What is JacketFlap

  • JacketFlap connects you to the work of more than 200,000 authors, illustrators, publishers and other creators of books for Children and Young Adults. The site is updated daily with information about every book, author, illustrator, and publisher in the children's / young adult book industry. Members include published authors and illustrators, librarians, agents, editors, publicists, booksellers, publishers and fans.
    Join now (it's free).

Sort Blog Posts

Sort Posts by:

  • in
    from   

Suggest a Blog

Enter a Blog's Feed URL below and click Submit:

Most Commented Posts

In the past 7 days

Recent Posts

(tagged with 'Blog')

Recent Comments

JacketFlap Sponsors

Spread the word about books.
Put this Widget on your blog!
  • Powered by JacketFlap.com

Are you a book Publisher?
Learn about Widgets now!

Advertise on JacketFlap

MyJacketFlap Blogs

  • Login or Register for free to create your own customized page of blog posts from your favorite blogs. You can also add blogs by clicking the "Add to MyJacketFlap" links next to the blog name in each post.

Blog Posts by Date

Click days in this calendar to see posts by day or month
new posts in all blogs
Viewing: Blog Posts Tagged with: Blog, Most Recent at Top [Help]
Results 26 - 50 of 1,875
26. नाम बदलना कितना सार्थक – जब गुडगांव बना गुरुग्राम

नाम बदलना कितना सार्थक – जब गुडगांव बना गुरुग्राम जब से गुडगांव का नाम गुरुग्राम किया तो बहुत प्रतिक्रियाए आई खासतौर पर सोशल मीडिया पर मजेदार टवीट पढने को मिले . कुछ टवीट पर आधारित है ये कार्टून बडा प्रश्न यह है कि क्या वाकई में नाम बदलने से बदलाव आ जाएगा या हमे मिलकर […]

The post नाम बदलना कितना सार्थक – जब गुडगांव बना गुरुग्राम appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
27. हम, हमारा समाज और आस्था

हम, हमारा समाज और आस्था तृप्ति देसाई यानि भू माता ब्रिगेड की एक खबर ने फिर ध्यान आकर्षित किया. खबर है कि महा लक्ष्मी मंदिर में उन्हें प्रवेश करने से मना किया गया क्योकि उन्होने साडी नही पहनी हुई थी जबकि मंदिर में साडी पहन कर आने का ही निर्देश है .. शनि मंदिर मे […]

The post हम, हमारा समाज और आस्था appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
28. भारी स्कूल बैग, बचपन और बच्चे

भारी स्कूल बैग, बचपन और बच्चे भारी भारी स्कूल बस्ते पीठ पर लादे बच्चे जा रहे होते हैं तो एक दर्द सा उठता है कि आखिर हमारी शिक्षा प्रणाली मे सुधार क्यो नही आ पा रहा है… हर साल स्कूल वाले चाहे सरकारी हो या प्राईवेट दम्भ भरते हैं कि  बस्ते का वजन कम करेंगें […]

The post भारी स्कूल बैग, बचपन और बच्चे appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
29. So, You Think You Know What a Story Is

Reading a storyIf you do know, for God’s sake, tell me.

I’m teaching a course in the fine art of blitzing a 1st draft and it occurred to me that I ought to know what a story is.

A definition of story, I’ll start with that. A writer who knows exactly what a story is will write more efficiently and won’t waste time unnecessarily. Here for instance, a definition from a respected source.

Once upon a time, in such and such a place, something happened.”

Okay, true enough, sure, fine, as far as it goes. Next?

“A story is the journey someone goes on to sort out a problem.”

The experts have been arguing over story for a long, long time and this is the best they can come up with? Next.

“Stories are the flight simulators of human life.”

Stories, a practice for living? This is the conventional wisdom on this subject, and that’s reason enough to be suspicious. But no student of story should be caught dead buying into such a utilitarian rationale. How can anyone, much less a story-academic reduce the fiction experience to a training session? Training us to do what—navigate politely through a culture that’s underpinned largely by lies?

The same expert goes on to say:

The main virtue of fiction is that we have a rich experience and don’t die at the end.”

Wait a minute. I consume good fiction so I will die at the end. Don’t die at the end is just dead wrong. That the hero “dies,” and the reader, too—that’s the virtue of fiction. Who are these people who say, Don’t die? Fiction has been telling us since forever that no one grows up who doesn’t die and die and keep on dying to old and outmoded versions of themselves.

Stand by—I feel my own definition coming on—but first more from my research vault:

“A narrative deals with the vicissitudes of intention.”

I like this one, first of all because I know what vicissitudes means. Secondly, it suggests that what we want is going to backfire. “Desire—it carries us and crucifies us,” says author-philosopher, Muriel Barbery. There’s a gutsy definition of story. Next.

A story transforms the monster into a lover.

I found this as a reader’s comment to an online article about Scheherazade. “Monster to lover” defines the dynamic at the heart of most good stories. It’s the radical change of heart. Heroes leave their monstrous narcissisms behind. And the upshot looks for all the world like love.

Addicted to stories—why, why, why?

My 25-year study of fiction leaves me convinced that the conventional wisdom about story overlooks its essence. The same blind spot characterizes discussions of Why We Read.

For example: We read to escape a world of troubles. Excuse me? Since when are stories about anything but trouble? “Trouble is the universal grammar of stories,” says story aficionado, Jonathan Gottschall.

Ditto for Why We Write.” Here’s Gloria Steinem: “Writing is the only thing that when I do it, I don’t feel I should be doing something else.” I love that, but—why is that so? What is it about stories that has hooked us since the dawn of time?

What is it about us—our human condition—that is so addicted to stories? Perhaps I should begin the course with a definition of the human condition:

The human condition

A marvellously workable matrix of mental constructs, beliefs, delusions and lies—that’s the mind, that’s our culture, that’s us, that’s your average protagonist. In other words, the status quo of a fictional hero is a house of cards. We’re a precarious situation, and readers instinctively know it.

If you were to write a novel called The Valley of the Happy Nice People, readers would anticipate disaster. Probably be a best seller. Because the status quo is untenable, stories naturally depict characters on a journey toward something more real. Along the way, the blessed disillusionment occurs.

So, what is a story?

I’m working on it.

But it concerns characters trapped within the prison of their belief systems. And they escape the monstrosity of it. Or it’s tragic, and they don’t. Or they come to terms with their imprisonment, armed with a new and more all-embracing point of view.

In every case, the reader of the story is compelled by the hero’s trajectory toward the death of the false.

Not infrequently a protagonist will actually die in the aftermath of their awakening, and despite the death, audiences swoon.

Don’t die at the end? Who are these people who say don’t die?

They better come to my class. It starts tomorrow.

Add a Comment
30. अंधविश्वास , महिलाएं हमारा समाज और विवादित बयान

अंधविश्वास , महिलाएं हमारा समाज और विवादित बयान बात बहुत ज्यादा पुरानी भी नही है जब महिलाओं को तीन दिन तक अपने ही घर मॆं अछूत की तरह रहना पडता था . वो रसोई घर नही जा सकती थी किसी पूजा व अन्य कार्य में शामिल नही हो सकती थी पर धीरे धीरे समय बदला […]

The post अंधविश्वास , महिलाएं हमारा समाज और विवादित बयान appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
31. मोदी सरकार के दो साल – मेरे मन की बात

मोदी सरकार के दो साल – मेरे मन की बात दुखी मन की बात …. अच्छे दिन आने वाले है या मोदी लहर बहुत चली और सुनी भी .. पर हुआ क्या … ना तो अच्छे दिन  आए और न ही मोदी लहर ने सूकून दिया … !! जब भी देखो यही सुनने को मिला […]

The post मोदी सरकार के दो साल – मेरे मन की बात appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
32. मोदी जी के विदेशी दौरे

मोदी जी के विदेशी दौरे और मेरे मन की बात Stand up …बच्चे खेल रहे थे चिडिया उड, पहाड उड … और मेरे मन में चल रहा था मोदी जी उड … यह सिर्फ इसलिए कि मोदी जी की विदेशी यात्राए बहुत हो गई या दूसरे शब्दों में कह सकते हैं कि मोदी जी उडते […]

The post मोदी जी के विदेशी दौरे appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
33. विश्व स्वास्थ्य दिवस और हमारा खानपान

विश्व स्वास्थ्य दिवस और हमारा खानपान हम अपने खान पान को लेकर जरा भी सजग नही है. महिलाओं मे खून की कमी होती जा रही है पर शरीर फूलता जा रहा है.. बच्चे कुपोषण के शिकार होते जा रहे है और युवा नशे की लत से अपना स्वास्थय खराब कर रहे हैं … मैं अपनी […]

The post विश्व स्वास्थ्य दिवस और हमारा खानपान appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
34. From the Sketchbook: France

When I travel I love to write and sketch during the trip. It takes a bit of effort (and the co-operation of any fellow travelers, who are stuck for 20 minutes while I work) but the sketches capture details that the photographs miss, and the process forces me to take the time to genuinely observe the environment instead of rushing off to the next attraction.

Marée au Mont Saint Michel

Marée au Mont Saint Michel

Sketching Mont St Michel

Sketching the above scene of the tide coming in at Mont Saint Michel (just before it started to rain.)

These images are from a recent trip to France. Drawing outdoors poses exciting challenges, including distracting crowds of gawking tourists, unpredictable weather conditions, and constantly changing light. It started to rain part way through the above sketch of Mont Saint Michel, and I was forced to quit and finish it later. (I was also afraid I’d drop something off the cliff. It’s hard to tell from the photo  but that ledge is actually convex, so things kept wanting to roll off toward the ocean.)

One easy place to sketch is from your hotel window. Here’s my morning view of rooftops in the medieval heart of Blois, France:

Sketch of rooftops in Blois, France

Some artists have portable supplies like folding stools or lightweight easels so they can easily and comfortably paint anywhere. Maybe someday I’ll get my own fancy plein air equipment. For now, it looks like this:  (Notice how I am precariously balancing the palette on my knee. It’s a delicate setup.)

Sketching the Chateau de Chambord

Sketching the Chateau de Chambord. Photo by my patient husband, Jonathan.

Watercolor of the chateau de Chambord, Loire et Cher, France

My sketch of Chambord. I'm not sure that roof line could get any more complicated.

I’m consistently amazed at the difference in color between my sketches and photographs of the same subject. The photographs tend toward gray, with all color completely lost in the shadowy areas.

Les Faux de Verzy

Les Faux de Verzy: weird, genetic mutant trees in Champagne.

Incredibly, this is the same tree as above.

Incredibly, this is the same tree as above. Maybe I just have an overly colorful imagination?

I noticed so many details while I sketched: birds singing, bumblebees crawling into holes, clouds drifting by, the murmurings of conversations around me. Sometimes I was greeted by a stray cat or had a chat with a local or tourist who also had an interest in art. The sketches don’t always turn out as perfectly as paintings made in a studio, but they’re so much more interesting.

Do you sketch and paint while you travel? Share any tips you have in the comments!

Saint-Malo

St Malo. The tide changed drastically while I painted this.

Painting the walled city of St Malo

Painting the walled city of St Malo.

Add a Comment
35. समाज में मीडिया की भूमिका और आत्महत्या का बढता ग्राफ

समाज में मीडिया की भूमिका और आत्महत्या का बढता ग्राफ अचानक एक खबर ने हैरत में डाल दिया कि एक मशहूर टीवी अदाकारा प्रत्यूषा बनर्जी में आत्महत्या कर ली … बेशक दुखद खबर थी क्योकि टीवी धारावाहिक में सजीव अभिनय करने वाली अभिनेत्री का अचानक , बेसमय जाना अनेक प्रश्न छोड गया. वैसे आत्महत्या की […]

The post समाज में मीडिया की भूमिका और आत्महत्या का बढता ग्राफ appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
36. शिमला और खूंखार बंदर

शिमला और खूंखार बंदर जो भी शिमला जाता है उसका सामना बंदरों से तो होता ही होता है… पहाड और बंदर यकीनन पर्याय ही तो है… जहां शहरी लोगों के लिए ये बंदर  आकर्षण का केंद्र बनते हैं वही कुछ देख कर डर के मारे चिल्लाने भी लगते है… और कुछ लोग  इनके कोप के […]

The post शिमला और खूंखार बंदर appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
37. सोशल मीडिया, वायरल होती पोस्ट और लाईक, कमेंटस का बाजार

ट्रैफिक, लाईक, कमेंटस का ट्रैफिक और वायरल होता सोशल मीडिया का बाजार E Media और मन की बात सोशल मीडिया,वायरल होती पोस्ट और लाईक, कमेंटस का बाजार Like  के लिए कुछ भी करेंगें.. हर रोज खबरे पढने या सुनने को मिलती रहती हैं कि सैल्फी छ्त से लेते हुए या समुंद्र के किनारे लेते या  बस […]

The post सोशल मीडिया, वायरल होती पोस्ट और लाईक, कमेंटस का बाजार appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
38. स्वच्छता अभियान और शौचालयों की भूमिका

स्वच्छता अभियान और शौचालयों की भूमिका ग्रामीण ही नही शहरों में भी स्वच्छता की दरकार !! जरुरत है मानसिकता बदलने की !! स्वच्छता की अलख जगाने की… !! अपने देश को साफ स्वच्छ रखने की… !! मैं और मेरी सहेली मणि बात कर ही रहे थे तभी मणि की पडोसन वहां से जा रही थी. […]

The post स्वच्छता अभियान और शौचालयों की भूमिका appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
39. May I Come In Madam?

 May I Come In Madam?  आज मिर्चा सोमा राठौड   हास्य धारावाहिकों की दुनिया में अपने  अलग अंदाज और वजनदार भूमिका लिए  अपनी  अलग पहचान बना चुकी है . लापता गंज, भाभी घर पर है या May I Come In Madam ? मे अपने अभिनय से सभी को गुदगुदा रही है. आमतौर पर महिलाएं अपना […]

The post May I Come In Madam? appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
40. आत्महत्या, कारण और हमारा समाज

आत्महत्या, कारण और हमारा समाज कल्पना कीजिए कि आपको एक व्यक्ति का पता है कि वो बार बार आत्महत्या की बात कर रहा है उसे कैसे समझाएगें आप ?? असल में, हम टोकने में या बुराई करने में तो जुटे रहते हैं पर समाधान नही निकालते कि कैसे उसे समझाए कि वो अपना इरादा बदल […]

The post आत्महत्या, कारण और हमारा समाज appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
41. टी 20 मैच में जब धोनी ने पत्रकार को धो डाला

टी 20 मैच में जब धोनी ने पत्रकार को धो डाला हमारे देश मे क्रिकेट फीवर चल रहा है.. मुझे क्रिकेट मैच देखने  का ज्यादा शौक नही है हां,पहले सचिन तेंदुलकर का शतक देखने का क्रेज जरुर था और फिर  भारत पाकिस्तान का मैच हो तो वो जरुर ही देखती हूं. इस टी 20 में जितने […]

The post टी 20 मैच में जब धोनी ने पत्रकार को धो डाला appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
42. The Boundless Sublime COVER REVEAL

0 Comments on The Boundless Sublime COVER REVEAL as of 1/1/1900
Add a Comment
43. गुस्सा शांत करने के उपाय

गुस्सा शांत करने के उपाय  Stress Management- Easy Ways to control anger   गुस्सा शांत करने के उपाय –  Stress Management- Easy Ways to control anger 60… 70… 80… 90… 100… 110… ओह कोई फर्क नही पडा. अरे आप हैरान और परेशान मत होईए कि मैं ये क्या और किसलिए कर रही हूं… असल में वो क्या […]

The post गुस्सा शांत करने के उपाय appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
44. फॉर्च्यून पत्रिका और अरविंद केजरीवाल

फॉर्च्यून पत्रिका और अरविंद केजरीवाल ये सम्मान अरविंद केजरीवाल जी को ऑड ईवन लागू करने के लिए मिला. देखा जाए तो जनता का उनके प्रति प्यार भी Odd Even ही रहा … कभी लोग उनसे प्यार करते कभी उनपर नाराज  हो जाते … पर अरविंद जी झुके नही मुसीबतों का सामना करते चले गए … […]

The post फॉर्च्यून पत्रिका और अरविंद केजरीवाल appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
45. की एंड का

की एंड का है एंड था  …  सुनने में जरा अजीब लगा होगा ठीक वैसे जैसे मुझे फिल्म “की एंड का” सुनकर लगा था. वो रील लाईफ है और  पर ये रियल लाईफ है जो अभी तक “है”और अगले  ही पल “था” हो गया … बस जिंदगी इतनी ही छोटी है. “है एंड था” के […]

The post की एंड का appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
46. आर ओ वाटर और हमारी सोच

 आर ओ वाटर और हमारी सोच हेमा मालिनी या सचिन तेंदुलकर अगर कोई चीज बेचें तो वो सौ टका खरी और गरीब कुम्हार बेचे तो उसकी कोई कीमत ही नही… अरे !! पानी तो आर ओ वाटर प्यूरीफायर आने से पहले भी हम पीते थे तो अब इतना नखरा क्यों ?? जरा सोचिए  – एक ज्वलंत […]

The post आर ओ वाटर और हमारी सोच appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
47. हमारा जीवन और छोटी छोटी बातें

हमारा जीवन और छोटी छोटी बातें अक्सर खुल्ले पैसे नही होते तो दुकानदार टॉफी थमा देते है पर यहां कुछ और ही चक्कर हुआ … क्या आप बाजार जा रहे है … !! अरे !! मैने तो इसलिए पूछा कि अगर जा रहे हैं तो खुल्ले पैसे ( change)  साथ ले कर जाईएगा कभी मणि […]

The post हमारा जीवन और छोटी छोटी बातें appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
48. टी20 वर्ल्ड कप क्रिकेट और विराट कोहली

टी20 वर्ल्ड कप क्रिकेट और विराट कोहली   (तस्वीर गूगल से सा आभार ) जब हमनें मैदान मार लिया …. भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच सेमीफ़ाइनल की दौड़ के लिए मैच मोहाली में खेला जा रहा था ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी करने का फ़ैसला किया. ऑस्ट्रेलिया की मज़बूत टीम कहलाती है इसलिए  बहुत […]

The post टी20 वर्ल्ड कप क्रिकेट और विराट कोहली appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
49. स्वच्छ भारत अभियान और हमारा समाज

स्वच्छ भारत अभियान और हमारा समाज कुछ देर पहले एक सहेली के घर जाना हुआ. उनका दस साल का बेटा स्कूल की पिकनिक से लौटा था. मेरी सहेली ने उसको कपडे दिए और उसकी यूनिफार्म तह करके रखने लगी अचानक जेब में कुछ मिला और चिल्ला कर अपने बेटे को आवाज दी. मैं भी सहम […]

The post स्वच्छ भारत अभियान और हमारा समाज appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
50. सोशल नेटवर्किंग साईट और विराट कोहली की नाराजगी

 तस्वीर गूगल सर्च से सा आभार सोशल नेटवर्किंग साईट और विराट कोहली की नाराजगी कल सारा दिन विराट कोहली का अनुष्का शर्मा के लिए किया गया टवीट और इंस्टाग्राम पर लिखी पोस्ट सुर्खियों में रही और देखते ही देखते न्यूज चैनलों ने इसे बहस का मुद्दा बना लिया. टी 20 के नम्बर वन बल्लेबाज विराट […]

The post सोशल नेटवर्किंग साईट और विराट कोहली की नाराजगी appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment

View Next 25 Posts