थी कि ऐसा भी होता है.असल मे, कई बार हम खुद को बहुत कम आंक जाते हैं पर ऐसा कभी नही सोचना चाहिए. जहां एक ओर हमे  अपने हुनर को दिखाना चाहिए वही दूसरी ओर दूसरे मे छिपे हुनर की तारीफ करने मे कभी पीछे भी नही रहना चाहिए.जरुरी नही है कि हीरो वही  है जो रुपहले पर्दे पर ही नजर आता है हम अपने चारो तरफ नजर उठा कर देखेगे तो ना जाने कितनी लम्बी कतार दिखाई देगी… तो पहचानिए खुद को … हो सकता है अनजाने मे ही सही,हो सकता है कि  आप किसी के लिए प्रेरणा ही बन जाए …!!! क्योकि हममे है हीरो !!!

किसी ने सच कहा है कि …

काम करो ऐसा की पहचान बन जाए

हर कदम चलो ऐसा की निशान बन जाए

यहां जिंदगी तो सभी काट लेते हैं

जिंदगी ऐसे जीयो की मिसाल बन जाए

 

The post हम मे है हीरो appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
13. WWE Legend ‘Rowdy’ Roddy Piper Dies at 61

Variety has some sad news http://variety.com/2015/biz/obituaries-people-news/roddy-piper-dies-dead-wwe-wrestler-1201554513/

oddy Piper WWE Dead
Andre Csillag/REX Shutterstock
WWE legend “Rowdy” Roddy Piper died after suffering a heart attack in his Hollywood home. He was 61.

Born Roderick George Toombs, Piper joined the WWE in 1984 after getting his start with the NWA in the late 1970s. He and Hulk Hogan met in landmark matchups including MTV’s “The War to Settle the Score” and the first WrestleMania, where Piper and “Mr. Wonderful” Paul Orndorff took on Hogan and Mr. T.

Piper’s agent Jay Schacter confirmed the news, first reported by TMZ, to Variety. “Rod passed peacefully in his sleep last night,” Schacter said in an email. “I am shocked and beyond devastated.”
Piper had suffered a bout of Hodgkins Lymphoma in 2006 but was reportedly deemed cancer-free last November.

“WWE extends its sincerest condolences to Toombs’ family, friends and fans,” WWE said in a statement.

WWE chairman and CEO Vince McMahon also extended his condolences in a statement. “Roddy Piper was one of the most entertaining, controversial and bombastic performers ever in WWE, beloved by millions of fans around the world. I extend my deepest condolences to his family.”
The wrestler had also made a foray into film acting, starring in John Carpenter’s sci-fi pic “They Live.”

“Devastated to hear the news of my friend Roddy Piper’s passing today. He was a great wrestler, a masterful entertainer and a good friend,” Carpenter wrote on Facebook.

WWE stars and friends such as Hulk Hogan, Chris Jericho and the Iron Sheik also shared their condolences on Twitter.

_______________________________________________________________________________

He came to chew gum and kick-ass. And he was all out of gum.  A fun actor in The Live and other movies and a great laugh with the old WWF.  Yet another wrestler lost to "heart attack".

Tempus fugit

Add a Comment
14. दौरा बनाम दौरा

दौरा बनाम दौरा  ….

cartoon- result monica gupta

 

दौरा बनाम दौरा

आज अचानक सुबह सुबह  नेता जी ने घोषणा कर दी कि अभी विदेश दौरे पर जाने की बजाय वो सीधा  तिहाड के दौरे पर जाएगे क्योकि भारी अव्यवस्थाओ के चलते वहां देखना भी बहुत जरुरी है. आनन फानन में सायरन बजाती हुई गाडियो का काफिला अगले ही पल तिहाड के भीतर था.

काजू और बादाम खाते हुए नेता जी ने बहुत ध्यान से सभी बातो का मुआयना करना शुरु किया.सबसे पहले गेट पर खडे  संतरी को बहुत प्यार से देखा और उसकी पीठ पर थपकी दी. फिर पूरा  मुआयना किया कि कैसे कैदी सुबह उठ कर दिनचर्या अपनाते है और उन्हे किन किन बातो की कमी लगती होगी. सबसे पहले तो सैर करने के लिए जगह तैयार करवाने के आदेश दिए.ताकि ताजी  हवा का आनंद ले सकें. कुछ कमरो को वीआईपी सैल बनाने की धोषणा की कि जब कोई बडा नामी गिरामी बीमार नेता आए तो उसे किसी प्रकार की दिक्कत का सामना ना करना पडे.

खाने मे भी अच्छे कुक रखने के आदेश दिए ताकि कोई कैदी खाकर बीमार ना पडे क्योकि मीडिया मे एक बार खबर आ जाए तो बहुत किरकिरी हो जाती है. फिर बात आई शौचालयो की. अच्छे स्वास्थ्य के लिए साफ सुथरे बाथरुम निंतांत आवश्यक हैं इसलिए ज्यादा शौचालय बनाने के भी आदेश दे दिए गए औरयह हिदायत भी दी गई कि सभी सफाई  कर्मचारी  24 घंटे डयूटी पर ही तैनात रहें.

हर रोज कुछ ना कुछ क्रियात्मक होता रहे इसलिए मनोरंजन के लिए भी आदेश दिए गए ताकि दुखी कैदियो  का ध्यान सुसाईड करने पर ना जाए और उसमे जीने की नई आशा का संचार होता रहे.छोटा फ्रिज,गद्दा और छोटा रेडियो या छोटा टीवी भी सभी कमरो मे लगे इसका भी ध्यान रखना बहुत जरुरी है और और नेता जी बोलते जा रहे थे और उनका सैक्रेटरी लिखे जा रहा था. तभी किसी ने पीछे आकर कहां कि आपके जाने का समय हो गया है. उन्होने तुरंत गाडी निकालने के आदेश दिए ताकि कही विदेश जाने वाली  फ्लाईट मिस ना हो जाए. और अगले दौरे का भी दिन तथा समय  निश्चित कर लिया ताकि जिन कामो के आदेश दे दिए है वो लागू हुए है या नही.

तभी उन्हे ऐसा लगा कि कोई उन्हे झंकोर रहा है. अचानक वो उचक कर उठ बैठे. हवलदार उन्हे उठा रहा था कि इतनी देर से  क्या बडबडाए जा रहे हो… वो नींद से जागे… अरे!!! वो तो खुद कैदी हैं.छोटा सा कोठरीनुमा कमरा, पुराना सा मटका,थाली कटोरी,चम्मच, और मटमैली सी चादर मानो उन्हे चिढाती हुई हंस  रही थी.उफ!!! कहां तो  नेता जी दौरा करने आए थे और ये क्या …!!!  अचानक नेता जी को एक बार फिर  दौरा पडा और एक लंबी सांस लेते हुए वो एक तरफ लुढक गए…..पीछे संगीत चल रहा था …ए मालिक तेरे बंदे हम …ऐसे हैं हमारे कर्म …!!!!!

कैसा लगा आपको ये व्यंग्य… जरुर बताईएगा :)

 

 

The post दौरा बनाम दौरा appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
15. Illustrator Challenge #11

Draw an object using a soft light source from above and and an angle.

0 Comments on Illustrator Challenge #11 as of 8/1/2015 9:09:00 AM
Add a Comment
16. अच्छी है नकारात्मकता

 

अच्छी  है नकारात्मकता  ..

अगर आप यह सोच रहे है कि मैने लिखने मे कुछ गलती की है तो निश्चय रुप से आप गलत सोच रहे है. सच में, वाकई में, जो लोग हमारे बारे में नकारात्मक सोच रखते हैं एक बार तो वो  बुरे लगते है बेहद बुरे पर बाद मे लगता है अरे!!!  यह  तो वाकई मे अच्छे  हैं. आज की तारीख मे भी ऐसे सैकडो उदाहरण है जो मेरी बात को सच साबित करते हैं.

अब आप फिर यही सोच रहे होंगे कि मै बडे बडे महापुरुषो या वैज्ञानिको  आदि का उदाहरण दूगी. जी नही. मै आपको आज की तारीख के ही उदाहरण दूगी और उन लोगो की वजह से लोगो मे कितना बदलाव आया आप भी सोच कर हैरान रह जाएगे.

कुछ समय पहले मेरी एक जानकार की बेटी को क्लास में उसकी टीचर ने सभी बच्चो के सामने बोल दिया कि वो तो एकदम नालायक है इस बार दसवीं मे फेल ही होगी.  उसने इस बात को इतना महसूस किया कि कुछ दिन तो स्कूल ही नही गई पर जब मन में आया तो उस टीचर को गलत साबित करने के लिए जी तोड पढाई की और अपने स्कूल में ही नही बल्कि पूरे जिले मे अव्वल आई. अपने साक्षात्कार के दौरान उसने उसी टीचर का नाम लिया कि अगर वो ना टोकती तो शायद वो सफल ना हो पाती.

ऐसी ही एक कहानी है मिस्टर शर्मा की. वो सपरिवार किराए के घर मे रहते थे. वहां की मकान  मालकिन बहुत तंग करती थी. बात बात पर टोकना आदि.घर धुसते ही उनको टेशंन शुरु हो जाती कि आज फिर  कोई बात होगी या फिर लडाई होगी. एक दिन उनके इस बर्ताव से शर्मा जी इतने दुखी और आहत हुए कि उन्होने मन बना लिया कि अब जब भी यहां से जाएगे  किराए के घर पर नही रहेगे अपना ही घर बनाएगे . और हुआ भी यही.आज वो अपने मकान मे खुशी खुशी रह रहे हैं. आपको एक बात बताऊ कि आज भी जो परिवार किराए के उस घर मे जाता है वहां से  वो सीधा अपने ही घर मे जाता है क्योकि किसी मे इतनी हिम्मत ही नही बचती कि ऐसे इंसान को झेलने की कल्पना मात्र ही कर सके तो मकान मालकिन हुई ना बढिया. नही तो आज के समय मे अपना घर बनाने के भला कोई सोच सकता है पर उस महिला की महानता देखिए … जो लोग कभी सोच भी नही सकते थे अपना आशियाना बनाने की ..अपने घर मे शिफ़्ट हो रहे है.

ऐसे ही मेरी सहेली की मम्मी है उन्हे उनके परिवार ने यह कह दिया कि दुनिया भले ही पलट जाए पर मम्मी कार चलाना नही सीख सकती. कुछ दिन तो वो मात्र मुस्कुराती रही पर जब पानी सिर से ऊपर चला गया तो बस उन्होने निश्चय कर लिया और आज वो इतनी बढिया कार चलाती है कि पूछो ही मत. वही एक जानकार हैं उन्होने अपने बेटे हाथ दिखाया और पूछा कि क्या ये डाक्टर बन सकता है .. इस पर पंडित ने कहा कि कदापि नही इसके हाथ मे डाक्टर की रेखा ही नही है वो पंडित की बात से इतने आहत हुए कि बस निश्चय कर ही लिया  जबकि आज वो पंजाब मे बहुत जाने माने डाक्टर हैं…

ये तो चंद ही उदाहरण है अब आप को लग रहा होगा कि ऐसे उदाहरण से तो आप भी दो चार हुए है .. है ना.

एक बार एक पहाड पर कुछ लोग चढ रहे थे.नीचे खडे लोग चिल्ला रहे थे बहुत मुश्किल है नही चढ पाओगे वापिस आ जाओ. डर के मारे काफी तो लौट आए. एक चोटी तक पहुंच ही गया. खुशी हुई कि देखा मना करने के विपरीत उसने कर दिखाया कि यह कर सकता है. यह है उसकी सकारात्मकता. पर जब नीचे आया तो पता चला कि वो बहरा था. तो आप क्या समझे… जिंदगी मे तरह तरह के लोग मिलते है टोकने वाले ,उत्साह ना बढाने वाले पर आपको अपने पूरे विश्वास के साथ, अपने को कम ना आंकते हुए,सकारात्मक सोच लिए  उन लोगो को साथ लेकर बस आगे ही बढते जाना है… इन्ही लोगो को मद्देनजर रखते हुए आप अपना एक अलग ही मुकाम बनाएगे … है ना !!! तो अब बताईए कि अच्छी है ना नकारात्मकता!!!!

वैसे भी कहते है कि अगर आप जिंदगी मे सफल होना चाह्ते है तो दोस्त साथ  रखिए और अगर आप और भी ज्यादा सफल होना चाह्ते है तो नकारात्मक प्रवृति के लोग साथ रखिए !!!!

बताईगा कि कैसा लगा ये लेख :)

The post अच्छी है नकारात्मकता appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
17. Best New Kids Stories | August 2015

For many kids, August is back-to-school month. The stories in this month's hot new release kids books will make back-to-school (and anytime) reading a breeze.

Add a Comment
18. Digital dating dynamics: age differences in online dating profiles

Online dating is becoming an increasingly prevalent context to begin a romantic relationship. Nearly 40% of single adults have used online dating websites or apps. Furthermore, the world of online dating is no longer confined to young adults; reports suggest adults aged 60 and older are the largest growing segment of online daters. Obviously, adults using these websites are motivated to find a partner, but we know little about why they want to date or how adults of different ages present themselves to potential partners.

The post Digital dating dynamics: age differences in online dating profiles appeared first on OUPblog.

0 Comments on Digital dating dynamics: age differences in online dating profiles as of 1/1/1900
Add a Comment
19. Who’s in charge anyway?

Influenced by the discoveries of cognitive science, many of us will now accept that much of our mental life is unconscious. There are subliminal perceptions, implicit attitudes and beliefs, inferences that take place tacitly outside of our awareness, and much more.

The post Who’s in charge anyway? appeared first on OUPblog.

0 Comments on Who’s in charge anyway? as of 1/1/1900
Add a Comment
20. Life in the Meadow with Madie: Mr. Earl’s Missing Eyeglasses, by Patty Luhovey | Dedicated Review

Participating in the rich tradition of parables that illustrate moral and religious teachings through animal tales, Life in the Meadow with Madie: Mr. Earl's Missing Eyeglasses presents the story of a community coming together to help out someone in need.

Add a Comment
21. छोटी बातें

ऐसा भी होता है …!!!!

friends photo

छोटी बातें

शीना और गीता बहुत अच्छी सहेलियां थी. पर अचानक एक दिन ना जाने क्या हुआ क्या नही पर दोनो की आपसी बोल चाल बंद हो गई. यह बात लगभग 2 महीने तक चली और जब उनका आमना सामना हुआ तो हकीकत जान कर दोनो बहुत झेंपी. असल मे ,हुआ यू कि एक शाम शीना बाजार जा रही थी और गीता अपने घर की बालकनी मे खडी थी. मुस्कुराते हुए शीना ने उसे हाथ हिलाया पर उसने ना तो कोई जवाब दिया और ना स्माईल.

शीना को बहुत गुस्सा आया और मन ही मन उसने उससे कुट्टा कर ली कि बहुत अकड आ गई है उसमे. एक दो बार गीता के फोन भी आए पर उसने जवाब नही दिया. वही एक दिन गीता को बाहर जाना था और उसने देखा कि शीना पौधो को पानी दे रही है उसने प्यार से हाथ हिलाया पर शीना यथावत पानी ही देती रही.बस दोनो मे दूरियां बढती गई.

एक दिन दोनो का अनयास ही आखों के डाक्टर के यहा आमना सामना हुआ.बातो बातो मे जब बात खुली तो झेंप इसलिए आई कि बात कुछ भी नही थी.असल में, दोनो की नजर कमजोर हो गई थी. हल्के अंधेरे मे दोनो को ही दिखाई नही दिया और एवई ही बात का बतंगड बन गया.
ऐसे ना जाने कितने उदाहरण है जिसमे बात कुछ भी नही होती और दिलो मे खटास बेवजह ही पैदा हो जाती है.चाहे माता पिता मे हो, बच्चो मे हो या दोस्तो मे हो या अपने दफ्तर मे हो.अगर ऐसे मे कभी भी थोडा भी संदेह हो तो बजाय बोलचाल बंद करने के खुल कर बात कर लेना बेहतर है. दूसरे लोग ऐसे मे ना सिर्फ मजाक उडाते है बल्कि आनंद भी लेते हैं तो किसी को क्यो मौका देना … वैसे आप तो ऐसा कुछ नही कर रहे होंगे अगर कर रहे हैं तो बिना समय गवाए बात कर लीजिए प्लीज … !!!

 

 

 

The post छोटी बातें appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
22. Wind/Pinball reviews

       The most recent additions to the complete review are my reviews of Murakami Haruki's two earliest novels, now published together in one volume, in a new translation by Ted Goossen, as Wind/Pinball:

       This is yet another example of US/UK publishers opting to publish multiple works by an author in one volume -- several works by Patrick Modiano, whose works tend to come in at around a hundred pages, are getting the treatment now. It's more justifiable here than in most cases (even as the title, Wind/Pinball, really isn't) but I reviewed them separately -- among other reasons: because there are already so many separate reviews of one or the other title to link to.
       However, it's been annoying to see so much coverage which has dismissed the previous translations (by Alfred Birnbaum, published by Kodansha International) as if no one had ever seen them. The Knopf jacket-copy has it about right -- "Widely available in English for the first time, newly translated" -- but much of the review coverage does not (as I have also repeatedly noted on Twitter (e.g.)).

Add a Comment
23. Release Day Extravaganza for Legend of the Timekeepers...


There is no moving forward without first going back.


About Legend of the Timekeepers:

Lilith was a young girl with dreams and a family before the final destruction of Atlantis shattered those dreams and tore her family apart. Now refugees, Lilith and her father make their home in the Black Land. This strange, new country has no place in Lilith’s heart until a beloved high priestess introduces Lilith to her life purpose—to be a Timekeeper and keep time safe.
Summoned through the seventh arch of Atlantis by the Children of the Law of One, Lilith and her newfound friends are sent into Atlantis’s past, and given a task that will ultimately test their courage and try their faith in each other. Can the Timekeepers stop the dark magus Belial before he changes the seers’ prophecy? If they fail, then their future and the earth’s fate will be altered forever.


Book Information:

Title: Legend of the Timekeepers

Series:  The Last Timekeepers, Book # 0.5

Author Name:  SharonLedwith

Genre(s): Young Adult, Time Travel

Tags: #‎YAlit‬ #‎timetravel‬

Length: Approx. 147 pages

ISBN: 9781619376236

Re-Release Date: August 1, 2015

Publisher:  Mirror World Publishing  http://www.mirrorworldpublishing.com/

Tour Host:  Sapphyria's Book Promotions  http://saphsbookpromos.blogspot.com/

Follow the Tour to Read Reviews, Guest Posts, and Spotlights: 


Read an Excerpt:

“Why are you here?” Lilith asked. “You’ve already got your life seal.” 

“I have more questions for Istulo.” She continued to stare at the disk. 

Lilith sighed. “My name is Lilith. What’s your name?” 

Her shoulders relaxed slightly. A hint of a smile broke out on her face. Her upturned nose wiggled. “She-Aba. I was born here in the Black Land. Both my parents arrived from Atlantis fourteen years ago yesterday. My mother gave birth to me the next day.”

Lilith perked up. “That would make today your birthday!”

She-Aba beamed. “Yes. That’s why I’m here. For my birthday last year, I had my life reading done by Istulo. But recently, there’s been a hiccup in my plans. It’s like my life seal rearranged itself, and now I’m confused. I’m here for a reaffirmation.” 

“What’s the problem?” 

She-Aba traced her life seal with the tip of her perfectly shaped fingernail. “My lifetime occupation was supposed to be to design clothing for the people of the various positions in the court and temples.” 

Lilith smirked. “That makes perfect sense.” 

“I know, right? So why, all of a sudden, would my life seal change from designing clothing to something completely different?” 

Lilith arched a fair brow. “How different?” 

“Well, instead of clothing people in lavish robes and gowns for others to appreciate, the seal suggests that I’ll be doing the opposite by covering up and hiding the truth. I don’t understand it at all. I thought my life was all planned out for me.” 

“I thought mine was too, until my country blew up and slid into the ocean,” Lilith muttered. 

“Hey, look at the bright side, at least your hair isn’t red like mine.” 

Lilith eyed She-Aba carefully. “What’s wrong with red hair? My uncle has red hair and it suits him fine.” 

She-Aba moved in closer. “If you haven’t noticed already, there aren’t many redheads around here. The natives think red is magical, and anyone with red hair is considered a freak of nature.” 

“That’s ridiculous!” Lilith said loud enough to cause an echo down the marble hallway. “Is that the reason why those artists were rude to you? Because you have red hair?” 

“Red is a very powerful color,” a raspy voice said from behind both girls. 

Lilith and She-Aba jumped. They slowly turned to find Istulo hovering over them. 

Wearing the same white gown and orichalcum headband Lilith saw her dressed in before, Istulo nodded slightly before she said, “Red represents the essence of life—if we are drained of blood, we are drained of energy. The people of the Black Land understand this, and therefore red is reserved only for their gods and goddesses.” 

Lilith giggled. “Don’t tell She-Aba that, she’ll think she’s a goddess.”

Purchase Links:

Amazon



Mirror World Publishing



Barnes & Noble



Giveaway Information and Entry Form:

One winner will be selected to receive the following prizes ~

• A signed paperback copy of Legend of the Timekeepers

• A custom crafted ceramic Spiral Life Seal

• A signed postcard

• Two ‘The Last Timekeepers’ wrist bands

0 Comments on Release Day Extravaganza for Legend of the Timekeepers... as of 8/1/2015 6:09:00 AM
Add a Comment
24. The award Nim would be most proud of

The environment and children’s literature are two things I care about passionately, so I was absolutely thrilled last Tuesday night when, at a lovely event at the Melbourne’s Little Bookroom, Rescue on Nim’s Island was awarded the Widlerness Society’s Environment Award for Children’s Literature (fiction) ­– and the inaugural Puggles (children’s choice) award as well!
The Little Bookroom, photo by Elise Jones

When I first wrote Nim’s Island, I didn’t set out to make Nim a wildlife warrior. She just ended up one because if you live in a pristine natural environment, you have to care about keeping it pure. If you have a friend who’s a sea turtle, you care about whether she and her babies will survive. If you live on a small island, you know that every part of the island works together, and if you damage any part of it, it will damage the whole. We live on a big island in Australia, and other continents are bigger still, but the principle is the same.
Hollyburn School, Vancouver, using Nim as an environmental hero, 2008

But the good news is that every good thing you do for the environment can have big effects too ­– and it’s important to remember that we need to start with what’s right around us. You can sign a heap of petitions to save whales, but if you plant the rushes that indigenous butterflies breed in, you can help to save a species in your own garden. 

And that’s really what Nim does. You don’t have to be quite as dramatic as she is – it’s probably best not to look for dynamite to defuse, but I guarantee that you can make a difference. If you read the books on this list, you might find surprising ways to do it. I'm reading one of the shortlist right now: The Vanishing Frogs of Cascade Creek, by Emma Homes, and I'm learning lots! 
With illustrator Geoff Kelly, photo by Coral Vass
With author Emma Homes












for the whole list and more pictures of the great evening, hosted by the lovely Leesa Lambert, with an inspiring keynote speech by Morris Gleitzman. And a special thanks to Coral Vass for allowing me to use her photographs.
Meeting Rescue on Nim's Island illustrator Geoff Kelly for the first time,
photo by Coral Vass


0 Comments on The award Nim would be most proud of as of 8/1/2015 6:13:00 AM
Add a Comment
25. बहुत बदल गया है वो

 

wall clock photo

बहुत बदल गया है वो !! हालांकि पिछ्ले कुछ दिनो
से उसमे बदलाव तो महसूस हो रहा था.सिर्फ मै ही नही मेरे आस पास के लोगो ने
भी इस बदलाव को महसूस किया पर खुल कर नही कहा. बस दबी दबी आवाज मे उन लोगो
की फुसफुसाहट सुनती रही.

पर देखते ही देखते अचानक इतना बदलाव आ जाएगा
विश्वास सा नही हो रहा.वही दूसरी तरफ बार बार मन एक ही बात कह रहा था कि परिवर्तन ही
नियम है और मुझे  सहज ही स्वीकार कर लेना चाहिए.

बहुत सोच विचार के मैने अपना मन पक्का किया कि अगर यही सही है तो ठीक है मैं भी तैयार हूं
और “मौसम” के इस बदलाव का स्वागत करती हूं. सुबह शाम की हल्की हल्की ठंडक
और शाम का जल्दी ढल जाना और सुबह का देरी से आना… सर्दी के “मौसम” के बदलाव की
मीठी सी दस्तक है. .. है ना !!

आक्छी !!! आक्छी !!!

अरे क्या हुआ? जी हां, मै तो मौसम के बदलाव की ही बात कर रही थी और आप कुछ और समझ बैठे !!!

The post बहुत बदल गया है वो appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment

View Next 25 Posts