What is JacketFlap

  • JacketFlap connects you to the work of more than 200,000 authors, illustrators, publishers and other creators of books for Children and Young Adults. The site is updated daily with information about every book, author, illustrator, and publisher in the children's / young adult book industry. Members include published authors and illustrators, librarians, agents, editors, publicists, booksellers, publishers and fans.
    Join now (it's free).

Sort Blog Posts

Sort Posts by:

  • in
    from   

Suggest a Blog

Enter a Blog's Feed URL below and click Submit:

Most Commented Posts

In the past 7 days

Recent Posts

(tagged with 'Blog')

Recent Comments

JacketFlap Sponsors

Spread the word about books.
Put this Widget on your blog!
  • Powered by JacketFlap.com

Are you a book Publisher?
Learn about Widgets now!

Advertise on JacketFlap

MyJacketFlap Blogs

  • Login or Register for free to create your own customized page of blog posts from your favorite blogs. You can also add blogs by clicking the "Add to MyJacketFlap" links next to the blog name in each post.

Blog Posts by Date

Click days in this calendar to see posts by day or month
new posts in all blogs
Viewing: Blog Posts Tagged with: Blog, Most Recent at Top [Help]
Results 26 - 50 of 1,496
26. One Star for Two Mice!

Kirkus says:

The deceptively simple counting story of two mice, their adventure, and friendship. One morning in Ruzzier’s imaginative and colorful world, two mice wake to explore. The tiny window above the bed beckons: water, mountains, and sky are waiting for these two. Starting before the title and ending on the copyright page, minimal text says all that is needed: “One house / Two mice / Three cookies. / Three boats / Two oars / One rower. / One nest / Two eggs / Three ducklings.” New readers will soon notice the number pattern and slow down to see how the droll illustrations extend the story. For instance, the mouse with one cookie has an angry expression and a rather tightly curled tail, while the loose-tailed mouse looks gleeful as it chows down on two cookies. The sunny rowboat scene is not so sunny for the mouse who has to manage the two oars. By the time the two buddies return to their home, all is forgiven when the delicious soup is served. (And, in a visual nod to Sendak, it is clearly “still hot.”) The small trim size and careful attention to details give this book enormous appeal; the decorative floor tiles, ornamental feet on the kitchen table, and mismatched stools fit right in with the red hills and ever changing sky. The simplicity of the text means that the earliest readers will soon be able to pick it up and will return to it over and over. One story. Two mice. Three cheers. Lots to love.

Screen Shot 2015-03-13 at 11.51.59 AM

 

0 Comments on One Star for Two Mice! as of 1/1/1900
Add a Comment
27. शुभ लाभ

शुभ लाभ

बेशक, घर लेते या बनवाते समय नक्शे ,वास्तु और ऐसी चीजे जो सुख समृदि लाए आदि रखने का बहुत क्रेज हो गया है. हम लोग घर बनवाने के बाद उसकी सजावट में कोई कसर नही छोडते और महंगी से महंगी चीजे लगवाते हैं ताकि दूसरे लोग देखें. कोई दिक्कत नही जिनके पास पैसा है वो तो  दिखाएगें ही.

 

 photo

बात ये नही है बल्कि बात ये है कि  इसके साथ साथ घर को पूरी तरह से व्यवस्थित रखना भी उतना ही जरुरी है जैसाकि , रंग-रोगन पुराना न पड़े. टपकने वाले नलों की मरम्मत होनी चाहिए. फ्यूज बल्बों को बदलवाने जरुरी हैं,शीशे साफ और खिड़कियों के टूटे कांचो को बदलना भी चाहिए. यकीनन इससे शुभ लाभ की प्राप्ति होगी घर मे बरकत आएगी…

शुभ लाभ  के लिए सबसे ज्यादा जरुरी है  शौचालय की स्वच्छता. कई लोग घर के बाहर की तरफ शौचालय बनवा लेते हैं पर  उसका रख रखाव सही नही कर पाते और जो भी घर के भीतर दाखिल होता है उसको बदबू से दो चार होना पडता है उसे साफ रखना जरुरी है क्योंकि, घर के स्वास्थ्य का सीधा संबंध हमारे  स्वास्थ्य से है. वैसे त्योहारो में घर की सफाई हो ही जाती है पर ये वाली सफाई हमेशा रहनी बेहद जरुरी है …( शुभ लाभ)

The post शुभ लाभ appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
28. सकारात्मक सोच

नेट एक बहुत अच्छा माध्यम है बहुत सारी बातें खोजने का. मुझे सकारात्मक सोच के  विचार पढने बेहद पसंद हैं. एक दिन एक बहुत अच्छे से विचार की तलाश में मैने बहुत साईटस देखी . देखते देखते एक विचार बहुत पसंद आया.मैं उसने नोट करने ही वाली थी कि सोचा चलू और आगे देख लूं शायद उससे भी अच्छा मिल जाए .

और बेहतर के चक्कर में मैं आगे सकारात्मक सोच देखने लगी पर कोई पसंद ही नही आया फिर सोचा चलो पहले वाला ही विचार अच्छा था वही नोट कर लेती हूं  पर ओह नही … वो भी गायब हो गया. यानि बहुत सारी साईटस सर्च कर रही  थी ना वो उसी में कही गुम हो गया.  खोजा… खोजा उसे बहुत खोजा पर !!!  पर मिला नही :( और याद भी नही था कि क्या लिखा था. मात्र एक लाईन तो नही डाल सकती थी ना …

तभी मेरे मन में विचार आया कि जिंदगी मे भी अक्सर ऐसा होता है जो हमारे पास होता है उसकी परवाह नही करते और बेहतर और अच्छा खोजने के चक्कर मे हम अपनो को भी खो देते हैं इसलिए जो है उसी की वेल्यू करनी चाहिए और खुश रहना सीखना चाहिए नही तो मेरी तरह परेशान होना पडेगा!! सकारात्मक सोच

 

The post सकारात्मक सोच appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
29. National Geographic’s Newsmaker Challenge – Step Up to the Plate to Fight Food Waste

NewsmakerLogo

 

On May 12th, National Geographic launched its first annual Almanac Newsmakers Challenge in conjunction with the release of their 2016 edition of the New York Times bestselling National Geographic Kids Almanac (($14.99; ISBN: 978-1426319228; Ages 8-12). The first challenge is inspired by National Geographic Emerging Explorer and food waste warrior Tristram Stuart, author of Waste: Uncovering the Global Food Scandal (W.W. Norton & Co., 2009). Step Up to the Plate to Fight Food Waste asks kids to take the pledge to “waste less food” and draws attention to the vast amount of food wasted worldwide.

Stuart estimates that each year, the United States alone wastes about 40 million tons of food – enough to feed the 1 billion malnourished people on the planet. The Newsmaker Challenge website provides kids with food waste facts and tips to motivate them to make a difference at the grass-roots, consumer level. Step Up to the Plate ideas include paying attention to how much food gets thrown away at your next meal and then planning carefully to avoid wasting any food for a day or even a whole week, having a potluck party where everyone brings something creative and delicious made out of leftovers, or asking your school cafeteria to step up to host a “Waste Less Food” week.

Kids will be able to read about how their actions made a difference in next year’s 2017 Almanac, from the ages of the participants who stepped up, to the number of family members who multiplied their efforts, to the amount of food saved as a result. They can also look for a new Newsmaker Challenge every year to encourage them to continue being a positive force in the world around them.

Visit http://kids.nationalgeographic.com/explore/almanac-2016/ to take the pledge and download all the tools necessary to step up to the plate in this year’s 2016 Almanac Newsmaker Challenge!

 

tristram-stuart-web_79458_200x150About Tristram Stuart

Stuart became interested in the subject of food waste when he was a student and living on a small farm in England. He observed what was going on in his neighborhood and came up with some great ideas on how he could feed his farm animals and waste less food. The more he learned, the more he wanted to do more to feed not just his animals, but people around the world. He is an author of the award-winning book, Waste: Uncovering the Global Food Scandal, the founder of a global charity (www.feedbackglobal.org), and winner of the international environmental award, The Sophie Prize 2011, for his fight against food waste.

0 Comments on National Geographic’s Newsmaker Challenge – Step Up to the Plate to Fight Food Waste as of 6/4/2015 10:44:00 AM
Add a Comment
30. The Joy of Sadness

Joy of SorrowA friend just died and so of course I’m very sad.

A little girl cries over her scoop of pistachio ice cream melting on the sidewalk.

How sad is that empty cone? And look at those tears. She hasn’t learned that gravity works against us till our dying day.

A gull with straw in its beak perches on the peak of my roof. Two hours ago I watched it mount its mate to fertilize the egg that would hatch in the nest that no longer sits on my roof because there’s no way a gull family is going to turn my roof into a guano factory this summer as it did last. No way!

Still, it’s sad.

Life never seems to work out, however well we arrange the pieces or play the game. According to most wisdom traditions, that’s good news.

My friend’s passing is sad and yet his absence leaves me with memories of his participation in our writing group over many years. In the empty space he leaves behind I find myself more determined than ever to write well and fast and publish again without delay.

That little girl, is she not the picture of sadness? But aren’t our saddest moments those that loom largest in memory? We look back at them as stepping stones toward our growing up. This ice cream failure can serve her in this way. I hope I’m right.

And a gull with no nest, how sad is that?

PJ circa 1972 2I don’t mind being sad. I don’t disparage sadness as a state of being.

I’ve often been told I look sad, and yet I often fall asleep at night feeling showered by gifts.

Sadness!—if I were a poet I would write an ode to sadness.

Such as the time I received the “Dear John” letter in the mail.

I don’t expect you to believe this but as I laid eyes on the envelope thunder mumbled overhead. As I opened the letter the room fell dark and as I read the deadly words the door slammed shut with a gust of wind that delivered such a deluge of tropical rain hammering on the tin roof that sadness seemed to bury me alive.

How long was I a ghost? You’ll have to ask my then-roommate because it wasn’t long before he couldn’t take it anymore and he tossed me a book, saying, “Read this.” Just tossed it and turned away without bothering to see if I caught it, as if I were a beggar in the gutter.

The scene is vivid in my mind, the trajectory of that book flying towards me, a second in time that became the hinge around which my life turned forever.

To this day, the radical attitude I encountered in that rare little book underpins my understanding of the human condition. It laid the groundwork for my existential experiments in India. It underpins my theory of Story as I present it in my two eBooks, Story Structure to Die For, and Story Structure Expedition—Journey to the Heart of a Story.

And all because sadness turned me into an empty begging bowl, I guess. And because gifts would seem to seek the empty place. Is that true?

If so, is that a paradox? Or does that make eminent sense?

I don’t quite know how to end this. I want to return to my writer friend, Rick (may he rest in peace), and to the girl and the gull and to all lovers who fly the coop. It seems I’m surrounded by events that make me sad, but what I want to say is that I’m sorrow’s willing victim.

I could even say that sorrow likes me. It pounds on my roof. It keeps trying to build a nest up there, for goodness sake.

The mystics say that’s good news.

And that little book that changed my life explains why that might be so. It’s called Positive Disintegration, by Kazimierz Dabrowski. He was no mystic, but he had all the reason in the world to be sad.

Perhaps that’s why he and I became such good friends.

I’m going to write about that next.

 

Add a Comment
31. No smoking please

 

 

cartoon smoking by monica gupta

No smoking please

एक जानकार बहुत  स्मोक करते हैं वो हर बार अपना टारगेट रख लेते है कि बस होली के बाद कभी लूंगा… फिर राखी पर बात आती है फिर दीपावली पर और फिर नए साल पर … साल दर साल गुजरते जा रहे हैं पर छोड नही पा रहे. मुझे  एक बात याद आई कि एक आदमी ने पेड पकडा हुआ और जोर जोर से चिल्ला रहा कि बचाओ पेड ने मुझे पकड रखा है .. जो देखता हंसता कि भई पेड क्या पकडेगा. तूने ही पेड को पकडा हुआ है. हमारे जानकार भी हालत भी ऐसी ही है. सिग्रेट को पकडा उन्होनें हुआ है और चिल्ला रहे हैं कि बचाओ सिग्रेट ने उन्हें पकडा हुआ है … ह हा हा !!! वैसे हंसना नही चाहिए क्योकि बात बहुत गम्भीर है.

31 मई को वर्ल्ड नो स्मोकिंग डे है सोचा आज इसी पर अपने विचार लिख डालू  smoking  पर सर्वे करने के बाद हैरानी ये पढ कर हुई कि नशे की लत में महिलाएं भी पीछे नहीं हैं और तो और महिला स्मोकर्स की तादाद में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। एम्स के डॉक्टरों का दावा है कि पिछले पांच सालों में महिलाओं में स्मोकिंग 11 पर्सेंट से बढ़कर 20 पर्सेंट तक पहुंच गया है। डॉक्टरों का यह भी कहना है कि महिलाओं में स्मोकिंग की यह लत साल दर साल बढ़ती ही जा रही है.

ग्लोबल एडल्ट टोबैको सर्वे (गैट्स) के अनुसार भारत में कुल जनसंख्या के लगभग 35 पर्सेंट लोग नशा करते हैं। इसमें युवाओं की संख्या सबसे ज्यादा है। मौजूदा समय में 20 पर्सेंट महिलाएं नशे की गिरफ्त में हैं। 31 मई को वर्ल्ड नो स्मोकिंग डे है। स्मोकिंग को लेकर एम्स के डॉक्टरों का कहना है कि आजकल अगर कोई नशा करता है, चाहे वह महिला हो या पुरुष, अब वे स्मोकिंग को अपना स्टेटस मानते हैं और मजबूरी नहीं, बल्कि शौक से पीते हैं। यही शौक उनकी लत बन जाती है और फिर यह लत एक दिन उन्हें बीमार करती है। अब पुरुषों की तरह महिलाएं भी कम उम्र में सिगरेट पीना शुरू कर रही हैं। कहीं-कहीं तो यह भी देखा गया है कि महिलाएं पुरुषों के मुकाबले ज्यादा सिगरेट पीती हैं। उनकी यही आदत स्वास्थ्य को बहुत ही ज्यादा नुकसान पहुंचा रहा है। इसकी वजह से उनमें फेफड़ों के कैंसर का रिस्क और भी ज्यादा बढ़ जाता है।

इस बारे में राष्ट्रीय दवा निर्भरता उपचार केंद्र (एनडीडीटीसी) के हेड डॉक्टर एस. खंडेलवाल का कहना है कि तंबाकू का यूज चाहे किसी रूप में किया जाए, उसका नुकसान तो होना ही है।

एनडीडीटीसी में अडिशनल प्रोफेसर डॉक्टर सोनाली ने कहा कि आजकल बच्चे भी नशे के आदी होते जा रहे हैं। बच्चों में नशे की लत इतनी तेजी से बढ़ रही है कि अगर उसको रोकने के लिए जल्द ही कुछ कड़े कदम नहीं उठाए गए, तो उसके नतीजे काफी खतरनाक हो सकते हैं। क्योंकि अगर बच्चे दस साल की उम्र में कोई नशा करते हैं तो वह लंबे समय तक इसका यूज करेंगे और उसे खतरनाक बीमारी होने की आशंका ज्यादा होती है। डॉक्टर ने कहा कि अब स्मोकिंग छोड़ने के कई उपाय हैं जिनमें मेडिकेशन, काउंसलिंग और जरूरी दवा के जरिए अपनी इस लत से छुटकारा पाया जा सकता है

No smoking please….

6 Ways Quitting Smoking Is Good for Your Heart| Everyday Health

One of the most important things you can do to keep your heart healthy — and to keep it beating for as long as possible — is to avoid or quit smoking. If you’re a smoker, kicking the habit can heal the damage nicotine inflicts on your heart and on your longevity in several striking ways. See more…

सस्मोकिंग की चाह जगे तो पुस्तक पढें, कसरत करें और ध्यान में मन लगाएं। सकारात्मक सोच और दृढ़ इच्छाशक्ति से ही इस बुरी आदत से मुक्त हो सकेंगे। आयुर्वेद विशेषज्ञों के अनुसार शतावरी, ब्राह्मी, अश्वगंधा जैसी जड़ी-बूटियां और त्रिफला व सुदर्शन चूर्ण शरीर से दूषित पदार्थों को बाहर निकालने का काम करते हैं। लिंग और जरूरी दवा के जरिए अपनी इस लत से छुटकारा पाया जा सकता है

best way to quit smoking

See more…

कुल मिला कर यही कहना है कि जो अखबार मे लिखा रहता है कि सिगेट पीना स्वास्थय के लिए हानिकारक है वो ऐसे ही नही लिखा हुआ … वाकई में बहुत भाव छिपा है इसके पीछे … अगर आप वाकई में … गौर कीजिएगा, वाकई में छोडना चाह्तें हैं तो आप इसे छोड सकते हैं क्योकि सिग्रेट  ने आपको नही बल्कि आपने सिग्रेट  यानि मौत को पकड रखा है…  और शुभ काम के लिए हर समय शुभ है और सिग्रेट छोडने से ज्यादा शुभ विचार कोई और हो ही नही सकता

No smoking please….

The post No smoking please appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
32. Twitter

cartoon bird

Twitter … Twitter … हर कोई सोशल नेट वर्किंग साईट पर लगा टवीट किए जा रहे है पर रियल लाईफ में  tweet सुनना ही भूल गए. अब अगर आपको भी ये टवीट सुनना है तो घर की छत पर या आंगन में पानी से भरा बर्तन रखना पडेगा … सच मानिए भरी झुलसती गरमी मे जब पक्षी टवीट टवीट  करते आएगें तो दिल को सुकून मिलेगा … भई मुझे तो उस टवीट से अच्छा ये टवीट लगता है :)

 

PM Narendra Modis one year Twitter record: 8.5 million followers

Prime Minister Narendra Modi has garnered close to 8.5 million followers on Twitter in the span of one year, statistics from the popular micro-blogging network showed. The figures are an indicator of the Prime Minister’s efficacy on social media websites where he is very active. PM Modi remains the third-most followed world leader on Twitter after US President Barack Obama and Pope Francis. See more…

Twitter हो या सोशल मीडिया की कोई भी साईट … अच्छा है जुडे रहना चाहिए पर पक्षियों को भी पानी और दाना देते रहेंग़ें तो बहुत बेहतर होगा…

The post Twitter appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
33. Youth and depression

Youth and depression सुनकर आपके मन में भी बहुत बातें आ रही होगीं. क्या होता जा रहा है आज के युवा को !! सोच कर ही धबराहट होने लगती है. सोनम शर्मा का बेटा पढाई में बहुत अच्छा है. हाल ही में उसका 12वी क्लास का नतीजा आया और उसने खुद को कमरे में बंद कर लिया. नतीजा मेरे हिसाब से बहुत अच्छा था 89.6 % अंक आए थे पर इस शर्म के मारे की लोग क्या कहेंगें. इतने कम अंक लाया है. आगे अच्छे कालिज मे दाखिला कैसे होगा इसी चिंता में खुद को कमरे मे बंद कर लिया और मोबाईल भी स्वीच आफ कर दिया. अगले दिन जब तक उसने दरवाजा नही खोल दिया.  सोनम की जान अटकी रही उसे  डर   सिर्फ इसलिए कि उनका बेटा कुछ गलत कदम न उठा ले.

इसके बहुत कारण हो सकते हैं  जिसमे से एक है माता पिता की  बच्चों से बह्त ज्यादा उम्मीदें  वो सोचते हैं कि बच्चे पर बहुत पैसा खर्च किया है अच्छी से अच्छी कोचिंग दिलवाई है इसलिए अच्छे अंक तो आने ही चाहिए. बच्चा उस उम्मीद को पूरा नही कर पाता और निराशा में चला जाता है. एक बात यह भी हो सकती है कि   एकल परिवार का होना और माँ-बाप, दोनों का कामकाजी होना. यही बात बच्चों को एकांकी और चिड़चिड़ा बना देती  है  आखिर विचार-दर्शन उन्हें कौन करायेगा, माता पिता अपने आफिस कार्य मे व्यस्त हैं और युवावर्ग चौराहे पर खड़ा है. वे जायें तो किधर जायें । अपनी जीवन-गति का निर्माण करें, तो किस प्रकार करें  कौन बतायेगा कौन सही राह दिखाएगा.

एक बात यह भी हो सकती है कि पेरेंटस हद से ज्यादा जरुरत से ज्यादा बच्चे का ख्याल रखते हैं पर इसी के साथ साथ बच्चे की इच्छा जाने बिना वो बच्चे पर अपनी इच्छा लादने या थोपनें की कोशिश करते हैं जिससे बच्चा अपना शत प्रतिशत नही दे पाता और जिंदगी मे ईम्तेहान में लगातार फेल होता जाता है.

फिर बात आती है हमारे समाज की. परीक्षा के दौरान नकल, रिश्वत खोरी, पेपर लीक आदि का होना भी युवा मे depression ,आक्रोश भर  देता है और ईमानदारी से मेहनत करने वाला युवा सिस्टम को देख कर अपना हौंसला छोड देता है.

इन सब के साथ साथ संगत बहुत ज्यादा असर डालती है. बिगडे हुए रईसों के साथ दोस्ती करके और नशे में डूब कर अपना जीवन बर्बाद कर लेते हैं.  खुद को स्मार्ट और मार्डन दिखाने के चक्कर में नशा करना वो जिंदगी का अभिन्न अंग मानने लगते  हैं  और इसके साथ साथ सबसे बडा फेक्टर है धैर्य की कमी और यही आज के युवाओं की सबसे बड़ी कमजोरी है.  धैर्य की कमी के कारण आज का युवा सब चीज बस जल्द से जल्द पाना चाहता है.  आगे बढ़ने के लिए वे कड़ी मेहनत करने की बजाय शॉर्टकट्स यानि आसान रास्ता  ढूंढने में लगे रहते हैं. कम समय में सारी आधुनिक चीजों को पाने के लालच में उनमें समझदारी की कमी नजर आती है। भोगविलास के आद‍ी  युवा में लगन, मेहनत, जोश, उमंग और धैर्य की कमी हो गई  है.

Youth  depression में होता है तो पूरा परिवार  मानों  depression मे चला जाता है. बहुत जरुरी है आज के युवा के साथ समझदारी से बात करना. उसकी मन की भावनाओं को समझते हुए उसके हिसाब से बात करना.

 

Youth depression a concern for counselors

Substantial levels of “loneliness, anxiety and depression” among Cayman’s youth, identified in a series of health surveys came as no surprise to counselors in the territory.  Read more…

New Strategies to Treat Depression in Youth

http://www.empr.com/new-strategies-to-treat-depression-in-youth-using-ssris/article/413048/Two new strategies have been developed by Johns Hopkins researchers to treat depression in young patients using serotonin reuptake inhibitors (SSRIs) while mitigating the risks and potential negative effects such as increased suicidal thoughts. The strategies are published in Translational Psychiatry. See more…

 

Picvend.com

http://www.picvend.com/2015/04/blog-post_102.html

 

 

 

 

 

 

समय प्रबंधन की विशेषज्ञ एवं चर्चित किताब ‘व्हाट द मोस्ट पीपल डू बिफोर ब्रेकफास्ट’ की लेखक लौरा वंदेरकम लिखती हैं कि अगर आप किसी चीज को करना चाहते हैं तो आप उसे सबसे पहले करिए। हमारे बीच के लोग जो आज सफलता की सीढ़ियां चूम रहे हैं एवं जिंदगी की सफलता का जमकर लुत्फ उठा रहे हैं वे इसी फिलॉसफी पर चलते हैं See more…

 

Youth and depression में कुल मिला कर बात का निचोड यही है कि बजाय चिंता मे जाने मे अपने भीतर गुणों को विकसित करें. पीपल स्किल यानि नेतृत्व का गुण, अपना व्यवहार और दूसरों को प्रेरित करने की कला खुद में डालिए. खुद को एक शानदार पैकेज बना डालिए और भेड चाल और भीड से हट कर चलने का प्रयास कीजिए.  समय को महत्व देते हुए आप अपने प्रयासों मे जुटे रहिए … और वो फिल्मी डायलाग है ना कि किसी चीज को शिद्दत से चाहो तो पूरी कायनात उसे आपसे मिलवाने में जुट जाती है तो भागाईए डिप्रेशन विप्रेशन को क्या बला है ये और नए उसाह, नए जोश और नई उमंग से उठ खडे होईए

The post Youth and depression appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
34. कैसे करें खुद को प्रोत्साहित

भाग दौड भरी जिंदगी में अक्सर खुद को प्रोत्साहित करना बहुत जरुरी हो जाता है पर … कैसे करें खुद को प्रोत्साहित… यक्ष प्रश्न है. पर कुछ ही देर मे मुझे इसका उत्तर भी मिल गया . किसी काम से मेरी सहेली  मणि के घर जाना हुआ  तो वो किसी से बात कर रही थी ” कमाल है,तुम तो वाकई में बहुत समझदार हो. मतलब कि हर बात को कितनी सहजता से ले कर उसका समाधान निकाल लेती हो और कोई तनाव नही रखती हमेशा स्माईल ही रहती है चेहरे पर हमेशा ऐसे ही रहना शाबाश,कीप इट अप…

मैं सोच ही रही थी कि किससे बात कर रही होगी अंदर गई तो दूसरा कोई नजर नही आया. मेरे पूछ्ने पर बोली अरे तूने सुन लिया… और स्माईल करती हुई बोली कि शीशे के सामने खडी होकर खुद से बात कर रही थी. खुद को मोटिवेट करना भी बहुत जरुरी होता है इसलिए अक्सर वो यह काम करती रहती है.. मुझे यह बात बहुत पसंद आई. सही है जब तक हम खुद को शाबाशी नही देंगें उत्साहित नही करेंगें तो आगे कैसे बढेग़े…

वैसे नीचे Motivational Quotes भी दिए हैं ताकि आप भली प्रकार समझ सकें

 

14 Motivational Quotes to Keep You Powerful

I once despised motivational quotes, probably because my wrestling coach liked to say, “If you’re not puking or passing out, then you’re not trying hard enough.” Read more…

हमे हमेशा खुद प्रोत्साहित करने के साथ साथ मोटिवेशनल साहित्य भी पढते रहना चाहिए इससे हमे बहुत नई जानकारी मिलती है और साथ साथ हौंसला भी मिलता है.

 

50 Motivational Quotes

http://www.entrepreneur.com/article/245810
Here, in 50 inspiring quotes, businesswomen, role models, activists, entertainers, authors, politicians and more share their thoughts on leadership and success — and what exactly those mean to them. 50 Motivational Quotes From Disruptive, Trailblazing, Inspiring Women Leaders

 

मेरे विचार से अब तो नही सोच रहे होंगें कि कैसे करें खुद को प्रोत्साहित …. वैसे अब मुझे भी घर लौटने की जल्दी थी खुद को प्रोत्साहित  जो करना है शीशे के सामने खडे होकर … और आप ?? आप तो करते ही होंगें अगर नही करते तो आज से ही करना शुरु कर दीजिए….

फिर जरुर बताईएगा कि कैसा लग रहा है !!!

The post कैसे करें खुद को प्रोत्साहित appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
35. Cartoon- Sabsidy

cartoon- sabsidy -monica guptaSabsidy in india … जिस तरह से देश में सब्सिडी की लहर चल रही है तो मिठाई वाला भी किसलिए पीछे रहे … इसलिए …

The post Cartoon- Sabsidy appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
36. Facts about Left handed people

समाज में बहुत  तरह के लोग रहते हैं. सभी की अपनी अपनी खासयित होती है अब अगर Facts about Left handed people की बात करें तो कई लोगो को complex  होता है इस बात का कि Left handed  यानि खब्बू होना सही नही होता.

आज एक जानकार के घर जाना हुआ . वो अपनी बेटी को होमवर्क करवा रही थी और लडकी रोती हुई गंदी लिखाई मे लिख रही थी.मेरे पूछने से पहले ही उसने बताया कि उसकी लडकी खब्बू यानि उल्टे हाथ से लिखती है इसे जान बूझ कर लिखाई करवाती हूं ताकि सीधे हाथ से लिखना सीख जाए बडी होगी तो लोग क्या कहेंगें. अरे !!! मैने कहा ऐसा नही होता .. ये तो ईश्वर का दिया वरदान होता है जिस हाथ से लिखे लिखने देना चाहिए ऐसी टोका टाकी से ना सिर्फ इसके मन मे हीन भावना आ जाएगी बल्कि लिखने से भी कतराने लगेगी. एक धंटा उसको समझाया. शुक्र है कि उसे समझ आ गया ..फिर उसकी बेटी ने भी पंद्रह मिनट मे होमवर्क खत्म कर लिया.

वैसे जब मुझे पता चला था कि लेफ्टी भाग्यशाली होते हैं मैने भी बहुत बार उल्टे हाथ से लिखने की कोशिश की थी पर … ह हा हा उल्टे हाथ का चांटा भी जबरदस्त होता है अरे… आप क्या सोचने लगे !!

Top 5 amazing facts about left-handed people that you probably did not know!

1. Just 10% of the world’s population is left-handed, but there have been many left-handed people who are will be remembered for a very long time. Famous left-handed people include Napoleon, Da Vinci, Michelangelo, Einstein, Newton, Bill Gates, Oprah, Obama and Jimi Hendrix. But at the same time, 40% of schizophrenics are left-handed- reasons unknown. Top 5 amazing facts about left-handed people that you probably did not know!

तो अब मन से वहम निकाल देना चाहिए कि Left handed होना सही नही है बल्कि जो हमारे पास अपनी विशेषताए हैं उसका सही ढंग से उपयोग करना चाहिए

The post Facts about Left handed people appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
37. Which Type

कल एक जानकार ने मुझे कहा कि आपके cartoons  बहुत अच्छे लगते हैं. वो रोज देखती है. इस पर मैने कहा कि पर आपने कभी लाईक या कमेंट तो किया नही इस पर वो बोली कि क्या करुं उसे तो अपना स्टेटेस अपडेट किए भी कई कई दिन हो जाते हैं असल में,मैसेनजर में इतने मैसेज होते हैं कि सभी का जवाब देते देते समय ही निकल जाता है और इतराती हुई बोली हर रोज दस लोग तो नए आ ही जाते हैं. मेरे कहने पर कि बिना जान पहचान इतनी बातें सही नही हैं इस पर वो चिढ कर बोली कि वो नए जमाने की है कोई बहन जी टाईप नही कि किसी के मैसेज का जवाब ही न दे. मुझे याद है कि बहुत समय पहले एक सहेली ने भी इस तरह बहुतों से दोस्ती कर ली और एक से बात इतनी बढ गई कि तंग होकर उसने face book  करना ही बंद कर दिया था. मेरे विचार से समझदारी से काम लेते हुए अपनी गरिमा बना कर रखनी चाहिए और अगर ये बहन जी टाईप विचार है तो मैं बहन जी बन कर ही खुश हूं …!!!

The post Which Type appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
38. Superstition/ face book

Blind Faith … Superstition …

एक फेसबुक मित्र बहुत समय से फेसबुक पर नही दिखी तो मैने उसे मैसेज करके पूछा तो वो बोली कि पिछले दिनों उसने अपनी  एक  दो  तस्वीरे डाली थी  उसपर 200 से ज्यादा लाईक और कमेंट मिले उस दिन के बाद से उसकी तबियत खराब हो गई … मैने पूछा कि तबियत खराब और तस्वीर का आपस में क्या ताल मेल.. तो वो बोली कि नजर लग गई … फोटो बहुत सुंदर आई थी ना नजर लग गई … उसने  बताया कि उसकी सासू मां  भी यही कह रही है कि इसलिए अब वो कुछ दिन फेसबुक पर नही आएगी और आएगी भी तो अपनी फोटो नही  डालेगी.वही कुछ दिन पहले  एक फेसबुक सहेली ने बताया था  कि फेसबुक पर उसने भगवान जी की फोटो शेयर नही की इसलिए उसका दिन बहुत खराब गया. बास से लडाई हो गई और  नौकरी छोडनी पड  रही है.

एक अन्य जानकार ने अपने हजारों दोस्तों को डिलीट  कर नया एकाऊंट बनाया और अपने नाम की स्पैलिंग बदल दी. पूछ्ने पर बताया कि ये ज्यादा शुभ है और इससे ज्यादा दोस्त बनेंगें. मैने देखा कि इतने दिन हो गए और अभी तक उसकी दोस्ती का आकंडा 200 को भी पार नही कियाjail by monica gupta

Oh God ! तभी मुझे याद आया कि कल जय ललिता जी की  CM शपथ लेने के दौरान  राष्ट्रीय गान बीच में ही रुकवा दिया गया ताकि शुभ मुहुर्त न निकल जाए और फिर  शपथ ली. वैसे ये किसी चैनल पर तो नही देख पाई,  आया  होगा, पर अखबार मे जरुर पढा और पढने के बाद दुख हुआ कि आज 21 वीं सदी मॆं हम किस तरह का संदेश देने का प्रयास कर रहे हैं . हमें इन पर रोक लगाने का सोचना चाहिए या वाकई में  बाते मायने रखती है.

The post Superstition/ face book appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
39. You’re Invited to the Global Family Reunion

Screenshot 2015-05-22 13.26.43

On June 6, I’ll be speaking at the Global Family Reunion about my family, my interest in genealogy, ancestry, genetics, and the things we know and stories we tell ourselves about inheritance, and how my fascination with all of this became the book I’m writing. My talk will be at 3:30 p.m.

The reunion, brainchild of AJ Jacobs, also features Jacobs, Henry Louis Gates, CeCe Moore, George Church, Daniel Radcliffe, Lisa Loeb, and many others, and is a full day of events held on the old World’s Fair grounds in Queens. Everyone’s invited.

Tickets are available at EventBrite. Proceeds benefit the Cure Alzheimer’s Fund. Free admission for kids.

Add a Comment
40. Thank You God

धन्यवाद
हे प्रभु
इतना अपनापन दिया आपने
हमने आपको
आप नही “तू” का दिया सम्बोधन
धन्यवाद हे प्रभु
तुमने जो स्रष्टि रची
फल,फूल, पौधो का दिया
नायाब उपहार
धन्यवाद हे प्रभु
तेरे उस प्रतिबिम्ब के लिए
जो तूने धरा को दिया
“नारी” के रुप मे तूने
अपनी कमी को पूरा कर दिया
धन्यवाद हे नारी !!!
कभी मां कभी बहन
कभी सच्ची दोस्त बन कर
तो कभी विदा होती बेटी बन नम कर जाती नयन
साहसी है पर भावुक क्षणो मे कमजोर भी है
पर तू ताकत है इंसा की
क्योकि
प्रतिबिम्ब है तू उस अनंत अपार का
इसलिए
धन्यवाद,हे प्रभु तेरी इस अमूल्य सरंचना का
अमूल्य उपहार का …!!!

मोनिका

The post Thank You God appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
41. Home Sweet Home

कामना न्यूयार्क एयरपोर्ट पहुची. आज वो अपने होम स्वीट होम यानि भारत आ रही थी. कुछ खाली समय था तो टहलने लगी. जेब मे हाथ डाला तो दो चार फालतू के कागज थे. फेकने लगी तो को कोई कूडादान नही दिखाई दिया.उसने उसे वापिस जेब मे डाल लिया.समय बीता. कुछ ही देर मे उसका जहाज नई दिल्ली पहुच गया था. अपने सामान का इंतजार करते करते उसका हाथ फिर अपनी जेब मे गया. वही बेकार कागज पडे थे. उसने तुरंत उसे जमीन पर फेक दिया. इतना ही नही पर्स मे भी कुछ फालतू का छोटा मोटा सामान पडा था. वो भी उसने ऐसे ही जमीन पर फेक दिया. अब वो अपने “होम स्वीट होम” मे जो आ चुकी थी

The post Home Sweet Home appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
42. Parenting

माता पिता की भूमिका हर मायने मे महत्वपूर्ण है. अगर बच्चा पढाई या किसी अन्य क्षेत्र मे जुडा हुआ है तो इसलिए कि उसका ख्याल रखना, देखभाल करना ताकि उसे अपने क्षेत्र मे सफलता मिले और अगर नतीजा अच्छा ना आए तो वो भूमिका और भी ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाती है.

कारण यह है कि आज बच्चे बहुत भावुक हो गए है. सफल ना होने पर उसे दिल से लगा लेते हैं और मायूस होकर बैठ जाते है जैसा कि इंडियन आयडल मे सिलेक्ट ना होने पर हमारी जानकार अमीषा के साथ हो रहा है. उसने कसम खा ली है कि वो कभी नही गाएगी और एक अन्य उदाहरण मे अनिकेत का आईआईटी मे नही हुआ तो उसने खुद को नालायक की पदवी दे दी कि वो आज की दुनिया के हिसाब से वो फेल है उसके जीने का कोई फायदा नही.ऐसे मे अविभावको को बहुत समझदारी से काम लेना चाहिए ताकि बच्चे के मन से ऐसे नकारात्मक विचार निकल जाए… !!! उफ!!!!

ऐसे मे पेरेंटस को भी पेशेंस चाहिए !!! तो हुई ना उनकी महत्वपूर्ण भूमिका !!!

The post Parenting appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
43. Holidays/ hobby classes

छुट्टियो का नाम लेते ही दिल मे बस एक ही बात आती है मौज,मस्ती और शरारत !!! पर आजकल छुट्टियो की भी समझो छुट्टी हो गई है. माता पिता बच्चो को हाबी क्लास ज्वाईन करवा देते है. फिर हर रोज वह आना जाना. कुछ देर पहले दीपा मिली.वो अपने बच्चो को डांस क्लास मे लेकर जा रही थी. जबकि उसके बेटे की ना तो डांस और ना गाने मे रुचि है. उसे बिजली का समान खोल कर उसे जाचना ,देखना बहुत पसंद है. घर मे अगर कोई बिजली ठीक करने वाला आ जाता है तो वो बहुत ध्यान से देखकर समझता है.

वही नेहा बहुत दुखी है उसने बताया कि दो साल पहले उसकी बेटी ने स्केटिंग क्लास ज्वाईन की थी. पिछ्ले साल शौक बदल गया और संगीत सीखा इसलिए उसे महंगे वाला कैसियो खरीद कर दिया. पर इस साल वो कहती है कि तैराकी सीखनी है. दो साल के शौक बेकार गए.

दसवी मे पढने वाले दीपक को लग ही नही रहा कि छुट्टियां है क्योकि दिन मे तीन तीन ट्यूशन मे जाता है वो भी अलग अलग जगह. बारह साल की दिव्या कही नही जाती सरा दिन घर मे रहती है पर मम्मी से सारा दिन डांट ही खाती है क्योकि ना नाश्ता समय पर न लंच समय पर और कोई भी सहेली किसी भी समय टपक पडती है और जब वो चुपचाप बैठ कर दोस्तो को मैसेज करती है या फेसबुक खोल कर बैठती है तो भी डांट

तो हो गई ना छुट्टियो की छुट्टी !!!

The post Holidays/ hobby classes appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
44. Cartoon- Result

cartoon- result monica guptaजब पत्रकार Reporter  ने मौजूदा सरकार BJP  को लेकर उनके विचार जानने चाहे तो नेता जी का कुछ ये कहना था :)

The post Cartoon- Result appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
45. Google- Thank You

google cartoon - monica guptaGoogle Search cartoons

Monica Gupta

While searching  my cartoons  on net . I pressed Google search… i found so many cartoons of mine … as it was not possiple to share all cartons  so i am sharing some of these cartoons

You can also type Monica Gupta cartoons on Google search and see many more  … :)

Thank You Google …

The post Google- Thank You appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
46. Cartoon- Summer

girlहे भगवान … अब गर्मी इतनी बढ गई है कि चाहे  लडका हो या लडकी सब कपडे से अपना मुंह छिपाए बाहर निकलते हैं .. अब ऐसे में, रिश्ते के लिए बच्चे अपनी तस्वीर इस तरह से भेज रहे है … है न हैरानी …

The post Cartoon- Summer appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
47. Cartoon – Maggi

maggi

2 minute Maggi .. बच्चों को पसंद आने वाली मैगी पर अब रोक लग गई है… मम्मी पापा पूरे प्रयासों में है कि बच्चे मैगी की बजाय दाल रोटी ही खाए पर यादों से भुलाना आसान भी नही …

( फिर क्यूं तेरी यादों ने मुझे रुला दिया हो … )

The post Cartoon – Maggi appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
48. Have Patience

एक जानकार हैं दिव्या. बहुत समय से समाचार पत्र मे लेख भेज रही हैं पर छ्पते नही थे और धन्यवाद सहित वापिस आ जाते. सहन शक्ति कम होने के कारण उसने उस अखबार की बुराई करनी शुरु कर दी कि बेकार है,सिफारिश चलती है ना ही इसमे ढंग के लेख आते हैं. सम्पादक बिका हुआ है. तभी अचानक उसकी कहानी प्रकाशित हो गई और उसकी बोलती बंद.आज वही उस समाचार पत्र की तारीफ करते नही थक रही.

वही दिल्ली के एक नौजवान हैं उन्होने डांस शो मे हिस्सा लिया और काफी आगे आ गए तो न्यूज चैनल वालो की लाईन लग गई उनके घर के आगे. पडोसी भी अपना हक समझ कर अपना इंटरव्यू देने के लिए आगे आने लगे  कि उन्हें तो  पहले ही विश्वास था कि जरुर आगे तक जाएगा. बचपने से देख रहे है पूत के लक्षण पालने में ही नजर आ जाते हैं … बहुत मेहनती है. पर वो जैसे ही आऊट हो गया तभी पडोसियो का नजरिया ही बदल गया. कहने लगे … इतना आसान थोडे ना होता है डांस. बहुत मेहनत करनी पडती है. पहले ही पता था कि वो इतनी आगे तक जा ही नही सकता.ऐसे ना जाने कितने उदाहरण भरे पडे है.” वैसे इसमे सरकार को दोष नही दे सकते. दोष हमारा ही है”.

यकीनन आप तो ऐसे नही होंगे है ना !!! अगर हैं तो जरा नही बहुत सोचने की दरकार है !!!!

The post Have Patience appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
49. let the Ego go

कुछ लोगो मे इतना “इगो” भरा होता है कि बस ..!!! अरे!! क्या हो गया अगर बच्चे से या अपने से छोटे से कुछ सीखना पड रहा है! मेरी सहेली मणि को अपने नए मोबाईल के काफी फीचर इस्तेमाल करने नही आते थे तो उसने अपने बेटे से सीखने शुरु कर दिए हालाकि बहुत डांट भी पडी अपने बच्चे से कि क्या आपको एक बार मे समझ नही आता पर वो मैदान मे डटी रही और आज उसे बार बार किसी से पूछ्ने नही जाना पडता.ठाठ से इसे इस्तेमाल करती है अब.

वही एक महाशय है उन्होने बैंक की नौकरी इसलिए छोड दी कि बैंक मे कम्प्यूटर का इस्तेमाल करना जरुरी हो गया था. बहुत सीनियर पोस्ट पर थे इसलिए एक इगो थी कि कैसे सीख ले अपने से छोटो से कि क्या समझेगे वो कि उन्हे ये भी नही आता !!! बस छोड दी नौकरी. मेरे विचार से नए जमाने से कदम ताल मिलाना है तो अपने “अहम” को छोडना ही होगा… इन बातो मे कुछ नही रखा…

 

वैसे आप तो ऐसे बिल्कुल नही होंगें … अगर हैं तो …   !!!!

The post let the Ego go appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment
50. Rakhi

बात राखी की …

कुछ् समय पहले राखी की दुकान पर एक महिला कार से उतरी और दुकान दार से बोली सबसे मंहगी राखी दिखाओ. राखी देखते हुए बोली पिछ्ली बार भी नग वाली राखी लेकर गई थी. भईया ने दस मिनट भी नही पहनी क्योकि उसके नग निकल गए थे कोई और अच्छी और महंगी राखी दिखाओ जिसके नग न निकले.  बहुत देर माथा पच्ची के बाद और ठंडा कोल्ड ड्रिक पी कर दुकान दार ने सबसे महंगी राखी देकर विदा किया.

.वही एक अन्य महिला आई और उसने खूबसूरत डोरी खरीदी. दुकानदार के पूछ्ने पर वो बोली कि पिछ्ले साल भी जो डोरी लेकर गई थी भईया ने बहुत महीने तक पहने रखी इसलिए डोरी ही ले कर जाऊगी ताकि भईया की कलाई पर ज्यादा से ज्यादा समय तक वो सजी रहे  .

सच, बात मंहगी सस्ती की नही ,प्यार की होती है. ऐसे में दिखावा न हो तो त्योहार मनाने का मजा आए

The post Rakhi appeared first on Monica Gupta.

Add a Comment

View Next 25 Posts